मेरी अम्मी मेरे लंड की दीवानी

Hindi Stories NewStoriesBDBangla choti golpo

Ammi ki chudai sex story:- हैलो रीडर्स, मेरा नाम आकिफ है, मैं बंगाल में रहता हूँ मेरी उम्र 35 साल है, पिछले 20 सालों से मैं चुदाई की कहानी पढ़ रहा हूँ, जब मैंने ऐसी कहानियाँ पढ़ने की शुरआत की थी, तब मैं 15 साल का था और नौवीं क्लास में पढ़ता था। उस समय मैं स्कूल की पढाई के सिलसिले से साइबर कैफ़े जाता था, एक दिन अचानक कुछ सेक्स की साइट खुल गई, जिसमें चुदाई की कहानी मिली। तब से आज तक मैं कई सारी साइट में से कई सारी कहानियाँ पढ़ी। मुझे सेक्स कहानी पढ़ना अच्छा लगता है.

Ammi ki chudai sex story

इस कहानी की शुरुआत आज से 20 साल पहले ही हो गयी थी, जब मैं लगभग 15 साल का था. अब मैं अपने परिवार से आपका परिचय कराता हूँ. मैं (आकिफ) उम्र 35 साल, अब्बू (रेहान) उम्र 53 साल नौकरी पेशा आदमी हैं। अम्मी (रोज़ी) उम्र 45 साल हाउस वाइफ है (साइज -38)। बाजी शाजिया उम्र 28 साल फ़िलहाल तलाक शुदा है, मेरे गाँव वाले घर में ही रहती है (साइज 36-32-40) एकदम बम लगती है, उसकी एक बेटी है जो अभी दूध पीती है. मौसी (रोजीना) उम्र 46 साल विधवा है (साइज- 38-34-38) एकदम बम है। मेरी 2 मौसी और है और वो अपने ससुराल में हैं. मेरे 2 भाई और हैं जो मुझसे बड़े हैं और वो दूसरे सिटी में अपनी पढाई करते हैं और काम भी करते हैं. अब कहानी पे आते हैं।

ये लगभग 20 साल पहले की बात है, जब मैं 15 साल का था। एक मासूम सा लड़का बस स्कूल आता जाता था, पढाई पे ध्यान रहता था। हम लोग उस वक्त किराये के मकान में रहते थे। 1 रूम, 1 बरामदा था, रूम में 1 चौकी थी और 1 खटिया। मैं खटिया पे सोता था, मैं घर का छोटा था इसलिए सबका दुलारा भी था। सब मुझे बेहद प्यार करते थे, खास कर मेरी बाजी तो मुझपे अपनी जान छिड़कती है, मेरी अम्मी तो है ही. जब मैं 13 साल का था तब से अपनी अम्मी और अब्बू के पैर दबाता था, जब वो लोग कहते थे. एक रात की बात है हम सब सोये हुए थे, चौकी पे अम्मी अब्बू सोये थे और मैं खटिया पर। आधी रात के करीब किसी आवाज की वजह से मेरी नींद खुल गई, रूम में अँधेरा होने की वजह से कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। जब आवाज सुनी तो रूम में फच फच फच की आवाज आ रही थी। मैं सोच में पड़ गया, आखिर ये आवाज कैसी है। फिर कुछ देर बाद तमाचे की आवाज आई जैसे किसी ने किसी को चांटा मारा हो, चांटे की आवाज के साथ किसी के कराहने की आवाज आई। आह आह आह आह और जोर से और जोर से, मैं चुप चाप आवाज सुनता रहा। ये आवाज तो अम्मी की थी।

Ammi ko choda sex story

अम्मी – क्या कर रहे हो जी जोर से चोदिए ना बुर तो पूरा खोल दी हूँ, जोर से चोदिए थोड़ा दर्द कर रहा है पर आप इसका ध्यान मत दीजिये, बस धक्के लगाइये।

अब्बू – मेरी जान जोर से चोदूँगा तो तेरी बुर फट जाएगी.

अम्मी – तो क्या हुआ फटने दीजिये, ये बुर आपका ही है जैसे भी फाड़ना हो फाड़िए, लेकिन जोर से चोदिए।

अब्बू – ले फिर संभाल अपनी बुर को…

और जोर से धक्के मारने लगे, उनके धक्के मारने की आवाज साफ़ साफ़ सुनाई दे रही थी। जब अब्बू के टट्टे अम्मी की बुर से टकराते तो फच फच की आवाज आती..

अम्मी- (सिसकारी भरते हुए) आह आह आह उम् उम् मजा आ रहा है बस थोड़ा और अंदर कीजिये.

अब्बू – पूरा लंड डाल दिया हूँ मेरी जान! अब मैं झड़ने वाला हूँ क्या करू?

अम्मी – बस थोड़ी देर और चोदिए मैं भी झड़ने वाली हूँ…. आह आह चोदिए!

अब्बू – तो फिर ले पी मेरा माल बुर मे..

और वो अम्मी की बुर में झड़ने लगे। अम्मी भी शायद झड़ गई, क्यूकी वह भी जोर जोर से हाफने लगी थी। थोड़ी देर तक दोनों चुपचाप थे, करीब 10 मिन्ट्स बाद अम्मी बोली. Ammi ki chudai sex story

अम्मी – सुनिए जी अपना लंड बहार निकालो मुझे मूतने जाना है, जोर से पिशाब लगी है।

अब्बू – तो मूत ले ना यहीं.

अम्मी – नहीं बिस्तर पर नहीं मैं बहार जाऊंगी।

तो अब्बू शायद अम्मी के ऊपर से उतर गए, क्यूकी मुझे दरवाजा खुलने की आवाज आई, मैंने चुपके से देखा बहार से थोड़ी रौशनी आई। अम्मी बहार निकली पीछे से अब्बू भी निकले. वो लोग जैसे ही बहार निकले मैं झट से लाइट ऑन किया, देखा तो बिस्तर पूरा बिखरा पड़ा था और बिस्तर के बीच में भीगा हुआ था, मुझे कुछ समझ नहीं आया ये क्या है. मैं तुरंत लाइट ऑफ करके सो गया। सुबह मुझे स्कूल जाना था तो सुबह जल्द ही उठ गया। देखा माँ बिस्तर पे नहीं है, अब्बू घोड़े बेचकर से रहे हैं. मैं बिस्तर से उठा तो देखा, अम्मी बहार आंगन में झाड़ू लगा रही है।

माँ – उठ गया बाबू (प्यार से बाबू बुलाती है)।

मैं – हाँ अम्मी!

अम्मी – जा जल्दी फ्रेश हो जा, नाश्ता तैयार है, टिफ़िन भी तैयार है, स्कूल भी जाना है.

मैं – जी अम्मी!

ये बोलकर मैं बाथरूम में चला गया, तैयार होके निकला तब तक अम्मी बहार ही थी.

मैंने अम्मी से पूछा अम्मी रात को आप सिसक क्यू रही थी, अब्बू आपको मारे थे क्या? आपके गाल पे निशान भी हैं.

अम्मी घबरा गई, चेहरे का रंग मानो उड़ गया..

बोली नहीं तो भला तेरे अब्बू मुझे क्यू मारेंगे? वो हम सब से इतना प्यार जो करते हैं, तू छोड़ इन बातों को, जा तू स्कूल जा, नाश्ता करके.

मैं स्कूल चला गया. अगले 2 रात तक मुझे कोई आवाज सुनाई नहीं दी, फिर कुछ दिन बाद फिर से मुझे आवाज आई, चौकी हिलने की और अम्मी की आवाज भी लेकिन बहुत धीरे से अम्मी बोली.

अम्मी – सुनो जी उस रात बाबू जगा हुआ था, वो सब सुना था, अगली सुबह मुझसे पूछ रहा था की अब्बू आपको क्यू मारे थे? मैं तो उसे टाल दी। अब चोदिए मुझे लेकिन आवाज मत निकालिये धीरे धीरे चोदिए.

अब्बू – ठीक है मेरी जान.

Ammi ki chudai ki kahani

और वो लोग अपनी चुदाई में मगन हो गए, बिना आवाज किये. मुझे भी पता नहीं कब नींद आ गई, बात को लगभग 2 साल बीत गए. अब शायद सब नार्मल हो गया था, अब्बू शायद अब अम्मी को नहीं चोदते थे, अम्मी भी कुछ गुमसुम रहने लगी. मैं अब दसवीं पास कर चुका था और रिजल्ट आने के इन्तजार में घर पे ही रहता था। हमारा घर भी चेंज हो गया था, अब्बू की नौकरी लग चुकी थी, तो हमें 2 बीएचके क्वार्टर अलोट हुआ था। हम सब उसी में रहते थे, एक रूम मेरा था, दूसरा अम्मी अब्बू का. चुदाई का चस्का तो मुझे 16 साल में ही लग गया था, जब मैंने पड़ोस में रहने वाली मुंह बोली मौसी और उसकी बेटी को चोदा था। लेकिन वो कहानी बाद में बताऊंगा. अब्बू सुबह ड्यूटी चले जाते थे और शाम को ही आते थे. दिन भर घर मे मै और अम्मी रहते थे. Ammi ki chudai sex story

एक दिन सुबह के 10 बजे होंगे। अम्मी घर का सारा काम निपटा के फारिग हो गई। मैं यूं हीं बैठा कुछ किताबें देख रहा था, अम्मी मुझे पैर दबाने को बोली और अम्मी पलंग पे लेट गई। मैं अम्मी के पैर दबाने लगा। अम्मी हमेशा से साड़ी पहनती है, साड़ी नाभि के नीचे बांधती है, रंग गोरा है, नाभि गहरी है, छूछी तो कमाल है ही, लेकिन कभी खुला नहीं देखा। बस ब्लाउज के ऊपर से ही देखा। अम्मी अपनी साड़ी घुटनो के ऊपर कर ली लेकिन जांघे ढकी थी, मैं पैर दबा रहा था, अम्मी शायद कुछ सोच रही थी और अपना हाथ साड़ी के अंदर किये हुए थी। अचानक से अम्मी ने झटके में हाथ निकाला, मैंने देखा अम्मी के हाथ में बाल है, मैं समझ गया कि ये उसकी झांटे हैं जो वो नोच के निकाली है। मैंने धीरे से अम्मी की साड़ी घुटने के ऊपर सरका दी, जिससे अम्मी की जांघें दिखने लगी, अम्मी कुछ बोली नहीं। मैं धीरे धीरे जांघ को भी दबाने लगा, घुठने के नीचे दबाता और जैसे ही ऊपर जाता, जांघ को सहलाता।

अम्मी का ध्यान शायद मुझपे नहीं था, ऐसे ही कुछ देर तक जांघ सहलाता रहा था, की अम्मी ने अपने पैर फैला दिये, जिसकी वजह से साड़ी फ़ैल गई और अम्मी की झांटों से भरी बुर मुझे दिखने लगी। मैं एकटक बस अम्मी की बुर ही देख रहा था, अम्मी शायद ये नजारा भांप ली और उसने मुझे आवाज लगाई।

अम्मी – बाबू! बाबू!

मैं उसकी आवाज नहीं सुन रहा था, अचानक से वो जोर से पुकारी।

बाबू!

तब मैं बोला – हाँ!

अम्मी – कहाँ खोया हुआ है?

मैं – कहीं नहीं अम्मी.

अम्मी – तो मेरी आवाज सुनाई नहीं दे रही है क्या?

मैं – जी अम्मी बोलिये ना क्या बात है? मैं पैर तो दबा रहा हूँ।

और इधर मेरा लंड खड़ा भी हो गया, जो पेंट के अंदर तम्बू बना रहा था, लेकिन अम्मी को नजर नहीं आया.

अम्मी – जरा ऊपर दबाओ जांघ तक.

मैं – जी अम्मी!

ये बोलके मैं जांघ दबाने लगा। दबाते दबाते मैं अपना हाथ उनकी बुर तक ले जाता और सहला देता। ऐसा मैं 3-4 बार किया होगा। पाँचवीं बार जब मैं हाथ अम्मी की बुर तक ले गया, तो मेरा अंगूठा अम्मी की बुर को टच हो गया, जिसकी वजह से अम्मी चौंक उठी और बोली… Ammi ki chudai sex story

अम्मी – कहाँ दबा रहा है तू?

मैं अनजान बनते हुए – जांघ दबा रहा हूँ अम्मी.

अम्मी – ठीक से दबा.

मैं – जी अम्मी!

ये बोलके दबाने लगा। थोड़ी देर में मैं फिर से अपना हाथ अम्मी की बुर पे ले गया और सहला दिया। मेरे अंगुली पे कुछ चिपचिपा सा लगा, मुझे समझते देर न लगी कि अम्मी की बुर पनिया गई है, इतने में अम्मी ने झट से मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली..

अम्मी- क्या कर रहे हो? मेरी तो डर से हालत ख़राब हो गई।

मैं बोला – वो अम्मी कुछ नहीं, मेरा हाथ फिसल के आपके अंदर वाली जगह पे चला गया.

अम्मी – मैं कब से देख रही हूँ, तुम मेरी बुर को छू रहे हो क्या बात है?

मैं अम्मी के मुंह से बुर शब्द सुन के दंग रह गया, मैं घबरा रहा था. मैं माफ़ी मांगने लगा और बोला..

मै – अम्मी मुझसे गलती हो गई!

अम्मी – जरा संभल के मुझसे बोली, तुमको मेरी बुर पसंद है?

मैं – अम्मी ऐसी बात नहीं है, मन में बोला पसंद तो है और भी बहुत कुछ पसंद है अम्मी..

मैं इससे पहले कुछ बोलता, अम्मी ने मेरे बाल पकड़ के जोर से खींचे और एक हाथ से अपनी साड़ी को ऊपर उठा के अपने पैर खोल दिये और मेरा सर अपनी बुर पे लगा के बोली..

Ammi ko bete ne choda

अम्मी – अगर तुमको मेरा बुर इतना पसंद है तो फिर चाट इसको और मेरा सर दबाये रखी. मैं छूटने की नाकाम कोशिश करने लगा, लेकिन जैसे ही मेरा नाक अम्मी की बुर पे लगा, उसकी बुर से एक मादक खुशबू आ रही थी, मैंने भी झट से अपनी जीभ निकालके अम्मी की बुर पे फेरा डाली। अम्मी सिहर उठी इस्स्स्सस्स्स्स आआअह्ह इस्ससस्स्सस्स्स्स करने लगी.

अम्मी – बाबू! चाट मेरी बुर को! अच्छे से चाट! जीभ अंदर डाल. मैं अम्मी की बुर चाटते चाटते बोला…

मै – अम्मी क्या मैं बुर में ऊँगली डालूं?

अम्मी – बाबू नहीं अभी नहीं, थोड़ी बुर चाट ले, फिर जब मैं बोलूंगी तब.

मैं लगभग 10 मिनट्स तक अम्मी की बुर चाटा. फिर अम्मी बोली बाबू एक बात बोलूं?

मैं – जी अम्मी बोलिये ना.

अम्मी – ये बात किसी को बोलोगे तो नहीं?

मैं – नहीं अम्मी किसी को नहीं बोलूंगा.

अम्मी – पक्का ना बाबू?

मैं – हाँ अम्मी पक्का आप बोलिये ना.

अम्मी – बाबू मेरी बुर मे बहुत खुजली हो रही है तुम मेरी बुर की खुजली मिटाओगे?

मैं बनते हुए बोला, मै – क्या मतलब अम्मी? मैं कुछ समझा नहीं! अगर खुजली हो रही है तो मैं खुजला देता हूँ और अपने हाथ से अम्मी की बुर को खुजली करने लगा. Ammi ki chudai sex story

अम्मी – अरे पगले ऐसे नहीं, मैं तुम्हारे सामने अपनी टंगे फैलाये हुई हूँ और तुम हाथ से खुजली कर रहे हो.

मैं – तो कैसे अम्मी?

अम्मी – अरे मेरे भोले बाबू! मेरा कहने का मतलब है मुझे अपने लंड से चोदोगे?

मैं अम्मी से खुलना चाहता था तो मैं बोला..

मै – क्या अम्मी सिर्फ चोदूँ?

अम्मी- मैं तुम्हारे सामने आधी नंगी हूँ, तुमको जो करना है करो! चाहो तो पूरा नंगी कर लो.

मैं – क्या सच में? मैं जो चाहूँ वो कर सकता हूँ?

इतने में अम्मी उठी और मुझे कसके पकड़के अपना होंठ मेरे होंठ में रख कर चूसने लगी और बोली.

अम्मी – बाबू मुझे आज मसल दो.

मैं – अम्मी अगर अब्बू को पता चला तो?

अम्मी – तुम उसकी चिंता मत करो मैं सब संभाल लूंगी बस तुम किसी को मत बताना तेरे अब्बू को भी कुछ पता नहीं चलेगा! वैसे भी तेरे अब्बू मुझे पिछले 2 साल से नहीं चोदे हैं, मेरी बुर जल रही है, मैं थक गई हूँ, बुर को मसल मसल के ऊँगली कर कर के! अब मुझे तेरा लंड चाहिए.

मैं -अम्मी मैं ऐसे आपको नहीं चोदूँगा.

अम्मी- तो फिर कैसे?

मैं -पहले आप अपनी बुर की झांट की सफाई करो क्यूकी मैं आपकी बुर को अच्छे से चाटना चाहता हूँ.

अम्मी- तो तुम खुद ही सफाई कर दो, अपने अब्बू के रेज़र से.

मैं – हाँ ये ठीक रहेगा!

मैं अब्बू का रेज़र ले आया और एक साबुन भी। फिर अम्मी को बोला कि आप नंगी हो जाओ।

अम्मी बोली मैं कुछ नहीं करूंगी, तुमको जो करना है खुद करो।

मैं- ठीक है!

फिर और मैंने अम्मी की साड़ी खोला फिर ब्लाउज अब अम्मी सिर्फ ब्रा और साया में थी मैंने बोलै अम्मी ब्रा खोल दूँ?

अम्मी झल्ला कर बोली – हरामज़ादे मैंने तुमको बोला ना जो करना है वो कर, मैं तुमसे सब कुछ करवाने को तैयार हूँ।

मैं- ठीक है अम्मी!

और मैंने एक झटके में अम्मी की ब्रा फाड़ दी। ब्रा फटते ही अम्मी की चूचियां हवा में ऐसे लहरा के लटकी की जैसे पपीते लटकते हैं। अम्मी की चूचियां एकदम गोलाई की शेप में थी। फिर साया का नाडा भी इतनी जोर से खींचा की नाडा सहित अम्मी मुझमें आके चिपक गई। मैंने अम्मी की चूचियां जो की 38 साइज की है दोनों को एक साथ पकड़ के धक्का दिया। इससे पहले की वो पीछे हटती मैंने नाडा फिर पकड़ लिया और खींच दिया। जिसकी वजह से साया नीचे गिर गया औरवो मेरे सामने बिक्लुल नंगी हो गई. मैंने फिर उनकी चूचियों को पकड़ के धकेल दिया और उसकी चूचियों पे टूट पड़ा। एक चूसता तो दूसरा दबाता, निप्पल जो की भूरे रंग की है, दांत से काटता। दांत लगते ही वो सिसक पड़ती. जब मन भर गया, तब रेज़र और साबुन से अम्मी की बुर साफ़ किया. Ammi ki chudai sex story

तब अम्मी बोली अब आगे बढ़ो.

मैंने पहले उनके होंठो को चूमा, फिर कान के इर्द गिर्द जीभ फेरी, फिर गर्दन चूमा और चूचियाँ दबाता रहा। फिर नाभि से होते हुए बुर तक पहुंचा। अम्मी की बुर ज्यादा बड़ी नहीं थी, लेकिन बुर के होंठ थोड़े से निकले हुए थे, जिससे की बुर और भी अच्छी लग रही थी। मैंने जैसे ही बुर पे अपनी जीभ फिराई, अम्मी के मुंह से आवाज निकली.

अम्मी – हाय दय्या मार दिया रे! कितना जालिम है तेरा जीभ!

और अपने पैर फैला दी. मैं बुर के होंठ को जीभ से मस्ती मे चाट रहा था, कभी ऊँगली डाल देता, कभी जीभ डाल देता। ऐसे 15 मिनट्स करने के बाद अचानक से अम्मी ने अपनी पैर मेरे कंधे पे दबा दिये और जोर से बुर को मेरे मुहं पे लगा दी और झड़ने लगी। उनकी बुर से पानी की फव्वारा निकलने लगा। मेरा पूरा मुहं भीग गया, फिर वो अपनी बॉडी को ढीला छोड़ दी और हाफने लगी.

Ammi sex story hindi

मैं बोला – अम्मी आप तो झड गई! अब मेरा क्या होगा?

अम्मी – अभी तो खेल शुरू हुआ है, पूरा खेल तो बाकि है।

मैं बोला – क्या?

अम्मी- अभी तो चुदाई बाकि है, चलो अब मुझे चोदो!

मै – पर मेरा तो अभी खड़ा नहीं हुआ है.

अम्मी – तो लाओ मैं खड़ा करती हूँ!

मैं अपना पेंट खोलते हुए बोला – ये लो!

अम्मी की नजर जैसे ही मेरे लंड पे पड़ी वो बोली – ये तो पहले से ही खड़ा है!

मैं बोला – ये तो अभी नार्मल है!

ये सुनते ही वो सहम गई और बोली…

अम्मी – या अल्लाह ये कब और कैसे हो गया! इतना बड़ा हथियार तुम्हारे पास है और मुझे पता नहीं! अगर ये नार्मल है तो खड़ा कितना होगा?

मैं – खुद खड़ा करके देख लो!

अम्मी – क्या?

मैं – मेरा नुन्नु!

अम्मी – ये नुन्नु नहीं मेरे बाबू ये तो लंड है लंड.

मैं- तो खड़ा कर लो.

अम्मी मेरा लंड पकड़ के हिलाने लगी!

मैं- अम्मी हाथ से हिलाने से क्या होगा कुछ और करो ना.

अम्मी मेरा लंड पकड़ के ऊपर नीचे करके मुठ मारने लगी।

मैं बोला – ऐसे नहीं! ये ऐसे खड़ा नहीं होगा! इसको लार चाहिए.

अम्मी- क्या मतलब?

मैं – मतलब क्या इसको मुंह में लो चूसो इसको.

अम्मी – क्या बोल रहे हो, मैं इसको मुंह में नहीं लूंगी! ये गन्दा है! मैंने तेरे अब्बू का कभी नहीं लिया है.

मैं – (मैं भी नखरे दिखाया ठीक है) फिर रहने देते हैं चुदाई यहीं ख़तम!

और मैं अपना पेंट पहनने लगा.

अम्मी – अरे मेरे बाबू गुस्सा क्यू होता है! और मेरा पेंट पकड़ के उतार दी, फिर लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी। पहले तो सिर्फ टोपा ही चूसती रही।

कुछ देर बाद मैंने कहा – मुहं खोलो!

उन्होने जैसे ही अपना मुहं को गोल बनाया, मैं धीरे से लंड को उनके मुहं में अंदर करने लगा..

और बोला – सांस नाक से लो मुहं वैसे ही रखो!

मैंने धीरे धीरे पूरा का पूरा लंड अम्मी के हलक तक उतार दिया और अम्मी का सर पीछे से पकड़ के लंड हलक में दबाये रखा. हलक की गर्मी पा कर मेरा लंड फूलकर पूरा मोटा हो गया. ऐसे ही मैंने 8-9 बार किया। जब बाहर निकला तो अम्मी की आँखों से आंसू निकल रहे थे। मेरा लंड देखते ही अम्मी का मुहं खुला का खुला रह गया। Ammi ki chudai sex story

मैंने कहा -अम्मी अभी मुहं खुला है बुर खुलना बाकि है! अभी भी समय है बुर खुलवाना है या रहने दूँ?

अम्मी- बाबू ये तो कम से कम 10 इंच का होगा?

मैं- हाँ अम्मी ये 10 इंच का ही है.

अम्मी – लेकिन बाबू इतना बड़ा लंड मैं अपनी बुर में नहीं ले पाऊंगी। तुम्हारे अब्बू का मुश्किल से 5-6 इंच होता है वो भी खड़ा होने के बाद.

मैं- तो क्या करना है अम्मी? अपनी बुर खुलवानी है या फिर रहने दूँ?

अम्मी – नहीं बाबू अब जो होगा देखेंगे, अब तो चाहे मेरी बुर फटे तो फटे! सहने की कोशिश करूंगी! चल अब डाल.

मैं – तो तैयार हो अपनी बुर चुदवाने को?

अम्मी – हाँ में सर हिलाके बोली – हम्म्म.

मैं – अच्छा ये बताओ की मैं इसी बुर से निकला था?

अम्मी – हाँ बाबू तुम इसी बुर से निकले थे, जब निकले थे तब तेरा सर बहार निकलते हुए मेरी बुर फटी थी और अब आज तुम इस लंड से फाड़ो, लेकिन धीरे धीरे लंड डालना बहुत मोटा और लम्बा लंड है तुम्हारा.

मैं – देखता हूँ!

और मैंने अम्मी को बिस्तर पे लिटा दिया और उसकी टांगे अपने कंधे पे रख कर बोला..

मै – अम्मी लंड को सही जगह पे लगाओ!

अम्मी ने लंड को पकड़ कर अपनी बुर के छेद पे सेट किया और बोली..

अम्मी – हो गया धीरे से अंदर कर!

मैंने जरा धक्का मारा तो मेरे लंड का टोपा बुर के अंदर घुस गया! अम्मी चिहुंक उठी और बोली….

अम्मी -आह इस्स्सस्स्स्स इस्स्स्सस्स या अल्लाह रुक जा बाबू.

मैं – क्या हुआ अम्मी निकाल लू क्या?

अम्मी – नहीं थोड़ा रुक दर्द कर रहा है.

मैं – मैंने सोचा इसी दर्द का फायदा उठाता हूँ..

और मैंने अपने दोनों हाथ से अम्मी की गर्दन पकड़ के जोर की पकड़ बनाई और एक जोरदार करारा धक्का मारा। मेरा पूरा लंड अम्मी की बुर को चीरता हुआ सीधे बच्चेदानी को टकराया, मुझे भीजो र का झटका लगा। अम्मी इतनी जोर से चिल्लाई कि मैं बता नहीं सकता। मैंने झट से उनका मुहं हाथों से बंद कर दिया लेकिन वो छटपटाने लगी। फिर मैंने उनका मुंह छोड़कर उनके होंठ को अपने होंठ से दबा लिया और चूचियों को दबाने लगा. उनकी आवाज मेरे मुंह में ही दब गयी। फिर मैंने जोरदार धक्के पे धक्के देने शुरू कर दिए। अम्मी रोने लगी, उनकी आँख से आंसू की धार निकलने लगी. फिर थोड़ी देर बाद जब उनका दर्द कम हुआ तो वो शांत हुई और मैंने भी उनके होंठ छोड़ दिए. फिर उनके आंसू को चाट लिया और उनकी चूचियों को पकड़ कर उनको चोदने लगा। उन्हे भी अब मजा आने लगा। मेरा हर धक्का उनकी बच्चेदानी को लगता और वो सिसक जाती।

Ammi ki bur chudai story

अम्मी बोली… अम्मी – बाबू तुमको पता नहीं आज पहली बार मेरे बच्चेदानी तक लंड गया है, बच्चेदानी में चोट लगने से दर्द तो करता है लेकिन मजा भी आ रहा है, अब तुम मेरे दर्द की फ़िक्र न कर, लगा जोर जैसे तुमने मेरी बुर फाड़ी है वैसे ही मेरी बच्चेदानी भी फाड़ दे, लेकिन जम कर चोद मुझे.

मैं – क्या अम्मी आप को अगर चोदकर आपके बच्चेदानी भी फाड़ दूँ तो तुम बच्चे कैसे पैदा करोगी?

अम्मी – अब बच्चे क्या क्या करूंगी? 4 बच्चे तो हो गए हैं.

मैं – क्या मैं कुछ बोलूं?

अम्मी – हाँ बोल ना.

मैं – क्या तुम मेरा एक बच्चा पैदा करोगी?

अम्मी- पागल हो गया है क्या? मैं अब 45 साल की हो गई हूँ इस उम्र में बच्चा? नहीं नहीं बच्चा नहीं, वैसे भी अब मेरी मासिक रुक चुकी है तो बच्चे का चांस नहीं.

मैं भी उनको कुछ नहीं बोला और उनको चोदने लगा। थोड़ी देर बाद मैंने अम्मी के एक पैर को उल्टा किया तो वो समझ गई की क्या मैं चाहता हूँ और वो उलट गई, वो जैसे ही उलटी उनकी बुर से फट की आवाज के साथ मेरा लंड बहार निकल गया। मैं भी अब पीछे से अम्मी के दोनों चूतड़ पकड़ कर लंड बुर पे लगाया और एक ही झटके में पूरा डाल दिया। फिर से वह अम्मी की बच्चेदानी से जा टकराया। अम्मी आगे को झुक गई और फिर मैं उनके दोनों चूचियों को पकड़ कर धक्के पे धक्के देने लगा। करीब 30 मिनट्स में अम्मी की बुर से फव्वारा निकलने लगाऔर वो झड़ गई। उनकी बुर के पानी की गर्मी से मेरा लंड भी जवाब देने लगा. मैंने झट से अम्मी को सीधा किया. और लंड बुर में डालकर चोदने लगा। वो समझ गई की मैं भी छूटने वाला हूँ, वो बोली… Ammi ki chudai sex story

अम्मी – बाबू लंड बहार निकाल लो, अंदर मत झड़ना, माल मेरे पेट पे निकालो.

मैं – नहीं अम्मी! एक शर्त पे लंड बहार निकलूंगा!

वो बोली – क्या?

तो मैंने बोला – मैं अपना माल जाया नहीं करना चाहता, या तो बुर के रास्ते पीओ या फिर मुहं से पीओ, बोलो क्या करोगी? जल्दी बोलो…

और मैं धक्के देता रहा। अम्मी सोचती रही की क्या करू तब तक मैं 3-4 धक्के देकर पूरा लंड बुर के अंदर तक ले जाकर झड़ने लगा। मैं इतना झड़ा कि अम्मी का पेट फूलने लगा।

अम्मी बोली…

अम्मी – या अल्लाह ये तूने क्या कर दिया! तुमने मेरे बुर में ही झाड़ दिया.

मैंने कहा… मैं – मैंने आपको ऑप्शन दिया था लेकिन आप देरी कर दिए।

अम्मी – अगर मेरे पेट में बच्चा रह गया तब?

मैं – तो क्या हुआ बच्चे को जन्म नहीं दोगी?

अम्मी कुछ देर सोचने के बाद मुझे प्यार से चूमते हुए बोली…

अम्मी – जरूर देती जन्म! लेकिन अब मेरा बच्चा नहीं रुकेगा.

फिर हम हंसने लगे. जब मैंने घडी में देखा तो 2 बज रहे थे, मतलब पिछले 4 घंटे से हम चुदाई के खेल में लगे रहे. मैंने अम्मी से कहा..

मै – अम्मी रात में तो आप अब्बू के पास सोती हो, अगर मेरा मन किया चुदाई का तो?

अम्मी की चुदाई सेक्स स्टोरी

अम्मी – नहीं ये गलती नहीं! अगर तेरे अब्बू को जरा सी भी भनक लग गई तो हम दोनों की शामत आ जाएगी. इसलिए बाबू जब तेरे अब्बू रहेंगे तब नहीं. वैसे भी अब मैं पूरी की पूरी तुम्हारी हूँ, बस नाम के लिए तेरे अब्बू के पास रहूंगी. Ammi ki chudai sex story

ये बोलके अम्मी उठने लगी, लेकिन मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया,

मैंने अम्मी से कहा – अम्मी जरा इसे देखो इसे और चाहिए?

अम्मी – तो रोका किसने है?

मैं- तो हो जाये!

फिर मैंने अम्मी को बिस्तर पे पटका और चढ़ गया फिर लगा चुदाई करने! धक्के पे धक्के देने लगा! पूरा कमरा फिर से फच फच फच की आवाज से गूंज उठा। इस बार अम्मी जोश दिलाने लगी बोली.

अम्मी – शाबाश बाबू बहुत बढ़िया आज मेरी बुर की प्यास बुझी है चोद जोर जोर से चोद! फाड़ तो दिए हो मेरी बुर और फैलाओ इसको चोदो और सिसकारी भरने लगी.. आह आह उम्म उम्म! येस मेरे बाबू क्या दम है रे तेरे लंड में! तेरा लंड तो वहां तक जा रहा है, जहाँ तक तेरा बाप सोच भी नहीं सकता मेरा नाभि लगता है जैसे फट जाएगा। चोद और चोद. और अपने पैर फैला दी….

मैं – अम्मी लो मेरा लंड अपनी इस पनियाई बुर में! लो सम्भालो मेरे झटके को.

और गच गच गच करके चोदने लगा। मेरा टट्टे अम्मी की बुर से टकराते ही फच फच की आवाज से कमरा गूंज उठा। दोपहर का टाइम था, आस पास पड़ोस के सब सोये हुए थे, इसलिए अम्मी पूरे मज़े से चुद रही थी. मैं भी अब अम्मी को जोर जोर से उसकी चूचि पे थप्पड़ मार मारके चोदने लगा। अम्मी नीचे से अपनी गांड उठा उठा के मेरा साथ दे रही थी…

यस मेरे बाबू चोदो अपनी अम्मी को! बोलकर मेरा उत्साह बढ़ा रही थी। वो जितना बोलती उतनी जोर से मैं उनको धक्के मारता, उनका पूरा बदन थर थर कांपने लगा। करीब 40 मिनट बाद मैं झड़ने को आया। अम्मी इस बीच 2 बार झड़ चुकी थी. मैंने अम्मी को बोला की मेरी तरफ देखो। अम्मी की आँखों में देखते हुए मैं अम्मी की बुर में झड़ने लगा।

अम्मी को चोदा

अम्मी बोली. अम्मी – तुम बहुत बदमाश हो मेरा धयान अपनी तरफ खींच कर मेरा कोख फिर से भर दिया। कोई बात नहीं वैसे भी मेरा मासिक रुक गया है कोई खतरा नहीं है, मैं प्रेग्नेंट नहीं हूँगी.

मैं हसने लगा! अम्मी भी हंसने लगी. उसके बाद मैंने अम्मी को 2 बार और चोदा और दोनों बार माल अम्मी की बुर में ही डाला। अम्मी की बुर डबल रोटी की तरह फूल कर लाल हो गई थी। फिर एक साथ नहाया, खाना खाया। तब तक अब्बू के आने का वक्त हो गया था। कुछ देर बाद अब्बू आ गए, फिर सब नार्मल हो गया, जैसे कुछ हुआ ही ना हो। लेकिन एक बात ये हुई कि अम्मी की चाल बदल गई थी। अब्बू ने पूछा क्या हुआ तो अम्मी बोली की पैर फिसल गया था इसलिए थोड़ी मोच आई है। अब अब्बू को क्या पता की उसकी बीवी का पैर खुद के बेटे के लंड के ऊपर फिसला है, जिसके कारण उसकी चाल टेढ़ी हो गई है.

तो रीडर्स कैसी रही मेरी रियल स्टोरी? रिप्लाई कीजियेगा। आगे क्या हुआ जल्दी ही अपडेट करूंगा।

Read More Ammi Chudai Story

See also  राखी पर भाई ने बहन को 9 इंच का गिफ्ट दिया

Leave a Comment