माँ की चुदाई से शादी तक का सफर 2

Hindi Stories NewStoriesBDnew bangla choti kahini

Maa bete ki chudai xxx story:- इस कहानी के पहले पार्ट मे आपने पढ़ा कि कैसे मैंने माँ को कैमरा मे नंगा होकर अपनी चूत मे उंगली करते हुए देखा और फिर उनको चोदने के लिए प्लानिंग बनाने लगा। एजी उसी प्लानिंग का आगे का पार्ट पढ़िये। माँ नहा धो कर बाथरूम से आयी और अपने कपडे पहनने लगी. क्या मस्त लग रही थी वो. उन्होने अपने बालों को खुला ही छोड़ा था। माँ- हाँ बेटा में तैयार हूँ। मै-तो चले? मैंने घडी देखि तो 6:45 बज चुके थे. मैंने रूम लॉक किया और हम दोनों साथ चल पड़े, रेस्टुरेंट/बार की तरफ..

अगर आपने अभी तक इसका पहला पार्ट नही पढ़ा है तो पहले फ़र्स्ट पार्ट पढ़िये तभी कहानी का असली मज़ा आएगा। पढ़ें ==>> माँ की चुदाई से शादी तक का सफर भाग -1

माँ- बेटा मेरी कमर पकड़ के चल ताकि सबको लगे हम पति पत्नी है.

Maa bete ki chudai xxx story

मै-ओके मॉम। हम पहुँच गए रेस्टोरेंट पे, हमें फ्लावर देके वेलकम किया गया. हमने देखा हमारे अलावा और भी 7-8 जोड़े कपल्स और भी है तो माँ और मै एक्साइट हो गए. हमारे लिए एक टेबल रिज़र्व था. हम जाके वहीँ पे बैठ गए. कुछ ही मिनट में इवेंट स्टार्ट होने लगा. एंकर ने सब की वेलकम की. उन्होंने अन्नोउंस किया की कपल्स लोग के लिए स्नैक्स डिनर और ड्रिंक्स सब फ्री है. जैसे ही हम ने ये बात सुनी. हम एक दूसरे के फेस को देखने लगे और कुछ स्नैक्स आर्डर कर दी. हमारा जब तक स्नैक आया नहीं था तो हम मेलोडी प्रोग्राम एन्जॉय कर रहे थे। हमारा स्नैक्स रेडी हो के आ चुका था. मैंने अपने लिए डोसा और माँ अपने लिए मसाला चाट आर्डर की थी. हम खाने लगे, बीच बीच मै माँ को मेरे डोसा की प्लेट में से कुछ बाईट खिला देता था. इसी वजह से माँ का प्यार मुझ पे बढ़ने लगा. माँ भी मुझे भी अपनी प्लेट से कुछ बाईट खिलाने लगी. ऐसे ही हम एक दूसरे को खिलाके खाना ख़तम कर चुके थे.

एंकर ने अनाउंसमेंट किया, गेम स्टार्ट होने वाला है. जो कपल तीनो राउंड जीतेगा, उनकी 1 लाख की कॅश प्राइज भी है. एंकर ने फ़र्स्ट राउंड स्टार्ट होने का अनाउंसमेंट किया। रूल ये था, जो कपल लॉन्ग टाइम के लिए किस करेंगे वो फ़र्स्ट राउंड के विनर होंगे. यह सुनके माँ और मै आपस में दोनों एक दूसरे को देखते रहे.

माँ- यह हम नहीं कर सकते.

मै- क्यों नहीं मॉम?

माँ- मुझे डर लगता है पब्लिक के सामने यह सब करने में.

मै- माँ हमें जीतना है, ये वाला राउंड.

हम सभी कपल्स को स्टेज पे बुलाया गया. फ़र्स्ट राउंड स्टार्ट होने वाला था। मैने माँ के कान मे कहा….

मै- डरो मत माँ, मै हूँ ना! आप बस मेरा साथ देना, मै जैसे करूँगा आप भी वैसे ही करना बस.

माँ .(नर्वस होते हुए)-कोशिश करुँगी बेटा।

तो टाइमर स्टार्ट हुआ. मैने माँ के लिप्स पे अपना लिप्स रख दिया, मैंने उनकी कमर को कसके पकड़ रखा था. माँ थोड़ी हिचकिचा रही थी, शर्म और डर की वजह से। फिर कुछ टाइम बाद, उन्होंने अपने लिप्स को हल्का सा खोला, मै भी मेरे लिप्स से उनके लिप्स में फ्रेंच किस करने लगा. मै उनके अपर और लोअर लिप्स को चूस रहा था. वो भी वैसे ही करती रही. माँ की हाइट मेरे से कम होने के कारण मैंने उनकी गांड पे हाथ रख के थोड़ी ऊपर की और उठाने लगा. वो समझ गयी और वह अपनी एडी पे खड़ी हो कर मेरा साथ दे रही थी। धीरे धीरे माँ भी वाइल्ड होने लगी। उन्होंने अपना एक हाथ मेरे कन्धों पे और दूसरा हाथ मेरी गर्दन पे डाल के अपनी ओर खींच के किस कर रही थी। मैं अपनी जीभ को उनके अंदर लेके उनकी जीभ के साथ खेल रहा था. वो भी वैसे करती रही. मानो जैसे दोनों जीभों की लड़ाई हो रही हो. इसी बीच हमें तालियों की आवाज़ सुनाई दी और हम होश में आये. तो देखा सारे लोग हमें देखकर तालियां और सीटियाँ मर रहे थे। इसी बीच एंकर ने मेरी और माँ की जोड़ी को विनर घोषित किया. हम बहुत खुश हुए. माँ ने मुझे गले लगाया. अब माँ मेरे साथ फ्रैंक हो चुकी थी. उनके अंदर कॉन्फिडेंस आ चुका था. एंकर अब सेकंड राउंड ड़ेक्लेयर कर रही थी.

सेकंड राउंड पे एक अजीब सा गेम था। रूल ये था की 9 रैंडम लोगो को बुलाया जाएगा. हर कपल के हस्बैंड को उन 9 लोगों के साथ रहना है, उनकी वाइफ की आँखों पर पट्टी बांधी जाएगी और बीवी को उनके हस्बैंड को पहचानना है और हस्बैंड को किस करना है. जो वाइफ अपने हस्बैंड को किस कर पाएगी वो कपल सेकंड राउंड के विनर होंगे. यह रूल सुनते ही मै और माँ शॉक़ड हो गए. Maa bete ki chudai xxx story

Maa bete ki chudai ki kahani

माँ- मुझे यह गेम नहीं खेलना हैं।

मै- क्यों मॉम।

माँ- बस ऐसे ही.

