चुदक्कड माँ को रंगे हाथों पकड़ी फिर मैं भी चुदी साथ में

Hindi Stories NewStoriesBDnew bangla choti kahini

Maa Beti ki ek saath chudai Story : माँ बेटी की एक साथ चुदाई : हेलो दोस्तों मेरी मां बहुत  बहुत बड़ी चुदक्कड़  है इसलिए आज मैं आपको  उनकी कहानी सुनाने जा रही हूं और उसी कहानी में मैं भी हूं क्योंकि जब यह सब हो रहा था।  ब मम्मी की चुदाई  हो रही थी।  उसी समय ऐसा माहौल बन गया था कि मैं भी मम्मी के साथ ही शामिल हो गई और मैं भी अपनी चूत की गर्मी को शांत कर ली। यह कहानी ज्यादा पुरानी नहीं है कल की ही है इसलिए अभी मैं साफ-साफ आपको नॉनवेज storynew bangla choti kahini पर बता रही हूं। 

मैं भी इस वेबसाइट पर रोजाना आती हूं और रोजाना एक से एक बढ़कर सेक्स कहानियां पढ़ते हो तो आज मुझे भी शेयर करने का मौका मिल गया।  दोस्तों मेरे घर में मैं मेरी मां और मेरे पापा रहते हैं।  और एक ड्राइवर है वह रहता है।  ड्राइवर घर में कभी-कभार ही आता है वह बाहर ही रहता है हमेशा पर मुझे क्या पता था मेरी मां ड्राइवर को अपना दिल दे बैठे थे और फिर मैं भी उसे चुद  जाऊंगी।  ऐसा ही हो गया दोस्तों मैं भी अपने मम्मी के साथ मिलकर अपने ड्राइवर के साथ ही सेक्स संबंध बना बैठे हम दोनों मां बेटी को उसने खुद ठुकाई की मेरे से पहले तो हो मम्मी को पेल रहा था पर जब मैं आ गई तो मुझे भी पेला पर यह सब कैसे हुआ अब मैं सीधा बताती हूं। 

See also  पेटीकोट उठाकर चोद दिया बेटे ने

 कल की ही बात है दोस्तों मेरे पापा आगरा गए हुए थे किसी काम से मैं नोएडा में रहती हूं।  और मैं अपने दोस्त के यहां गई थी क्योंकि अपने दोस्त से मिले तीन चार महीने हो गया था तो मन कर रहा था इसलिए मैं सुबह ही चली गई थी उसके यहां।  दोपहर का खाना पीना नहीं खाई मुझे शाम तक रुकना था पर मुझे काम याद आ गया तो मुझे जल्दी आना पड़ा तुम्हें घर 2:00 बजे दिन में वापस आ गई। 

 घर पहुंची तो मैं दरवाजा खुला हुआ था मुझे लगा मम्मी आसपास कहीं गई होगी पर जैसे ही  मैं अंदर आई मुझे कुछ आवाज सुनाई दे रही थी मम्मी के बेडरूम से आवाज थी मुझे लगा की मम्मी गिर गई है या बीमार है इस वजह से वह कराह रहे हैं मैं दौड़कर उनके कमरे में दौड़ी तो वहां  पहुंचते ही मैं सन्न रह गई वहां का माहौल ही कुछ और था। 

 मेरे मम्मी नंगी थी अद्भुत ड्राइवर जिसका नाम राजू है वह भी नंगा था और मम्मी के ऊपर चढ़ा हुआ था मम्मी अपना पैर राजू ड्राइवर के चारों तरफ फसाई हुई थी। राजू ड्राइवर मेरे मम्मी को पेले जा रहा था चोद रहा था।  मम्मी आह आह कर रही थी और वह जोर जोर से धक्के दिए जा रहा था राजू ड्राइवर का काला गांड साफ साफ दिखाई  दे रहा था क्योंकि वह काला है और मम्मी गोरी ऐसा लग रहा था संगमरमर पर  भालू चढ़  गया। 

 राजू ड्राइवर मेरे मम्मी के चूचियों  को जोर से दबा रहा था ऐसा लग रहा था कि वह नोच लेगा  कस के दबा रहा था लग रहा था और जोर जोर से धक्के दे रहा था मम्मी के मुंह से आह आह और उसकी आवाज आ रही थी घर का माहौल बड़ा अजीब सा था यानी कि पूरा सेक्सी था।  पहले तो मैं 5 मिनट उन दोनों को देखि चुदाई करते हुए। फिर मैं भी सामने आ गई। जब ऐसा लग रहा था कि राजू झड़ने वाला है क्योंकि वह कह रहा था मैडम जी डाल दो मैडम जी डाल दूं तुम्हें समझ गई कि वह का डालने की बात कर रहा है पर  मम्मी कह रही थी अभी मत डालना अब मत डालना अभी और देर तक अभी और देर तक पिछले बार भी तुमने जल्दी डाल दिया था। 

 तभी मैं आगे आ गई वह दोनों देख कर डर गए राजू तुरंत खड़ा हो गया कोने में मम्मी उठकर अपने खुशियों को ढकने लगी और फिर पहनने लगी कपड़े उसके बाद मम्मी बोली बेटा आज मेरे से गलती हो गया इस बात को तुम पापा के साथ मत शेयर करना आइंदा ऐसा नहीं होगा।  तो मैं बोली मम्मी यह तो गलत बात है और वह भी राजू के साथ अपना कुछ तो स्टेटस देखो। 

 तो मम्मी बोली आज के बाद ऐसा नहीं होगा पर दोस्तों सच पूछो तो राजू जैसे च**** कर रहा था मम्मी का मेरा मन तो तभी तरस गया मैं सोचा कि ऐसे तो छोडूंगी नहीं मैंने मम्मी को बोल दिया मम्मी यह बात तो पापा तक जाएगी।  आप तो हमेशा मुझे डांटते रहते हो जब मैं बॉयफ्रेंड को फोन करती हूं तो डांटते रहते हो आप खुद सोचो ना जब आपने इतनी आग लगी हुई है तो मुझे भी तो आग लगती होगी मैं कहां जाकर बुझाओ आप तो राजू से आग अपने बुला लेते हो पर मैं कहां जाऊं। 

 तो मम्मी बोली एक काम करो तुम चाहो तो आज राजू के साथ सो सकती हो मैं बाहर बैठ जाती हूं तू भी अपनी आग बुझाने।  मुझे लगा सही आईडिया है क्योंकि कोई भी मुझे बाद  मुझे कोई चोर लेगा राजू के तरह मुझे खुश नहीं कर पाएगा . यही सोच कर मैं तैयार हो गई और फिर मम्मी बाहर चली गई और मैं राजू को बोले चल मुझे भी चोद मुझे भी वैसे ही देना जैसे तू मम्मी को दे रहा था जोर-जोर से मेरी तो बड़ी-बड़ी चूचियां नहीं है पर हां तुम्हें मजा बहुत आएगा छोटी है और बहुत टाइट है और गोल गोल है। 

 राजू के हाथ में जाने की जो कहिए कि दोनों हाथ में लड्डू थे।  क्योंकि अभी अपनी मालकिन को चोद रहा था अब वह मालकिन की बेटी को चोदा इससे खुश नसीब इंसान और कौन हो सकता है। 

 मैं दरवाजा भी नहीं लगाई और राजू को बेड पर बुला ले पहले उसने मेरे कपड़े उतारे फिर उसने मेरी ब्रा उतारी फिर मेरी पैंटी उतारे उसके बाद वह मेरी छुट्टियों से खेलने लगा चूचियों को दबाने लगा मेरे होठों को किस करने लगा मेरे गाल को किस करने लगा पर मुझे यह समय मजा नहीं आ रहा था क्योंकि मुझे तो डायरेक्ट चुदाई चाहिए थी।  मैंने कहा कि यह सब तो चल दूसरे दिन भी कर लेगा पर आज तो मुझे खुश कर दे जैसा कि तू मम्मी को खुश कर रहा था। 

 उसने तुरंत ही अपने ललंड  को हिलाया।  और मेरी चुत  पर रख दिया  पर उसने बोला मैडम एक बार चोदने के पहले मैं आपकी आपको क्या बोलूं आपको बुरा तो नहीं लगेगा मैं बोली बुरा क्यों लगेगा चाट ले पहले जितना चाटना है। के बाद क्या बताऊं दोस्तों जैसे हो चाट रहा था मेरी चूत को मजा आ गया था पूरा जीभ अंदर तक डाल देता था फिर उंगली डालता था। जैसे ही वो ऊँगली डालता था। मैं पानी पानी हो जाती थी। 

उसने करीब पांच मिनट तक ही मेरी चूत को चाटा उतने में ही मुझे मजा आ गया। मैं मोअन कर रही थी जोर जोर आवाज निकाल रही थी। तभी मम्मी भी आ गई अंदर क्यों की उनसे भी रहा नहीं गया मेरी सेक्सी आवाज सुनकर। राजू को मैं बोली डाल अब लंड मेरी चूत में उसने अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया। तभी मम्मी मेरे बगल में बैठ गई और मेरी चूचियां सहलाने लगी। तभी राजू ने मेरी चूत के अंदर लौड़ा पेल दिया। दर्द तो ज्यादा नहीं हुआ था क्यों की मैं पहने से चुद चुकी हु अपने दोस्त से।

मेरी चूत काफी गीली थी इसवजह से लंड अंदर बाहर आराम से जाने लगा। मैं टांगो के बिच में राजू को फंसा ली और फिर राजू का हाथ अपनी चूचियों पर रख दी वो मसलने लगा और जोर जोर से धक्के देने लगा. मेरी चूत से सफ़ेद रंग की क्रीम निकलने लगी। वो राजू हरेक दो मिनट में चाट जाता था। तब तक मम्मी मेरी कभी राजू को सहलाती कभी मुझेसहलाती। दोस्तों मैं राजू को निचे लिटाई और फिर ऊपर चढ़ गयी।

उसका लंड पकड़ कर मैं खुद ही अपनी चूत में ले ली। और जोर जोर से उठने बैठने लगी। तभी राजू मेरी माँ के चूचियों को पीने लगा मेरी मा उससे अपनी चूचिया पीला रही थी। फिर माँ राजू के मुँह पर बैठ गई और राजू माँ की चुत चाटने लगा। फिर मैं मम्मी को बोली अब लो और चुद लो। फिर मम्मी लेट गई और राजू फिर से मम्मी को चोदने लगा। तब तक मैं राजू के गांड में चूचियां रगड़ रही थी।

फिर मुझे चोदा उसके बाद वो काफी तक गया था और फिर झड़ गया। उसने अपना सारा वीर्य माँ बेटी के मुँह पर डाल दिया। हम दोनों उसके वीर्य को चाट गए। फिर मेरी चूत शांत हुई। मैं दूसरी सेक्स कहानी भी आपको जल्द ही सुनाने जा रही हूँ।

Leave a Comment

Discover more from NewStoriesBD BanglaChoti - New Bangla Choti Golpo For Bangla Choti Stories

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading