वासना को भड़का कर सर जी ने मुझे खूब चोदा

Hindi Stories NewStoriesBDBangla choti golpo

आज मैं आपको एक ऐसी कहानी शेयर कर रही हूं, जो आपको बहुत पसंद आएगा क्योंकि यह कहानी बहुत ही हॉट और सेक्सी है। आज तक यह मेरे मन में ही दबा हुआ था पर आज मैं आप सभी दोस्तों के साथ इस वेबसाइट पर जाने nonvegstoryBangla choti golpo पर शेयर कर रही हूं। आशा करती हूं मेरी यह सेक्स कहानी आप सबको बहुत ही हॉट और सेक्सी लगेगा।

आज मैं आपको बताऊंगी कि 18 साल होते ही कैसे मेरी वासना भड़क गई थी और मैं जन्मदिन मनाने से पहले ही अपनी चूत की सील अपने सर से तुड़वा कर वासना की आग बुझाई। यह सच्ची कहानी है, इसलिए जब मैं इस कहानी को लिख रही हूं सच पूछिए तो मुझे ऐसा लग रहा है कि वह मुझे सामने चोद रहे हैं। ऐसा मुझे फील हो रहा है लिखते हुए जैसे कि सब कुछ वैसा ही सच में हो रहा है। मेरी चूत गीली हो चुकी है। मेरे होंठ सूख रहे हैं, मेरी चूचियां टाइट हो चुकी है निप्पल का रंग बदल गया है। मेरी सांसे तेज हो गई है. मेरी सांसो से तेज तेज गर्म हवा निकल रही है। मैं अपने आप पर काबू नहीं पा रही हूं।

कहानी लिखकर में जल्दी से ठंडे पानी से नहा लुंगी ताकि मेरी गर्मी थोड़ी शांत हो जाए। तो मैं बिना आप लोगों का समय बर्बाद के सीधे कहानी पर आती हूं क्योंकि मुझे भी जल्दी बाजी है आप सभी लोगों को अपनी कहानी बताने के लिए।

मेरा नाम सपना है मैं अभी 20 साल की हूं, और यह कारनामा मैंने 18 साल में ही शुरू कर दिया, जिस दिन मैं 18 साल की हुई थी, उसी दिन अपने चूत की नथ को तुड़वाई थी। मुझे बहुत दर्द हुआ था, पर मजा बहुत आया था। जब मेरे सर जी का लंड मेरी चूत के अंदर गया तो मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया था। मेरी सांसे तेज तेज चल रही थी। मेरे चूचियां टाइट हो गई थी निप्पल का रंग पिंक हो गया था। सर जी का मोटा लैंड मेरी चूत में सेट हो गया था। मैं ज्यादा हिल भी नहीं पा रही थी। पर वह आराम आराम से लंड को अंदर बाहर कर रहे थे।

जब मैं 12वीं के पेपर देकर कॉलेज एडमिशन का इंतजार कर रही थी। तभी मेरे पापा ने अपना नौकरी बदल दिया और हम लोग एक कोने से दूसरे कोने आ गए। पुराने लोग वही छूट गए जहां पर हम लोग आए वहां पर हम लोगों के लिए सब में आता था। हम लोग दिल्ली में रहते हैं। मेरी मम्मी सिलाई का काम करते हैं और कभी-कभी ब्यूटी पार्लर काफी काम कर लेते हैं जो महिलाएं घर पर आती है। मेरे पापा सुबह जॉब पर जाते हैं अब रात को 11:00 बजे घर आते हैं। मैं अकेली लड़की हूं अपने माता-पिता की मेरा कोई भाई बहन नहीं है।

मेरे घर के बगल में ही एक अंकल रहते हैं वह बहुत ज्यादा बढ़ा तो नहीं है पर जब से मैं आई अंकल बोलने लगी क्योंकि वह मेरी मम्मी को भी बोल रहे थे। अंकल का एकाउंट्स का काम था। उनके पास कई कंपनियों का काम था तो घर से ही वह करते थे। एक दिन मेरी मम्मी से बात की सपना को आप अपने पास रख कर कुछ काम सिखा दीजिए। क्योंकि मैं सिलाई से ज्यादा पैसा नहीं कमा पाते हो उसके पापा भी ज्यादा नहीं कमा पाते हैं। मम्मी ने थोड़ा दुखड़ा रोया और अंकल मुझे बुला लिया।

अंकल हॉट और सेक्सी किस्म के इंसान हैं। उनकी पत्नी गांव गई हुई थी, बच्चा होने वाला था। घर में अंकलअकेले ही रहते थे। मैं तो 10:00 बजे उनके पहुंच जाती थी। वह मुझे काम सिखाने लगे दिन का खाना कभी मैं ही बना देती थी अभी वह बना देते थे तो मैं खाती थी। सिलसिला चलने लगा। धीरे-धीरे हम दोनों में ऐसा रिलेशन हो गया जैसा कि एक दोस्त का हो। बंद फ्लैट में एक लड़की और एक आदमी हो चाहे आदमी कितने साल का क्यों ना हो दिल आ ही जाता है।

मेरा दिल भी अंकल पर आ गया और दिल भी मेरे ऊपर आ गया। बहुत ही ज्यादा मदद करने लगे गिफ्ट देने लगे काम सिखाने लगे। मैं बहुत खुश हो गई मेरी मम्मी भी खुश थी मेरे पापा खुश नहीं थी वह नहीं चाहते थे कि मेरी बेटी किसी मर्द के पास अकेले दिन भर रहे। क्योंकि मेरे पापा भी इसी किस्म के इंसान है इसलिए उनको डर लगता है।

धीरे-धीरे प्यार परवान चढ़ा और एक दिन 18 बर्थडे पर उन्होंने मुझे गले लगा लिया गिफ्ट दिया और फिर मेरे होंठ को चूम लिया। मुझे तो ऐसा लग रहा था वह भी 18 साल का इंतजार कर रहे थे। और मैं कब से तड़प रही थी उनकी बाहों में आने के लिए उस दिन मेरी ख्वाहिश पूरी हो गई। जैसे ही उनका होंठ मेरे होंठ पर पड़ा मैं बेचैन हो गई मैं पागल हो गई मेरी चूत गीली हो गई मैंने उनको रोका नहीं और फिर बात आगे बढ़ गई। मेरी चुचियों को दबाते हुए मुझे पलंग पर लिटा दिया मेरे कपड़े उतार दिए मेरे चुचियों को मुंह में लेकर पीने लगे। यह पहला एहसास था किसी मर्द का, मेरी वासना भड़क गई थी मेरी चूत के छेद बहुत छोटी थी तुम मेरे मन में डर बना हुआ था कि पता नहीं आज क्या होगा।

10 मिनट के अंदर ही वह मेरे चूत के पास पहुंच गए। मेरी पेंटिंग खोल कर अलग कर दिया मेरे पैरों को अलग-अलग करके मेरी चूत को चाटने लगे। 10 मिनट तक वह चाटते रहे मैं बार-बार गरम गरम नमकीन पानी छोड़ते थे और वह चार जाते थे। मैंने उनका लंड हाथ में लिया तुम्हें से हर गई। इतना मोटा लंड डर भी गई थी कि कहीं मेरी चूत फट ना जाए। धीरे-धीरे वासना की आग में मैं देख रही थी।

उन्होंने मेरे दोनों टांगों को अलग-अलग किया अपना मोटा लैंड मेरी चूत के छेद पर लगाया। घुसाने की कोशिश की पर काफी दर्द होने की वजह से मैं बार-बार धक्का दे देती थी, या खुद को उन से अलग कर लेती थी। ऐसे में उनका लंड खड़ा का खड़ा हीरा जाता था और मैं अलग हो जाती थी। उन्होंने दो-तीन बार ट्राई किया पर गया नहीं। उन्होंने मुझे समझाया आराम आराम से करूंगा और फिर उन्होंने दोनों हाथों से चूचियों को मसलते हुए अपना लंड मेरी चूत के छेद पर लगाया और होले होले 5-7 धक्के में अंदर घुसा दिया। मैं दर्द से शांत हो गए मेरे चूचू को सहला रहे थे।

धीरे-धीरे अब वह अंदर बाहर करने लगे और मेरा दर्द भी धीरे-धीरे कम होने लगा। 10 मिनट के बाद वह जोर-जोर से मुझे चोदने लगे पर दर्द ज्यादा होने की वजह से मैं उनको कहते थे कि जोर से मत करो। फिर वह होले होले मेरी चूत के अंदर अपने मोटे लंड को घुस आते थे और फिर मेरे चुचियों को दबाते हुए मुझे चुम्मा लेते थे। 20 से 25 मिनट में उन्होंने मुझे शांत कर दिया और अपना सारा माल मेरे चूत के अंदर ही छोड़ दिया।

उस दिन के बाद से मुझे उनकी आदत से लग गई थी। 10:00 बजे अच्छे से तैयार होकर वहां जाती थी और काम धंधा तो कुछ होना था नहीं वह भी मेरा इंतजार करते रहते थे। जब मैं उनके पास पहुंचते वह अपनी बाहों में ले लेते पहले खूब चुम्मा लेते फिर मेरी चुचियों को दबाते फिर मुझे अपने साथ सुला कर अपना टांग मेरे ऊपर चढ़ा कर मेरे से बातें करते रहते हैं। फिर मुझे चोदते। रोजाना का ही मेरा काम था दोपहर पूरा वह चोदते रहते थे मुझे ,

दिन भर में मुश्किल से में 2 घंटे काम करते थे और 8 घंटे मजाक करते थे उनके साथ। 6 महीने बाद उनकी बीवी आ गई 6 महीने तक तो मैंने खूब मजे की। पर डेढ़ साल लुकाछिपी करके वह मुझे चोदते थे। जब कभी उनकी वाइफ बाहर जाती थी या कभी सर मुझे बाहर ले जाते थे। पर दोस्तों बहुत मजा आया वह 2 साल। अब मेरे पापा का तबादला फिर से दूसरी ओर हो गया है और मैं वहां आ गई हूं अब मिलना नहीं हो रहा है मैं तड़प रही हूं उनकी यादों में।

पर पापा कह रहे हैं फिर से वही चलेंगे क्योंकि वह कंपनी वाला बुला रहा है अब देखिए क्या होता है अगर मैं गई तो फिर से अपनी कहानी नॉनवेज storyBangla choti golpo पर लिखूंगी तब तक के लिए धन्यवाद

See also  चाचा ने माँ को चोदा घर में दौड़ा दौड़ा कर, My Mother and My Uncle Sex

Leave a Comment