बड़ी बहन को चोदने की तलब 3

Hindi Stories NewStoriesBDnew bangla choti kahini

Antarvasna Bhai Bahan Chudai kahani – दोस्तों पिछले पार्ट मे आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी बड़ी बहन अनु को चोदने का प्लान बनाया। इसके लिए मुझे अपनी भांजी को अगवा करने का नाटक भी करना पड़ा। तो अनु दी की चूत मारने का मेरा प्लान सक्सेसफुल होता है या नहीं पढ़िये इस कहानी मे. अगर आप पहली बार इस स्टोरी को पढ़ रहे है तो आपसे अनुरोध है कि इसके पहले 2 पार्ट्स आप ज़रूर पढ़े. ये बहन को चोदने की तलब सीरीज का तीसरा भाग है. तो चलिए शुरू करते है. ये पढ़ें – बड़ी बहन को चोदने की तलब भाग 2

Full Story Ke liye padhe => Bahan ko chodne ki talab

Antarvasna Bhai Bahan Chudai kahani

अनु दी को मैंने कायरा का नकली किडनेपिंग वाला फोटो भेजा और उसको बोला था कि वो ये चीज़ कन्फर्म कर ले और दूसरा वो किसी को भी इसके बारे में ना बताये. और मैं दी के रिप्लाई का वेट करने लगा. मेरे इस खेल में कुछ इम्पोर्टेन्ट था, तो वो थी टाइमिंग. कायरा की मूवी खत्म होने तक का टाइम, यानि कि दोपहर के 3 बजे तक का टाइम था, और अगर इस टाइम तक मेरा काम नहीं हुआ और कायरा ने अपना फ़ोन ऑन कर दिया तो मेरा सारा खेल बिगड़ जायेगा. पर रिस्क है तो इश्क़ है. मैं दी के रिप्लाई का वेट करने लगा और थैंक गॉड के कुछ मिनट्स में दी का रिप्लाई आया.

दी: मैंने स्कूल में पता किया वो वहाँ नहीं है. सच बताओ कि वो तुम्हारे पास है? उसका क्या प्रूफ है? मेरी उससे बात करवाओ.

मै: तुमसे फ़िलहाल उसकी बात नहीं करा सकता, वो बेहोशी में है. पर तुम ये वीडियो देख लो.

और मैंने उसको छोटी सी क्लिप भेजी जिसे मैंने तब शूट किया था जब कायरा बेहोश होने का ड्रामा कर रही थी. मैंने अपना एक हाथ उसके बूब के पास ले जा कर उसे दबाने वाला हूँ ऐसा उस क्लिप में रिकॉर्ड किया था जो मैंने दी को भेजी थी.

मै: तुम्हे अगर और भी प्रूफ चाहिए तो तेरी बेटी के कपडे उतार कर उसकी क्लिप बना कर तुझे भेजता हूँ.

दी: प्लीज नहीं ऐसा मत करना! क्या चाहिए तुम्हे? पैसे चाहिए क्या?

मै: पैसे नहीं बदला चाहिए मुझे?

दी: कौन सा बदला? क्या मतलब है तुम्हारा?

मै: ये पढ़ो पहले.

(और मैंने दी को एक मैसेज सेंड किया जो मैंने पहले ही टाइप करके रखा था)। तुम्हारा हस्बैंड और मेरी छोटी सिस्टर दोनों एक ही कॉलेज में थे और रिलेशन में भी. तेरे हब्बी ने मेरी सिस्टर को शादी के सपने दिखा कर कई बार होटल में ले जा कर उसके साथ सेक्स किया. एक दो बार तो वो प्रेग्नेंट भी हो चुकी थी. और जब शादी करने के लिए मेरी सिस्टर ने उसको फोर्स किया तो वो तेरे साथ सेटिंग करके फॉरन भाग गया. और यहाँ मेरी सिस्टर को समाज में बदनामी मिली. कोई उसके साथ शादी नहीं करता और फिर मजबूरी में बड़ी उम्र वाले विधुर आदमी के साथ उसकी शादी करनी पड़ी. इन सब का कारण तुम्हारा पति है और मेरे हिसाब से तो तुम हो इसका कारण, जिसने जादू करके मेरी सिस्टर के यार को अपने जाल में फसा कर उसको फॉरन ले गयी. तो आज मेरी सिस्टर के आंसुओ की कीमत या तो तू चुकायेगी या फिर तेरी कमसिन बेटी. Antarvasna Bhai Bahan Chudai kahani

दी: भगवान के लिए ऐसा मत करो! क्या चाहिए तुम्हे?