मै- कुछ नहीं होगा माँ, आप कर लोगे।

माँ- अगर मै तुझे नहीं पहचान पायी और किसी दूसरे आदमी को किस कर दिया तो?

मै-तो क्या हो जायेगा? (हस्ते हुए) ज्यादा से ज्यादा जिस को आप किस करोगे वो आप का दीवाना हो जाएगा.

माँ- बदमाश कहीं का. (मेरी पीठ पे प्यार से मारते हुए), तेरे जैसी मै थोड़ी हूँ, जो किसी से चिपक जाऊ, किसी की भी किस कर दू? (माँ ने मुझे गुस्सैल चेहरे से देखते हुए)। मै- नहीं.. इसमें कौन सी बड़ी बात है। इसी बीच सेकंड राउंड का पहला कंटेस्टेंट स्टेज पे जा चुके थे. उनकी वाइफ की आँखों पे पट्टी बांध दिया जाता है और हस्बैंड को 9 लोगों के साथ खड़ा कर दिया जाता है, लेकिन बीवी गलत आदमी से किस कर बैठी. ये देख के सब लोग हसने लगे। ऐसे करते करते सारे कपल्स उस गेम में हार चुके थे. जब हमारी बारी आयी, तो मैंने माँ से कहा।

मै- माँ आज मै परफ्यूम लगा के नहीं आया हूँ।

माँ-तो?

मै- आप यह ट्रिक अपना के देखो, जीत जाओगी।

माँ- कोशिश करुँगी, अगर किसी गलत हँसेंगे(उदास चेहरा करते हुए)।

मै- आप डरो मत.

माँ- ओके! कोशिश करुँगी! तेरे ट्रिक्स को अपना के.

हमें भी स्टेज पे बुलाया गया। मुझे भी उन 9 लोग के बीच खड़ा कर दिया गया। माँ की आँखों पे पट्टी बांधी गयी. मै देख रहा था माँ सब की स्मेल चेक कर रही थी लोगों के करीब से और मेरे पास आके रुकी। उन्होने मुझे पहचानके, कोई देरी न करते हुए वो मुझे किस करने लगी। सब ने ताली बजायी। उधर एंकर ने हमें विनर डिक्लेअर किया। इस बार माँ पहले से ज्यादा खुश हो गयी। माँ ने मुझे फिर से हग किया.

माँ- बेटा तेरा ट्रिक तो काम कर गया. (ख़ुशी के मारे).या…हू!

मै- मैंने आपको बोला था न.

माँ- हाँ बेटा! तू तो बहुत समझदार निकला.

मै- आपने मुझे बुद्धू समझ रखा था क्या?

(हस्ते हुए) माँ- मुझे ये गेम खेल कर मजा आ रहा है.

मै- मुझे भी मॉम!

इसी बीच एंकर ने थर्ड राउंड का अनाउंसमेंट किया. लव डाइस! रूल ये था कि एक डाइस को हस्बैंड की पैंट में रखा जाएगा. हस्बैंड को रैंडम 10 लोगो के बीच रखा जाएगा। वाइफ की आंखों पे पट्टी बांधी जाएगी. वाइफ को हस्बैंड के पैंट पॉकेट से उस डाइस को निकालना है, वो भी सिर्फ दो एटेम्पट में। माँ मेरी तरफ देखते हुये।

माँ- अब यह कैसा गेम है, मुझे किसी और की पॉकेट चेक्ड करके गोटी निकालनी है छि:.

मै- अरे इसमें छि की क्या बात है.

इसी बीच गेम स्टार्ट हो चुका था. पहले जोड़े की वाइफ गलत आदमी का पैंट चेक कर गयी. चेक करते करते पॉकेट के अंदर से ही उस आदमी का लंड टच हो जाता है उस आदमी को मजा आता है। यह नज़ारा देख के सब हसने लगते हैं. डाइस तो मिली नहीं, उनके लिए एक और एटेम्पट बाकी था, उसमे भी वो गलत आदमी के पॉकेट में हाथ डाल देती है, डाइस ढूंढने के चक्कर में दूसरे आदमी का लंड से टच हो जाता है. इसी तरह वो वाइफ फेल हो गयी लेकिन वाइफ को शर्मिंदा होना पड़ा, क्योंकी गेम के चक्कर में वो हस्बैंड के सामने किसी दो अनजान आदमी के लंड स्पर्श कर के आयी है. माँ मुझे देखते हुए. Maa bete ki chudai xxx story

Maa beta chudai sex

माँ- वो वाइफ क्यों शर्मा रही है.

मै- शायद उसने गोटी ढूंढने के चक्कर में उन दो अनजान आदमी की हथियार पकड़ ली होगी. वो भी खुद के हस्बैंड के सामने.

माँ- (हस्ते हुए)…ऐसा है क्या?

मै- और नहीं तो क्या।

माँ- छि: यह लोग अपनी हस्बैंड को इतने सालो बाद भी नहीं पहचान पा रहे हैं। गेम में गलती करके दूसरे आदमी के साथ खेल के आ जाते है, वो भी अपने हस्बैंड के सामने.

मै (हस्ते हुए)- लगता है इन्ही गेम के चक्कर में उनके डाइवोर्स हो जाएंगे ।

माँ (नर्वस होते हुए) -छि, यह खेल मुझ से नहीं हो पाएगा।

मै- आप कर लोगी मॉम मै जानता हूँ. मेरा ट्रिक अपना लेना फिर से।

माँ- अगर मेरे से भी गलती हो गयी तो? मै तो किसी के सामने मुँह दिखाने लायक नहीं रहूंगी.

मै (हस्ते हुए)-इसमें कौन सी बड़ी बात है, अगर गलती भी करि तो उस आदमी का फायदा होगा और आप भी दूसरे हथियार का मज़ा लेके आ जाना.

माँ (थोड़ा नर्वस होते हुए) -छि: यह कैसी कैसी बात कर रहा मेरे साथ।

मै- वैसे भी आप मेरा लंड तो पहले भी पकड़ चुकी हो।

माँ- (हैरान होते हुए).वो, मै.

मै (हस्ते हुए)- क्यों! पकड़ी नहीं थी क्या?

माँ- उस दिन तू सोया नहीं था क्या? मै सोची..तू सो चुका है..और मै गलती से तेरी वो जगह पे हाथ रख दी थी. अगर तू उस दिन मुझे रोक लेता, तो मै थोड़ी उसे पकड़ लेती, अपना हाथ वहां से हटा लेती।

मै- वैसे भी आप का पकड़ मुझे अच्छा लगता है.

माँ (शर्म की निगाहों से मुझे देखते हुए)- अच्छा! ।

मै- नेक्स्ट टाइम कब आप मेरा फिर से पकड़ोगे?

माँ- चल बदमाश.

मै-बोलो ना मॉम!

माँ (थोड़ा गुस्सा करते हुए)- और नहीं पकड़ूँगी तेरा।

मै (ज़िद करते हुए)-माँ प्लीज सिर्फ और एक बार।

माँ (आँख मारते हुए)- ठीक है, आज रात को चल रूम पे, तुझे देखती हूँ।

मै अंदर ही अंदर बहुत खुश हुआ।

माँ अब मेरे जाल में फंस चुकी थी, इस बार हमारी बारी आ चुकी थी. हम स्टेज पे गए.. माँ की आँखों पे पट्टी बांधी गयी. मै उन 10 आदमियों के बीच खड़ा था पहले एटेम्पट में माँ गलत आदमी के पास चली गयी और उस आदमी की पैंट के पॉकेट में हाथ डालने लगी। माँ डाइस ढूंढने के बदले उस आदमी का लंड पकड़ ली. लेकिन सेकंड एटेम्पट मे वो मेरे पास आके स्मेल पहचान के मेरे पॉकेट में हाथ डाल दी और मेरा लंड पकड़ के दबा दी और मेरे पॉकेट से वो डाइस निकाल दी. इसी तरह हम थर्ड राउंड भी जीत गए। जब मैंने माँ की आँखों की पट्टी निकाला तो वो मेरे चेहरे को देख के स्माइल कर रही थी। वहां एंकर ने विनर अन्नोउंस कर दिया। इधर माँ और मैंने खुश होक फिर से एक दूसरे को गले लगा लिया. हमें स्टेज पे बुलाके विनिंग प्राइज दिया गया, उसके बाद फिर अनाउंसमेंट हुआ कपल्स के लिए डिनर और ड्रिंक्स फ्री है तो हम बार मे चले गए। माँ भी बहुत खुश थी गेम जीत के और लाइफ में पहली बार, बार जाने के वजह से हम टेबल पे बैठ गए जहां पार्टिसिपेंट्स के लिए रिज़र्व था। मैंने व्हिस्की पीना चाहा. Maa bete ki chudai xxx story

Bete ne maa ko choda hindi kahani

मै- आप कुछ पीना चाहोगी?

माँ- तूने अपने लिए क्या मंगाया है?

मै- मैंने अपने लिए व्हिस्की मंगाया है.

माँ- यह क्या होती है।

मै – दारु..फॉरेन लिकर।

माँ- तू सच में बहुत बिगड़ चुका है, दारु भी पीने लगा हैं।

मै- बोलो माँ..आप क्या लेना चाहोगी ड्रिंक्स में….कोल्ड ड्रिंक्स.

माँ- जो मेरा बेटा पियेगा, उसी को मै भी आज ट्राई करुँगी.

मै- पर माँ..नशा हो जाएगा..

माँ- चलेगा ना..आज कल मॉडर्न ज़माने में लड़कियां भी पीने लगी है तो मै क्यों नहीं पी सकती.

मै- अगर नशा हो जाएगा तो संभाल पाओगी.

माँ-आज ट्राई करके देखती हूँ। मैंने पहले कभी पी नहीं.

मै- बाद में मुझे दोष मत देना.

माँ- हाँ ठीक है, तू पी सकता है तो मै तो तुझे पैदा की हूँ तो मै क्यों नहीं पी सकती. आज मै ख़ुशी से पियूँगी तेरे साथ, तूने मुझे आज कम्पटीशन जिताया है, इसी खुशी मे पीना तो बनता है..

मैंने 100 पाइपर्स की 4, 60 एमएल की पेग आर्डर दी साथ में आइस क्यूब और चिकन का प्लाटर भी। वेटर हमारा आर्डर 15 मिनट में लेके आया और हमारी टेबल पे रख दिया। हमने आपस में चियर्स की और पीने लगे। मै जब बारहवीं पास किया था फ्रेंड्स के साथ उसी टाइम से पीने लगा था. मैं मेरा फ़र्स्ट पेग झट से पी गया। यह माँ के लिए पहली बार थी. माँ को व्हिस्की लेने में थोड़ी दिक्कत हो रही थी, तो मैंने उनके गिलास में कुछ आइस क्यूब मिला दी…मुझे पता था आइस मिलाने से व्हिस्की चिल्ड होती है कड़वापन पता नहीं चलता. लेकिन बाद में जोरो से चढ़ती है। इसी बीच मेरे दिमाग में आईडिया आया, क्यों न आज रात को माँ के मजे लूटे जाए. जब वो दारू के नशे से चूर हो जाए.

मै- माँ अब ट्राई कर के देखो.

माँ- (पेग लगाते हुए.) अब बेहतर है..बेटा.

हम 2-2 पेग पी चुके थे..चिल्ड व्हिस्की से माँ को लगा उनको नशा चढ़ नहीं रहा है तो माँ ने फिर से दोनों के लिए और 4 पेग आर्डर कर दिए। मुझे 1 पेग दे के माँ चखना के साथ 3 पेग पी गयी.

मै- माँ यह तो चीटिंग है.

माँ- कैसी चीटिंग.

मै- आप ने मेरा वाला पेग पी लिया.

माँ- मै तेरी माँ हूँ, इसीलिए! वैसे भी ज्यादा ड्रिंक करना सेहत के लिए हानिकारक है. इसीलिए तेरा पेग मैंने ले लिया। वैसे भी अब तक मुझे नशा हुआ है नहीं।

मै मन में सोचने लगा आगे देखते जाओ कैसे नशा चढ़ता है. ड्रिंक्स खत्म करके हम एक दूसरे की नज़रे मिलाते आपस में देखने लगे। 2-3 बटर नान और चिकन खाने लगे. सारे आइटम बहुत टेस्टी थे. हमने खाना ख़तम किया. स्टेज पे कपल डांस का प्रोग्राम रखा था.

मै- माँ चलो डांस करते हैं.

माँ- नहीं बेटा! मुझे डांस नहीं आता.

मै- आप को मै सीखा दूंगा. बस आप मेरे स्टेप पे स्टेप मिलाते रहना.

माँ-ठीक है बेटा!

मै- बस..इतना ही..

माँ – कोशिश करुँगी!

और हम डांस फ्लोर की ओर जाने लगे. मैने माँ की कमर पे अपना हाथ रखा और डांस करने लगा. सांग्स के बीट पे. माँ एक हाथ से मेरी गर्दन और एक हाथ से मेरा कमर पकड़ के डांस करने लगी। मैने माँ की गांड पे हाथ रख के उसको दबा लिया तो माँ ने अपनी गांड हिला डुला के मेरे साथ डांस करने लगी। हमारे बीच नज़दीकियां बढ़ने लगी, व्हिस्की का असर अब लगने लग गया था। वो मुझे किस करना चाह रही थी। मैं जान बूझकर उनको मौका नहीं दे रहा था। मै उनको तड़पाना चाहता था लेकिन वो मुझे अपनी ओर खींचने मे कामयाब रही। मैंने मेरे सर को उनकी गर्दन पे टिका दिया और मै उनकी गर्दन पे किस करने लगा। फिर माँ मेरे सर को पकड़ के एक जोरदार फ्रेंच किस करने लगी। ऐसा हमारे बीच पहली बार हो रहा था वो भी पब्लिक के सामने। इसी बीच वो बोली…. Maa bete ki chudai xxx story

माँ – बहुत हो चुका है बेटा..चल चलते हैं…मुझे नींद लग रही है.

माँ को नशा चढ़ चुका था। माँ ठीक से चल नहीं पा रही थी, मै उनको अपने कन्धों के सहारे अपने रूम तक लाया। माँ रूम के अंदर जाते ही बेड पे गिर पड़ी। मैंने रूम की एसी ऑन कर दी. रूम ठंडा होने लगामाँ को हैंगओवर हो चुका था. वो अब आँखें खोल नहीं पा रही थी. मै भी पैंट शर्ट उतार के नंगा होके लेट गया. मुझे भी चढ़ चुकी थी, अब मैने माँ के सारे कपडे उतारके मेरे ऊपर खींच लिया और उनको हग कर के आराम करने लगा। माँ को हैंगओवर के कारण कुछ पता नहीं चल रहा था। मै रातभर उनके जिस्म के साथ खेला। मैंने उनके कस कसके बूब्स दबाया, चूत पे ऊँगली भी चलाया. इसी बीच माँ बिलबिला रही थी.

माँ- बस करो अनिल जी, मुझे सोने दो, उम्!!

Maa bet ki shadi aur chudai

मै शॉक़ड हो गया कि माँ ने पापा का नाम क्यों लिया, उनको लगा मेरे पापा उनके साथ खेल रहे है. मुझे कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला। सुबह जब डोर बेल बजा तब हम दोनों की नींद खुली. तो मैने घडी की ओर देखा, घडी पे 7:30 बज चुके थे. माँ भी जग गयी, दोनों आपस में नंगे हग करते हुए पाए. कुछ सेकंड के लिए हम दोनों की आपस में नज़रें मिली. मैंने टॉवल लपेट के उठके देखा तो डोर पे एक अटेंडर खड़ा था। वो बोला, हमारे चेक आउट का टाइम होने वाला है 9 बजे. मैंने माँ की ओर देखा. वो शर्मा के सर झुका के बैठी थी। इसी दौरान मैकेनिक का कॉल आया. सर आप का कार बन चुका है, आप लेने आ जाओ. मै तैयार होने लगा और माँ को भी तैयार होने को कहा। हम तैयार होके मैकेनिक के पास गए। कार की चाभी ली और सीधा घर की और जाने लगे। इसी बीच मैंने माँ को देखा, वो अभी भी सर झुका के सीट पे बैठी थी और हम घर पहुँच गए। घर पहुँचते ही माँ अपने कमरे मे चली गयी। मैने उनको बुलाया पर उन्होने सुना ही नही. मुझे भूख लग रही थी. मैंने ऑनलाइन खाना आर्डर कर डाला। 30 मिनट में खाना घर पे आ गया. मैंने माँ को बुलाया खाना खाने के लिए। वो कुछ देर बाद अपने रूम से एक साड़ी पहनके डाइनिंग टेबल पे आके खाना खाने लगी.

माँ – बेटा मुझे तुझसे कुछ जरुरी बाते करनी है.

मै – बोलो माँ!

माँ – कल रात तूने मेरे कपडे उतारे थे क्या?

मै(घबराते हुए) – नहीं तो!

माँ – तो फिर कौन?

मै – कल आपने कुछ ज्यादा पी रखी थी। माँ(कन्फूस मे) हो सकता है, शायद मै खुद ही उतारी होंगी। कल मै तेरे प्यार में क्या क्या कर गयी, मुझे दुःख है, हम कुछ गलत तो नहीं कर रहे हैं?

मै – अरे माँ आप भी ना! मै आपको ख़ुश देखना चाहता हूँ।

माँ- कल मै ख़ुशी से क्या कुछ कर बैठी, पता ही नहीं चला. तेरे पापा मुझे सपने में भी आये थे।

मै- क्या! कौन सा सपना देखा आप ने उनके बारे में. माँ- वो मेरे साथ मस्ती कर रहे थे, कह रहे थे, तुम तो अभी भी जवान हो, किसी से शादी क्यों नहीं कर लेती.

मैने सोचा कि उनके साथ हैंगओवर के दौरान की गयी खेल का असर था। वो शायद उसको पापा के ख्यालों में एन्जॉय कर के सपना मान ली थी.

माँ – मै ऐसी प्रॉब्लम में फंस चुकी हूँ, क्या करू, किससे शादी करू, या ना करू! लेकिन मुझे किसी का साथ चाहिए, अकेली जी जी के दम घूंटने लगा है.

मै- आप टेंशन मत लो, अगर आपको शादी करनी है, तो कर सकती हो, मुझे कोई ऐतराज़ नहीं है।

माँ (भावुक होते हुए) – यही तो प्रॉब्लम है, कौन इस 43 साल की विधवा से शादी करेगा अब? मुझे एक जवान लड़का चाहिए, जो मुझे हमेशा खुश रखे, वो मेरा ख़याल रखे।

मै- कौन? वो कल जिस आदमी का आपने पकड़ लिया था गेम के दौरान.

माँ- पता नहीं कल से मुझे बहुत अजीब सा लग रहा है, लेकिन कल तुम ने मुझे बहुत मजा दिलाया, मै उससे बहुत खुश हूँ. माँ कुछ देर चुप चाप मेरे चेहरे को देख कर…

माँ – एक बात बोलू बेटा?

मै – बोलो ना मॉम!

माँ- तू मुझसे शादी करेगा?

मेरे अंदर ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा।

मै – ये क्या बोल रही हो मॉम?

माँ – हाँ! सच मे।

मै – कैसे आप अपने सगे बेटे के साथ शादी कर सकती हो?

माँ – बहुत सोच के फैसला लिया, घर की बात घर पे ही रहेगी, तेरा प्यार मुझे बहुत अच्छा लगने लगा है लव यू बेटा! प्लीज मना मत कर.

मै- अगर किसी को इसके बारे में पता लग गया तो?

माँ- किसी को पता नहीं लगेगा. हम घर में पति पत्नी के तरह रहेंगे.

मै ख़ुशी से उनको हग करने लगा। हग करते हुए

मै- लव यू माँ! चलो अभी थोड़ा मार्किट घूम के आते हैं.

माँ – बेटा…रुक तो जा.

मै – जल्दी चलो मॉम!

मैंने घडी की और देखा तो दोपहर के 1 बज रहे थे। मैंने अपना बाइक निकाला और माँ को पीछे बैठा के मार्किट जाने लगा। माँ मेरे साथ चिपक के बैठी थी. उनके दोनों बूब्स मेरे पीछे महसूस हो रहे थे. हम एक शॉपिंग मॉल में गए. मै माँ को एक लेडीज सलून में ले गया.

माँ- बेटा! तुम मुझे यहाँ क्यों लाये?

मै – आप कुछ मत बोलो। मैंने लेडी ब्यूटिशियन को बोला कि मेम की अच्छे से बॉडी वैक्सिंग, हेयर स्ट्राइटिंग और फुल बॉडी मसाज सब कर देना.

लड़की बोली आप चिंता मत करो. मै उनको ऐसे सजाऊंगी कि आप उनको पहचान भी नहीं पाओगे.

Maa beta sex story chudai kahani

मैंने पेमेंट करके कुछ 1000 एक्स्ट्रा दिया और बोला. उनके प्राइवेट पार्ट्स के हेयर को भी ट्रिम कर देना. उसने मुझे 3 घन्टे के बाद आने को बोला. मेरे पास 3 घंटा था, मैंने शॉप से एक हाई हील खरीद ली. उसके बाद मैं एक लेडीज गारमेंट स्टोर पे गया. माँ के लिए एक रेड कलर की ट्रांसपेरेंट साड़ी, सिल्वर कलर की डिज़ाइनर ब्लाउज, रेड कलर की पेटीकोट खरीद ली, तो देखा वहां पे फैंसी ब्रा और पैंटी भी थी। मैंने एक ट्रांसपेरेंट फैंसी ब्रा और एक जी-स्ट्रिंग पैंटी भी खरीद ली. सारे आइटम को एक बैग में रख दिया। उसके बाद में कुछ पूजा आइटम खरीदने चला गया। वहां से पूजा आइटम पैक करके, उसके बाद मैंने ज्वेल्लरी शॉप पे जाके एक मंगलसूत्र और कुछ कंगन खरीदे। एक फ्लावर शॉप से ढेर सारा गुलाब का फूल और दो माला खरीदा। मेरे पास और भी डेढ़ घंटे बचे थे. इसी बीच मैंने सारे सामान को घर में जाके रखा. गारमेंट्स बैग को माँ की ड्रेसिंग रूम में रखा। माँ की बैडरूम को गुलाब के फूलों से अच्छे से सजाया। पूजा आइटम सब पूजा रूम पे सेटिंग कर दिया और फिर निकल पड़ा शॉपिंग मॉल की ओर……

कुछ इंतज़ार के बाद माँ बाहर आई…मैंने उनको देखा तो मेरे होश उड़ गए. क्या कमाल की आइटम दिख रही थी। पूरी एक मॉडल की तरह. मैं माँ को बाइक पे बिठा के घर की ओर जाने लगा.

माँ – कैसी लग रही हूँ मै.

मै- पूरा एक दम पटाखा आइटम लग रही हो।

माँ – बेशरम कहीं का! ऐसा बोलेगा मुझे?

मै- जो दिख रही हो, मैंने तो बस आप की तारीफ की।

माँ – चल ठीक है थैंक यू बेटा।(मेरी पीठ पीछे किस करते हुए)

माँ – अच्छा यह तू जो मेरे किये कर रहा है, तेरे पास इतना पैसा आया कहाँ से?

मै – कल हमें जो प्राइज मिला था, उसी पैसों से।

माँ – अरे मै तो भूल ही गयी थी.

बातें करते करते हम घर कब पहुँच गए पता भी नहीं चला. घर के अंदर जाते टाइम मैने माँ को कहा…

मै – मॉम आप के लिए कुछ गिफ्ट लाया हूँ, उनको आप देखो. देखके जल्दी पूजा रूम में आ जाना।

माँ(एक्साइट होते हुए) गिफ्ट! कहाँ पे रखा है?

मै – आपके ड्रेसिंग रूम मे।

माँ – आती हूँ, तू मेरा वेट कर वहां पे.

मै भी सिर्फ कुरता पहन के पूजा रूम में माँ की वेट करने लगा. पूजा का आइटम सब रेडी था, कुछ आधे घंटे में माँ सज धज के मेरे पास आयी. माँ ठीक से चल नहीं पा रही थी हाई हील्स की वजह से. वो तो एक दम किसी फिल्म की हीरोइन लग रही थी. ट्रांसपेरेंट रेड साड़ी और स्लीवलेस सिल्वर ब्लाउज और हाई हील्स और ऊपर से उनका हेयर स्टाइल. मेरा तो तुरंत लंड खड़ा हो गया. वो आके मुझे कहने लगी…. Maa bete ki chudai xxx story

माँ – कैसी लग रही हूँ?

मै – एक दम सेक्सी माल लग रही हो आप!

माँ(शरमाते हुए)थैंक्स बेटा!

मैंने उनको नीचे बिठाया. वहां पे रखी गयी लकड़ी में आग लगाया.

माँ – यह पूजा किस लिए बेटा?

मै – यह पापा की आत्मा की शान्ति के लिए!

हम पूजा करने लगे, जब पूजा खत्म हुआ तो मैंने माँ के माथे पे सिंदूर लगा दिया. वो भी चौंक गयी, फिर मैंने अपनी शेरवानी की पॉकेट से मंगलसूत्र निकाला और उनके गले में पहना दिया. वो बहुत भावुक हो चुकी थी.

माँ – ये तूने कैसे स्वीकार कर लिया मुझे?

मै – बस आप के लिए किया, मै आप को खुश देखना चाहता हूँ. आप की ही इच्छा पूरा कर दी मैंने.

अब माँ ने मेरे पैर छुए जैसे की एक आज्ञाकारी पत्नी करती है.

मै – माँ! क्यों मेरे पैर छू रहे हो आप मेरे से बड़ी हो।

माँ – बड़ी हो या छोटी, लेकिन अब से मै आपकी पत्नी हूँ मै आपकी आज्ञाकारी पत्नी और आप मेरे प्यारा सा पति.

माँ का स्वभाव अब बदलने लगा वो मुझे रेस्पेक्ट देने लगी थी.

माँ – अब से तू मुझे माँ कह के नहीं बुलाएगा।

मै- तो क्या कह के बुलाऊंगा.

माँ – कुछ भी कह कर बुला लेना, चाहो तो मुझे आप मेरे नाम से भी बुला सकते हो।

मै उनको अपनी बहो में लेके हग करने लगा. मैंने माँ के चेहरे को हवन कुंड की तरफ किया. कुंड के सामने पापा की फोटो थी।

मै (फोटो की और इशारा करते हुए) – देख रही हो सुमि डार्लिंग! पंडित जी ने! हमारी शादी करवा दी.

माँ-(हस्ते हुए)हाँ अवि तो अब पंडित जी की कोई जरुरत नहीं हमें आगे और भी बहुत कुछ करना है.

माँ- आप ठीक कह रहे हो.

माँ आगे बढ़ी पापा के फोटो को छूते हुए नमस्ते किया और फोटो को हवन कुंड में रख के जलाने लगी और मुझे देखते हुए एक कातिलाना स्माइल दी. जैसे ही पूजा खत्म हुयी, मैने माँ को अपनी बाँहों में उठा लिया, वो अपने दोनों हाथ मेरे गले मे डाल दी. मै माँ को उनके बैडरूम की तरफ लेके गया. माँ अपने बेड को गुलाब के फूल से सजा देख कर बहुत खुश हुयी और मेरे गाल पे एक किस कर दी. मैंने माँ को बेड पे पटक दिया. वो बेड के किनारे बैठ गयी. फिर क्या था दोस्तों माँ ने मुझे तुरंत ही गले लगा लिया और चूमने लगी. आज वो खुद मुझे पहले किस किया. आज किस करने का तरीका अलग था. आज का किस कामवासना से भरा था. वो मेरे लिप्स को चूसने लगी और मेरे बाल को सहलाने लगी. मै भी उनका साथ देने लगा और चूमने लगा .कुछ देर किस करने के बाद हम दोनों हाँफते हुए अलग हुए. फिर मैं खड़ा हो गया.

Mom son sex story hindi

माँ-जानू! कहाँ जा रहे हो अवि-डार्लिंग..

मै – एक बोतल व्हिस्की रखा था उसको लाता हूँ उसको पीते ही मेरे अंदर एक शेर की ताकत आ जाएगा.

माँ- अच्छा(थोड़ी मुस्कुरा के) तो आज ये शेर इस कुत्तिया का शिकार करेगा.

मै भी थोड़ा हस्ते हुए व्हिस्की लेने चला गया. मै व्हिस्की बोतल के साथ सिर्फ एक ही गिलास लाया था. माँ के पास गया देखा माँ घूँघट डाल के एक नयी दुल्हन की तरह बेड पे बैठी थी. मैंने बोतल खोली गिलास में सोडा मिलाते हुए पेग बनाके माँ को देखते हुए पीने लगा. उनका घूँघट उतारने लगा.

माँ- तुम अकेले ही पी जाओगे, अपनी बीवी को नहीं पिलाओगे?

मै -डार्लिंग अगर तुम्हे नशा हो गया तो.?

माँ- पिलाओ तो सही मुझे तो कब का तुम्हारे इश्क़ का नशा चढ़ चुका है.

हम दोनों ने दो पेग लगाए. माँ ने मुझे अपनी और खींच लिया. माँ मुझे कस के हग करने लगी. कुछ देर के लिए जोर जोर फ्रेंच किस करने लगी. चुम्मा चाटी से रूम गूंज रहा था. मै भी उत्तेजित होके माँ के बाल पकड़ के खींच लिया और उनके लिप्स को चूसने लगा. चूसते चूसते मै उनके ब्लाउज के ऊपर से ही बूब्स दबाने लगा. माँ मेरे बाल सहला रही थी.

माँ- येस..येस आराम से दबाओ..जानू.. येस..

मै माँ के बूब्स के हर कोने को बारी बारी से दबाने लगा. मै उसके बाद ब्लाउज के एक एक बटन खोलने लगा. लास्ट बटन को खोलने में परेशानी हुयी तो माँ के ब्लाउज को फाड् दिया.

माँ- आराम से डार्लिंग..

मैंने महसूस किया कि माँ की फैंसी ब्रा के अंदर दोनों निप्पल टाइट होके अपने आकार से बड़ी हो चुकी थी. झट से मैं माँ को खड़ा करके दिवार की और ले गया. उनको घुमा दिया माँ अपने दोनों हाथ दीवार पे रख कर खड़ी थी और मै उनकी ब्रा के हुक खोलने लगा. जैसे ही माँ की ब्रा को उतारा उनके बूब्स झट से बाहर आ गए. मै माँ को पीछे से हग करते हुए उनके बूब्स दबाने लगा. Maa bete ki chudai xxx story

मै – क्या मस्त चूचि है तुम्हारी डार्लिंग!

माँ- येस..आहह..जानु!

मैंने उनके हाथ पीछे कर के मेरी गर्दन पे फंसा लिया और वो मुझे अपनी ओर खिंच के चूमने की कोशिश कर रही थी. मै उनकी गर्दन पे किस करता रहा, बीच बीच में काट भी दे रहा था. माँ के बदन पे सिर्फ साड़ी, पेटीकोट और पैंटी ही बाकी था. मै और जोर जोर से बूब्स मसलने लगा. मैंने माँ की साड़ी को पकड़ के खिंच लिया और उनकी नाभि के साथ खेलने लगा. मैं घुटनो पे बैठ के माँ की नाभि को चूमने लगा. माँ मेरे सर को पकड़ के मजा ले रही थी. बीच बीच में उनकी नाभि के अंदर जीभ गड़ा के अंदर तक चाटने लगा. माँ अब बेताब होने लगी. मैंने माँ को बेड पे धकेल दिया. उसके बाद मै उनके पेटीकोट का नाडा खोलने लगा. उनकी फैंसी जी-स्ट्रिंग वाली पैंटी दिखाई दी जो उनकी प्यारी सी चूत को ढकने में नाकायाब थी. माँ की चूत क्लीन शेव थी क्यूंकी मैंने उनकी चूत बाल को सलून में शेव करवाया था. क्या मस्त चमक रही थी.

मै -वाओ क्या मस्त चूत है रे डार्लिंग.

माँ- जानू इसे तुम ही तो शेव करवाए हो? कैसी है?

मै- एक दम कुंवारी चूत जैसी दिख रही है.

मैंने अचानक झट से उनकी पैंटी निकाल दी और उनको नंगा कर दिया. माँ फेस पे हाथ रख के शरमाते हुए बेड पे पड़ी थी. अब मैने उनकी चूत पे किस किया.

माँ- सससस..(वो सिहर उठी)।

Maa bete ki chudai xxx story

मै अपनी जीभ से उनकी चूत से नाभि तक चाटता रहा. वो अब मछली की तरह छटपटाने लगी.

माँ-मम..मम..ससस..स..आह!!

मै- ऐसे क्यों कर रही हो डार्लिंग? कभी किसी ने तुम्हारे चूत के साथ ऐसे खेला नहीं है?

माँ- नहीं…स..जानु! मै- अच्छा! माँ- तेरे पापा भी बहुत गांडू थे, उसको चाटने में उसको घिन आता था. मम..मम..आह! तुम तो बेहतर हो अपने पापा से..

मै अब माँ की चूत को ही चाट रहा था. कभी चूत को ऊपर नीचे, कभी चूत के दोनों किनारे, कभी चूत को सर्कुलर मोशन में चाटता रहा. वो अब पहले से ज्यादा मचलने लगी, चटाई के आनंद से. मै भी अपने सारे कपड़े खोल के नंगा हो गया. अब मैने उनका एक हाथ मेरे लंड पे रख दिया. वो कुछ देर मेरे लंड को पकड़ी रही. में बेड पे लेट गया.

माँ-कितना बड़ा है ये और मोटा भी.

मै- अच्छा..तुझे पसंद है?

माँ- बहुत पसंद है!

मै- पहले देखा नहीं इस साइज का?

माँ- तुम्हारे पापा का तो इससे बहुत छोटा था.

मै- कितना था?

माँ- 3 इंच और पतला भी था! लेकिन तुम्हारा तो बहुत बड़ा है और मोटा भी! कितने का है?

मै-तुम खुद ही नाप लो।

माँ- ये तो तुम्हारे पापा से डबल है, लम्बा भी और मोटा भी।

मै – अब खेलो इसके साथ. माँ मेरे लंड को पकड़ के अपने हाथ ऊपर नीचे करते हुए मेरे लंड हिला रही थी.

मै -डार्लिंग अब मुझे ब्लोजॉब दो।

माँ- वो क्या होता है?

मै- मेरे लंड को अपने मुँह में लो।

माँ- छि! कभी मुँह में लिया नहीं, मुझे भी घिन आती है, तुम्हारे पापा का भी नहीं ली थी।

मै-वो..पुरानी बात है, अभी तो मेरे साथ करना ही पड़ेगा, मुझे पसंद है लंड चुसाई.

माँ- में नहीं जानती कैसे क्या करना पड़ता है।

मै – मै सिखा दूंगा डार्लिंग तुम चिंता मत करो! जब चूसोगी ना तो आदत पड़ जायेगी.

माँ-अच्छा! तब तो इसे टेस्ट करना ही पड़ेगा.

मै- अब सिर्फ इसे चाटो।

माँ ने अपनी जीभ निकालीऔर हिचकते हुए धीरे से अपनी जीभ को मेरे लंड के टोपे पे रख के चाटने लगी.

मै-और अच्छे से चाटो डार्लिंग! माँ लंड को टोपे से नीचे तक चाटने लगी.

मै- येस..डार्लिंग..मस्त चाट रही हो, माँ ने मेरे तरफ आँखों में आँखें डाल के देखा और लंड चाटने लगी. क्या मस्त नज़ारा था.

मै-(आँख से इशारा करते हुए) कैसा है.!!

Mom Son xxx story hindi

माँ मेरा लंड चाटती हुयी मम..मम करके हाँ मे इशारा दिया. अब वो मेरे लंड को चाट चाट के गिला कर दिया था. अब अपनी लिप्स से मेरे लंड पे किस कर रही थी. फिर कुछ किस के बाद वो अपनी लिप्स को मेरे लंड पे रगड़ रगड़ के खेल रही थी, बीच बीच में जीभ से भी चाट रही थी.

मै- डार्लिंग अभी मेरे लंड को मुंह में लो. माँ ने थोड़ी मादक भरी से निगाहों में मुझे देखती रही. मै भी उनके पीछे का बाल पकड़ के ठीक किया.

मै-डार्लिंग.. अब इसे अंदर लो. माँ अब मेरा लंड मुंह मे ले मेरा टोपा को धीरे धीरे अंदर लेने लगी. मेरी तो जान ही निकल गयी जैसे। माँ पहली बार लंड अपने मुंह के अंदर ले रही थी. थोड़ा उनको अजीब लगा तो उन्होने तुरंत ही बाहर निकाल लिया.

मै-क्या हुआ डार्लिंग!

माँ-कुछ नहीं! कुछ अजीब सा टेस्ट है.

मै -कुछ नहीं! धीरे धीरे सब अच्छा लगने लगेगा.

मै और एक बार उनको अंदर लेने का इशारा किया. वो अब बिना हिचकिचाये पूरा अंदर ले गयी.

मै -अब डार्लिंग अपना मुंह ऊपर नीचे कर के इससे खेलो.

माँ अब अपना मुंह लंड पे रख के मेरे आधे लंड तक ऊपर नीचे करने लगी. मेरे मुंह से भी आनंद भरी आवाज़ आने लगी. मजा बहुत आने लगा. माँ भी मुझे देखते हुए लंड को मुंह से खेल रही थी. मैं उनको और अंदर लेने को बोल रहा था लेकिन थोड़ा मोटा लंड होने की वजह से वो अंदर ले नहीं पा रही थी.

मै-और अंदर लो.. डार्लिंग!

माँ- हाँफते हुए..हूँ..हूँ.. ये मोटा है मेरे होंठ सूज जाएंगे.

मै- येस.. क्या मजा दे रही हो और अच्छे से.

मै- अब चूस इसे!

माँ अभी मेरे लंड का टोपा चूसने लगी. चूस चूस के लंड को अंदर लेने लगी. माँ के मुंह से उम्म उम्म की आवाज़ आने लगी. अब मै भी माँ के बाल पकड़ के लंड पे दबाने लगा. वो हाँफते हुए मेरे लंड को चूसते हुए जीभ भी फेर रही थी. मै भी चरम के करीब आने वाला था तो उनको रोक लिया. अब बेड से उठ के साइड पे रखी व्हिस्की पीने लगा. एक पेग बनाया उसी में से आधा पिया और आधा पेग गिलास में लिया. व्हिस्की के गिलास पे मेरा लंड डुबाया और बेड के साइड पे खड़ा हो गया। Maa bete ki chudai xxx story

मै- अब डार्लिंग इसे चख के देख, मस्त लगेगा.

वो अब प्रोफेशनल की तरह लंड चूसने लगी. अब मै उनके बाल पकड़ के उनके मुंह में लंड आगे पीछे करने लगा. मै अपने लंड को उनके गले तक फंसा के चोद रहा था. घुरहहह… उम्मंहहह.. वो छटपटाने लगी क्योंकी उनको सांस लेने में तकलीफ हो रही थी. वो अब मुझे पीछे धकेल दी. वो मेरी तरफ देख रही थी.

मै-क्या हुआ डार्लिंग.? इसे झेल नहीं पायी?

माँ- मजा तो आया, मुझे थोड़ी तकलीफ तो झेलनी पड़ेगी इस मजे के लिए!

कहते ही माँ ने फिर से खुद ही मेरे लंड को अपने गले तक चूसने लगी. माँ के सलीवा से मेरा लंड चमक रहा था. मैने अब अपना लंड बाहर निकाला. मैंने माँ को उठा के बेड पे पटक दिया. मैं अब उनकी चूत चूमने चाटने लगा. अभी तो मै उनकी चूत को दांतों से काट भी रहा था. वो अब बेकाबू होते हुए छटपटा रही थी.

माँ-.येस..आहह..उम्म!

मै कुछ ज्यादा ही काटने लगा. वो अब मेरे बाल पकड़ के अपनी चूत पे मेरे मुंह को रगड़ने लगी.

माँ- खा जाओ इसे..येस.. आह्ह!

अब मैने उनकी चूत पे थूक दिया और मेरे लंड के टोपे से मसलने लगा.

माँ- येस! येस!..और कितना तड़पाओगे.. जानु डाल दो अपना मूसल अंदर!

मैंने लंड का टोपा चूत पे थोड़ा ही घुसाया और माँ की बूब्स दबाने लगा. मै जान बूझकर उनको छेड़ रहा था. उनके बूब्स को भी काट रहा था. वो फिर से काँप गयी. उनकी चूत अब पूरी तरह से गीली हो चुकी थी।

Antarvasna mom son sex story

माँ- अब और रहा नहीं जा रहा जानू प्लीज अब डाल डो।

मै उनको छेड़ते हुए अंदाज़ से।

मै-क्या डालूँ! इतनी जल्दी भी क्या है!

माँ मेरा लंड पकड़ते हुए चूत के अंदर डालने की कोशिश कर रही थी.

माँ- डालो..न..अब तुम्हारा।

मै-मेरा क्या?

माँ- थोड़ी हिचकिचा के बोली.. ल.. ल.लण्ड!

मै – ये हुयी ना बात! कितनी भोली हो तुम! अभी भी शर्मा रही हो.

मैंने झट से मेरा आधा लंड माँ की चूत में घुसा दिया. उनकी आँख खुली की खुली रह गयी और वो चिल्लाने लगी.

माँ-ऊई माँ! मार डालोगे क्या.. धीरे से करो ना.. कब से मै ठीक से नहीं कारवाई हूँ!

मै -क्या नहीं की हो?

माँ- छू.. छू.. चुदाई!

मै -ये हुयी न बात.. अब देखती जाओ मै कैसे तेरी चुदाई करता हूँ.

अब फिर एक शॉट फिर मारा. मेरा आधा लंड जा चुका था चूत में. चूत भी थोड़ी टाइट थी. अब मै पूरा लंड डालने वाला था. माँ ने मुझे रोक लिया पर मैं नहीं माना और कुछ सेकंड के बाद अब पूरा लंड डाल दिया. वो फिर चिल्लाने लगी… Maa bete ki chudai xxx story

माँ- आह मर गयी! माँ (हाँफते हुए)-जानू थोड़ा धीरे करो.

मै- रहा नहीं जाता तेरी इस प्यारी सी चूत को देख के! अभी तो अच्छे से कुटाई करूँगा इसकी.

मै अब लंड डाल के धीरे धीरे चोदने लगा. माँ अब मदहोश होती जा रही थी. मैंने उनके बूब्स दबा लिए. माँ-येस..येस..बहुत दिन के बाद ये सुख मिल रहा है मुझे..येस. अब मैंने चोदने की स्पीड तेज़ कर दी. माँ सिसकारियां लेते हुए चुद रही थी. कभी मेरे बाल कभी मेरे पीठ पे हाथ चला रही थी. कुछ देर में माँ मुझे अपनी बाँहों में जकडने लगी और तुरंत ही माँ की चूत ने पानी छोड़ दिया. मैंने महसूस किया उनकी चूत मेरे लंड को भी थोड़ी जकड ली है. मुझे और मजा आया। मैं फिर से चुदाई करने लगा. वो अब मुझसे खुली बातें करके चुद रही थी. माँ-येस.. येस. चोदो और जोर से चोदो मुझे! माँ से मुंह से ऐसी बातें सुनकर मै भी और उत्तेजित हो गया. उनको थोड़ी गन्दी गालिया देने को मन कर रहा था.

मै -ले मेरी प्यासी छिनाल! अच्छे से मिटा ले अपनी चूत की प्यास!

माँ- हम्म.. हम्म.. येस.. आहह कर रही थी!

मै -मजा आ रहा है ना तुझे?

माँ- हाँ..और चोदो मुझे..बुझा दो मेरे अंदर की आग!

मै-सब कुछ बुझा दूंगा..

माँ-कब से तरस रही थी.. आहह..मम..आह उम्म और मै और तेज़ धक्का मारने लगा. मेरा निकलने वाला था. मैंने लंड बाहर किया. माँ के दोनों बूब्स के बीच पे लंड रखा और लंड बूब्स के बीच घिसने लगा. कुछ ही सेकंड में मेरा ढेर सारा पानी निकल गया. पानी पिचकारी की तरह मेरी माँ के बदन और मुंह पे गिरा. मै और माँ कुछ सेकंड के लिए चैन की सांस ली. माँ ने अपनी ऊँगली से उनके लिप्स पे लगा मेरा पानी को पोंछ के टेस्ट किया. Maa bete ki chudai xxx story

माँ- मस्त टेस्टी है यह तुम्हारा गाढ़ा पानी.

मैंने घडी देखा तो रात के 11 बज चुके थे. दोनों को नशा और थकन की वजह से हम दोनों हस्ते हुए एक दूसरे को किस और हग करते हुए नंगा ही सो गए.

Read More Maa Beta Sex Stories..

See also  चाचा ने सिखाया सेक्सी अंदाज में चुदाई करना

Leave a Comment