मै: वही जो एक आदमी को एक औरत से चाहिए. जो तेरे हब्बी ने मेरी सिस्टर से कई बार लिया था.

दी (कुछ देर बाद): ठीक है तुम चाहो तो मैं तुम्हारी दी की कीमत चुकाने को रेडी हूँ. मेरी बेटी को कुछ मत करना.

मै (दी के मज़े लेते हुए): क्या मतलब है तुम्हारा?

दी: मतलब कि मैं तुमसे सेक्स करने के लिए रेडी हूँ. बोलो कहा पे आना है?

मै: अगर मुझे चूत ही चाहिए होती तो तेरी ही क्यों?

दी: मतलब?

मै: मतलब ये की तुमको चोदने के चक्कर में कही तुम पुलिस को लेकर आयी तो? और अगर मुझे चूत ही चाहिए तो तेरी तो आलरेडी चुदी हुई है और मेरे पास यहाँ तेरी कमसिन बेटी की वर्जिन चूत है तो उसको ही एन्जॉय ना करू.

दी: प्लीज ऐसा कुछ मत करना. तुम जो बोलोगे वो मैं करुँगी.

मै: ठीक है तो फिर आज तुम अपने भाई से चुदोगी जो यहाँ पे रहता है. तुम अपनी चूत का तोहफा आज अपने भाई को दोगी.

दी: क्या बकवास कर रहे हो?

मै: ये बकवास नहीं है मेरा बदला है. तुम्हे अपने ही भाई से चुदवा कर मेरा बदला पूरा होगा.

दी: ऐसा नहीं हो सकता, कुछ और बताओ.

मै: नहीं अब तो यही होगा. या तो तेरी चूत में तेरे भाई का लंड. या फिर तेरी बेटी की चूत में मेरा लंड. चॉइस तुम्हारी है.

दी (कुछ देर बाद): पर मेरा भाई नहीं मानेगा.

Antarvasna Bhai Bahan Sex Story

मै: ये तुम्हारी प्रॉबलम है और हर रिश्ता एन्ड में तो एक मर्द और औरत का ही होता है. तुम उसके सामने नंगी होगी तो उसका लंड अपने आप खड़ा हो जायेगा.

मै: और प्रूफ के तौर पे अपना छोटा सा वीडियो मुझे भेजना.

दी: नहीं बिलकुल नहीं. मैं अपने भाई के साथ सेक्स कर भी लू तो मैं उसका कोई वीडियो नहीं बनाउंगी. तुम्हे चेक करना है तो उसके घर आके खिड़की में से झाँक लेना.

मै: ठीक है मेरा मकसद तो सिर्फ तुझे तेरे भाई से चुदवाना है. पर ये तुम्हे आज और अभी करना है 2:30 बजे तक. उसके बाद तेरी बेटी तेरे पास होगी. योर टाइम स्टार्टस नाउ.

कुछ देर बाद मुझे दी की कॉल आती है: भाई कहा पे है अभी?

मै: दी मैं फिलहाल तो घर पे ही हूँ.

दी: ओके (और दी ने कॉल कट कर दी).

यहाँ पर मैं अपने प्लान को सही जाता हुआ देख एक्साईटेड था अपनी दी को चोदने के लिए. बस कुछ ही मिंटो में दी की मुलायम चूत में मेरा लंड होगा. मैंने अपना बैडरूम अच्छी तरह सजा रखा था और दी की कॉल आते ही वियाग्रा की फुल पावर की गोली भी मैंने खा ली. अब तो बस दी के आने की वेट हो रही थी. मैंने कमरे में एक दो जगह पे कैमरा भी छुपा कर रख दिए थे जिनकी हेल्प से मैं दी की चूत आगे भी ले सकू. मैं खिड़की से मेन रोड देख रहा था. वहाँ से दी की गाडी आती दिखाई दी तो मैंने झट से अपने बैडरूम में जा कर कैमरा की पोजीशन चेक कर ली और उन्हें ऑन भी कर दिया. दरवाज़े पे दस्तक हुई नॉक-नॉक. अब असली ड्रामा शुरू होने वाला था. गेट पे दस्तक हुई ‘नॉक-नॉक’ और मैंने गेट बाहें फैलाते हुए खोला और साथ ही साथ तेज़ आवाज़ मे बोला ताकि दीदी सुन सके..

मै – अरे प्रिया डार्लिंग बड़ी जल्दी आ गयी।

(फिर दी को देखते हुए सरप्राइज होने की एक्टिंग करते हुए) अरे दी आप और इस वक़्त?

दी: क्यों तुझसे मिलने के लिए अपॉइंटमेंट लेना पड़ेगा क्या?

मै: अरे ऐसी बात नहीं है दीदी. आप अचानक बिना बताये ऐसे मिलने को आयी इसलिए. सब ठीक तो है ना?

दी: है भी और नहीं भी.

(दी की आवाज़ कुछ लड़खड़ाई सी थी और उसकी आँखों में भी थोड़ा नशा सा छाया था. शायद वो ड्रिंक करके आयी थी)

मै: क्या मतलब?

दी: मतलब छोड़ तू मेहमान को कुछ पूछता नहीं चाय पानी वगैरा?

मै: ओह सॉरी दी! मैं तो भूल ही गया. बोलो आप क्या लोगी?

दी: फिलहाल तो तू थोड़ा पानी ही पिला दे.

मै: ठीक है अभी लाता हूँ (और मैं किचन में चला गया).

जब मैं पानी लेकर वापस आया तो दी मेन हॉल में नहीं थी. मुझे लगा की वो मेरे बैडरूम में होगी. मैंने झट से मैं डोर पे ‘डोंट डिस्टर्ब’ वाला साइन लटकाते हुए उसको लॉक कर दिया. और ‘दीदी-दीदी’ चिल्लाते हुए बैडरूम में चला गया. Antarvasna Bhai Bahan Chudai kahani

मै: अरे तुम यहाँ क्या कर रही हो?

दी: बस ऐसे ही देखने आयी थी कि तूने घर को कैसे मेन्टेन कर रखा है. पर यहाँ का नज़ारा तो कुछ और ही बयान कर रहा है.

मै: क्या? (थोड़ा डरने जैसा फेस बनाते हुए)।

दी: तेरे रूम पार्टनर्स घर पे नहीं है. तूने रूम को अच्छे से डेकोरेट किया है. और तूने जब गेट खोला था तो तूने प्रिय डार्लिंग कहते हुए ओपन किया था. कौन है वो? कुछ प्लानिंग था क्या आज उसके साथ?

मै: अरे ऐसा कुछ नहीं है.

दी: छुपा मत बता भी दे. तुझे पता है ना कि हम बचपन में एक-दुसरे के कितने क्लोज थे. सभी बात शेयर करते थे. ये तो फॉरेन की वजह से कांटेक्ट कट सा हो गया. वरना आज मुझे पता होता कि कौन आने वाली है. और तू मुझसे गाइडेंस भी लेता कि कैसे उसको हैप्पी करना है.

मै: क्या बोल रही हो दी आप? और छुपा तो आप भी कुछ रही हो ना? आपकी आँखों से और बातों से पता चल रहा है की आप ड्रिंक करके आयी हो. माना की फॉरेन कल्चर में ये सब नार्मल है. पर दिन में ड्रिंक कौन करता है भला?

दी: तो तूने पकड़ ही लिया. बस थोड़ी सी ही ड्रिंक ली है. क्यूंकि यहाँ जिस चीज़ के लिए आयी हूँ उसके लिए मुझे हिम्मत और ड्रिंक दोनों की ज़रुरत थी. पर तू ये बता ये प्रिया कौन है?

दी बातों में टाइम निकाल रही थी और मेरा ध्यान दो चीज़ो की और था. एक घडी और दूसरा कैमरा. घडी इसलिए की कही टाइम हो गया और कायरा ने अपना मोबाइल ऑन करके दी को कॉल लगा दी. और दूसरा मुझे कैमरा की चिंता थी कि कही उसकी बैटरी खत्म न हो जाये. तो अब मैंने टाइम वेस्ट न करते हुए दी को डायरेक्ट एप्रोच करने का सोचा.

मै: ठीक है दी तो सीधा बताता हूँ आपको. फिर आप भी सीधा बताइयेगा. प्रियंका मेरे साथ जॉब करती है. हम कुछ महीनो से रिलेशनशिप में है. बहुत दिनों बाद आज वो एग्री हुई थी और हमने आज ये प्लान बनाया था?

दी: सेक्स के लिए? (दी हल्का मुस्कुरा रही थी. शायद उसको अपना रास्ता साफ़ नज़र आने लगा)।

मै (सर को झुकाते हुए और थोड़ा शरमाते हुए): हां दी.

Antarvasna Bhai Bahan XXX Story

दी: ओह सॉरी मैं आज कबाब में हड्डी बन गयी. फर्स्ट टाइम है तेरा? मतलब तूने इससे पहले किसी के साथ किया है सेक्स?

मै: नहीं दी. आज फर्स्ट टाइम है. वैसे टीवी मोबाइल में देखा तो है पर कभी किया नहीं.

दी: एक काम कर. तू प्रियंका को कॉल करके बोल कि आज तुम्हारा प्रोग्राम कैंसिल है. तुम उसको फिर कभी बुला लेना. मुझे तुझसे जो काम है उसको बहुत टाइम लगने वाला है.

मै: क्या बोल रही हो दी? बहुत पापड बेलने के बाद आज ये चांस मिला है. फिर ये चांस मिलेगा के नहीं ये मुझे नहीं पता.

दी(थोड़ा सा गुस्सा होते हुए): अरे मैं कह रही हूँ ना तू इतना नहीं समझता. अपनी दी की बात नहीं मानेगा? तू उसको अभी कॉल लगा के मना कर दे, अभी के अभी.

मैं थोड़ा गुस्सा होने का दिखावा करते हुए कॉल मिलाने की एक्टिंग करता हूँ.

मै: हेलो जानू कहा पहुंची? (कुछ देर वेट करते हुए) यार मुझे कुछ फॅमिली इमरजेंसी की वजह से गाँव के लिए निकलना है. हम ये दोबारा प्लान करते है नेक्स्ट वीक? अरे पर मेरी बात तो सुनो हेलो हेलो. (और ऐसे एक्टिंग करने लगा की जैसे सामने से कॉल कट हो गयी हो)। Antarvasna Bhai Bahan Chudai kahani

दी: लगता है तूने इसको बहुत सर पे चढ़ा के रखा है?

मै: आपको क्या इससे? मेरा तो काम तमाम हो गया ना. अब आपको जो कहना है वो कहिये और प्लीज जाइये यहाँ से.

दी: अरे कितनी बेरुखी से तू बात कर रहा है मेरे साथ? उस कल की लड़की के लिए तू मेरे साथ ऐसे बीहेव करेगा? ऐसा क्या है उसमे?

मै: दी इतनी सी बात समझ में नहीं आती? वो मुझे आज देने वाली थी आप थोड़ी ना? (मैंने जान-बूझ कर सेंटेंस आधा छोड़ दिया) सॉरी दी वो मुँह से निकल गया.

दी: क्या बोल रहा था पूरा बोल? कि मैं तुझे क्या नहीं देने वाली थी?

मै: सॉरी दी वो मुँह से निकल गया.

दी: हम्म और तुझे वो मैं आज दे दू तो? जो तुझे आज मिलने वाला था?

मै: क्या? (सरप्राइस होते हुए) क्या बोल रही हो तुम?

दी: यस तुमने सही सुना. आई वांट यू टू फ़क मी राइट नाउ.

मै: पर कैसे? मैं तुम्हे कैसे चोद सकता हूँ? (मैंने जान-बूझ कर फ़क या सेक्स की जगह चोदना बोला जिससे दी को और ओपन कर सकू. )

दी: वैसे ही जैसे तुम अपनी गर्लफ्रेंड को चोदने वाले थे. (दी ने चोदने वर्ड पे भार देते हुए बोला) अपने इससे (मेरे लंड की और इशारा करते हुए).

मै: वो तो मुझे पता है कि कैसे करना है? पर तुम मेरी सगी बहन हो वो भी शादी-शुदा और एक बच्चे की माँ भी हो.

दी: तुम्हे प्रॉब्लम किस चीज़ से है. माना कि हम भाई-बहिन है पर उससे पहले हम एक लड़का और लड़की नहीं है क्या? क्या अगर मैं अपने कपडे निकालूंगी (और उसने फटाक से अपना टॉप निकाल दिया और अपनी ब्रा से बाहर झांकते हुए बूब्स की तरफ इशारा करते हुए) तो मेरे नंगे बदन को देख कर तेरा लंड खड़ा नहीं होगा क्या?

दी: या फिर मेरी चूत तेरा लंड अंदर लेने से मना कर देगी क्या? और रही बात मेरे मैरिड या माँ होने की यू डोंट वरी. तेरी गर्लफ्रेंड से भी ज़्यादा मज़ा दूँगी. ट्रस्ट मी एक्सपीरियंस होल्डर हूँ मैं. तेरे जीजू तो हर वक़्त मौका ही तलाशते है मुझे चोदने का. और आज ये मौका मैं तुझे दे रही हूँ.

अन्तर्वासना भाई बहन की चुदाई कहानी

मै: हम्म वो सब तो ठीक है पर इसका रीज़न क्या है?

दी: इसका रीज़न ये है की. (अपनी ही बात को बीच में कट करते हुए) तुम्हे रीज़न चाहिए या मेरी चूत? इससे कुछ फर्क पड़ेगा? रीज़न तो बाद में भी जान सकता है ना? मै: राइट दी. जब हम दोनों को जो चाहिए वो एक-दुसरे से मिल रहा है तो बाकी सब क्यों सोचना.

दी: तो फिर हो जाओ शुरू अपनी बहन को एन्जॉय करने के लिए.

और दी ने मेरे हाथ को अपने बूब्स के पर रखा और मुझे अपनी तरफ खींचने लगी. मैंने वहाँ से खड़ा हो कर गेट के पास जा कर बैडरूम को अंदर से लॉक कर दिया. और फिर मैंने कमरे की सारी लाइट्स ऑन कर दी जिससे वीडियो अच्छे से रिकॉर्ड हो. मैंने फिर दी के पास जा कर उनको खड़ा किया और उनको स्मूच करने लगा. मेरा एम तो जल्द से जल्द दी को नंगा करके उनकी चूत में एक बार लंड डालने का था. ताकि एक बार दी की पूरी चुदाई कैमरा में रिकॉर्ड हो पाए. मैंने दी को भी खड़ा करके कैमरा के ठीक सामने की पोजीशन में रखा जिससे दी का फेस अच्छे से दिख सके और उनको मैं कैमरा के ठीक सामने नंगा कर सकू. फिर मैंने दी को स्मूच करना स्टार्ट किया और वो भी साथ दे रही थी. जैसे कि हम दोनों एक-दुसरे के होंठो को खा रहे हो ऐसे किश कर रहे थे. दी भी पूरा मज़ा ले रही थी. शायद उसको भी कुछ चेंज चाहिए होगा. मैं उसके बूब्स दबाने लगा और वो थोड़ा सा कराह रही थी. एक माँ होते हुए भी इस उम्र में भी दी के बूब्स टाइट थे. शायद उसने अच्छे से मेन्टेन किया होगा या जीजू का ध्यान सिर्फ दी की चूत पे होगा.

मै: वाओ दी तुम्हारे बूब्स तो अभी भी टाइट है कैसे?

दी: तेरे जीजू को फुर्सत ही कहाँ है और रात को तो वो अपना काम निकाल के सो जाते है. मेरा हुआ कि नहीं मुझे क्या चाहिए ये उनको परवाह ही नहीं.

मै: हम्म्म अगर मैं तुम्हारा हब्बी होता तो मुझे तुम्हारी परवाह ज़रूर होती.

भाई ने बड़ी बहन को चोदा

दी: अच्छा जी तो ये बात है. तो आज देखते है कि तुम मेरी परवाह कैसे करते हो अपने इस लंड से.

और दी ने मेरी पैंट पकड़ कर मुझे अपनी तरफ खींचा और मेरी पैंट के अंदर हाथ डाल कर मेरे खड़े लंड को मसल दिया. मैं तो जैसे सातवे आसमान में था. यकीन नहीं हो रहा था कि मेरी फॉरेन रीटर्न दी के हाथो में मेरा लंड था और वो उसको सहला रही थी. मैंने भी देर न करते हुए अपनी पैंट निकाल दी. अब मैं अंडरवियर में था और मेरा लंड बाहर आने के लिए मचल रहा था. दी ने ही फिर मेरे लंड को क़ैद से आज़ाद किया. मेरे लंड को देख कर तो एक स्माइल दी के चेहरे पे आ गयी जैसे कि उसको भी इसकी नीड थी. पर उसने फिर अपने आप को नार्मल किया.

मै: कैसा लगा दी?

दी: क्या?

मै: मेरा लंड और क्या? सच बताओ कैसा है? जीजू के मुक़ाबले में कैसा लगा?

दी: सच कहूँ तो साइज के हिसाब से तो उनसे बड़ा है. पर इसकी रेटिंग तो इसकी परफॉरमेंस को देख कर ही बताउंगी (और वो हंसने लगी).

दी की ये बात थोड़ी मेरे दिल को चुभ गयी. मेरे मन में आया “साली रंडी तुझे दिखाता हूँ आज मेरी परफॉरमेंस”. और मैंने अपना तना हुआ लंड उसके मुँह के आगे किया तो फिर चलो शुरू करते है. इसको ज़रा सा गीला कर दो मुँह में ले कर.

दी: नहीं मुँह में नहीं प्लीज.

मै: दी बात तो ऐसी है कि मुँह में तो तुम ज़रूर लोगी. क्यूंकि इसके बिना तो मैं तुम्हे चोदने से रहा।

ये सुन कर वो मेरी तरफ आँखें निकाल के देख रही थी). अब तक दी इस सिचुएशन को कण्ट्रोल में कर रही थी. पर मुझे लगा की अब रिमोट कण्ट्रोल मुझे अपने हाथो में लेना चाहिए. क्यूंकि अगर दी इसको कण्ट्रोल करती तो वो रोक लगाती कि ये मिलेगा और ये नहीं मिलेगा. इसलिए शुरू में ही उसको मुँह में लेने को बोल कर मैंने उसको ये मैसेज दिया कि आज का लीडिंग हीरो मैं था. और वैसे भी हर्षद भाई ने कहा है कि ‘रिस्क है तो इश्क़ है’. और यहाँ तो मुझे रिस्क लेकर दी के तीनो छेद आज खोलने थे.

सो फ्रेंड्स कैसा लगा ये पार्ट. कमैंट्स में ज़रूर बताइयेगा. जल्द ही मिलेंगे नेक्स्ट पार्ट में.

Read More Bhai Bahan Sex Stories

See also  मुझे चुदाई की लत लग गयी पापा के दोस्त मुझे चोदते हैं

Leave a Comment

Discover more from NewStoriesBD BanglaChoti - New Bangla Choti Golpo For Bangla Choti Stories

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading