Mom Ki Chudai Story | माँ सगे बेटे से चुदवाकर बनी उसकी बीवी

Hindi Stories NewStoriesBDBangla choti golpo

Mom ki chudai story:- हेल्लो मेरे प्यारे दोस्तों! मेरा नाम सोनिया है. मेरी उम्र 46 साल है और मैं ब्यूटी पार्लर चलाती हूँ. मेरी फिगर बूब्स 38, कमर 30 और हिप्स 42 है. मेरे घर में मेरा 26 साल का बेटा (राज), मेरी 24 साल की बेटी (रुपाली) और मेरे पति (अशोक) है. हम सब दिल्ली में रहते है. दोस्तों मैं बहुत ही मॉडर्न खयालात की हूँ. हम काफी रिच है. मैं ज़्यादातर डीप नैक बैकलेस ब्लाउज, ट्रांसपेरेंट साड़ी, शार्ट टॉप और टाइट जीन्स जिसमे मेरी गांड एक-दम मस्त दिखती है. हां तो दोस्तों सीधा स्टोरी पर आते है. मेरे हस्बैंड ज़्यादातर बिज़नेस के सिलसिले मे बाहर ही रहते है लाइक आउट ऑफ़ इंडिया. तो घर मंथ में 2-3 बार ही आ पाते है. और जब भी आते है तो मुझे दबा के चोदते है. वो खुद तो जल्दी ढीले हो जाते है पर मैं असंतुष्ट ही रह जाती हूँ. फिर बाद में मुझे अपनी चूत में ऊँगली ही करके सोना पड़ता है और चूत में ऊँगली, मै अच्छा सेक्स इमेजिन करके करती थी. लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिससे मेरे दिन और रात दोनों, जो मैं अकेली अपनी फिंगर्स के साथ काट रही थी वो बदल गए. उस दिन के बाद से मैं रोज़ दिन और रात में पूरे चरम सुख को प्राप्त करती हूँ. वो भी अपने बेटे से चुदाई करवा के.

Mom ki chudai story hindi kahani

हां दोस्तों ये स्टोरी पूरी सच्ची घटना है और इस वेबसाइट के बारे में मुझे मेरी सहेली (प्रिया) ने बताया था. वो भी एक बहुत अच्छे फिगर वाली एक शादी-शुदा औरत है. उसका पति बहुत दारु पीता है तो उसको सही से चोद नहीं पाता. लेकिन उसका एक बेटा है जवान 25 साल का और वो उससे ही चुदाई करवाती है. वो मेरी सेक्स स्टोरी वेबसाइट की सारी कहानियां रीड करती है, ज़्यादातर माँ बेटा सेक्स वाली. तो फ्रेंड्स बात जब की है जब मेरा बेटा बी.टेक की पढ़ाई ख़तम करके वापस घर आया था. उस दिन से पहले मेरे मन में उसके लिए ऐसा-वैसा कुछ नहीं था और जब वो फाइनली घर आने वाला था तो मैं उसका वेट कर रही थी. फिर उसका फ़ोन आया की माँ मैं बस हाफ ऑवर में पहुंच जाऊंगा. मैंने भी एक अच्छी सी साड़ी डाल ली थी और जैसा की आप सब ने मेरा साइज भी रीड किया होगा तो मेरे बूब्स काफी हैवी है और गांड भी काफी बड़ी है, जोकी काफी सेडक्टिव है. मैं वो साड़ी और सुन्दर सा बैकलेस और डीप नैक ब्लाउज पहन के उसकी वेट करने लगी.

See also  Virgin girl sex story, अंकल ने जोर से घुसाया था लंड इसलिए में चीख गई

फिर हाफ एन ऑवर के बाद बेल बजी और मैं डोर ओपन करने गयी. मैंने देखा मेरा बेटा आ गया था और मैं उसको 2 साल के बाद फेस टू फेस मिल रही थी. वैसे तो हमारी फ़ोन पे बात होती रही थी लेकिन मेरा कभी उसके पास जाना नहीं हुआ. और वो भी कॉलेज की छुट्टियों में कम ही आता था. फिर जैसे ही मैंने डोर ओपन किया और उसको देखा तो उसको देखते ही मैंने उसको ज़ोर से हग किया और काफी टाइम तक हग करके रखते हुए ही उसका हाल चाल पुछा. हग करते ही मेरे शरीर में एक करंट से लगा. क्यूंकि मेरा बेटा जिम भी जाता था तो उसने अपनी बॉडी काफी मेन्टेन करके रखी हुई थी और यहाँ मैं भी जिम जाती थी तो मेरा भी फिगर एक दम मैनटैनड था जिससे पड़ोस के काफी आदमी और बाहर के कई जवान लड़के देखते रह जाते थे. मेरे बेटे ने भी मुझे ऊपर से नीचे देखा और मुझे कॉम्पलिमेंट किया. बेटा: माँ यू आर सो ब्यूटीफुल एंड लुकिंग सो यंग एंड फिट. हां तो जैसे ही मैंने उसको हग किया तो मेरे पूरे शरीर में एक करंट सा लगा. लेकिन मैंने उस टाइम वो इग्नोर कर दिया और उसको घर के अंदर ले गयी. Mom ki chudai

Mom son sex story

फिर उसको पानी-वाणी पिलाया और उसके लिए चाय भी बना कर दी. उसके बाद हम दोनों ने कुछ बातें की जैसे मेरा पार्लर कैसा चल रहा था और पापा का बिज़नेस और सिस्टर की स्टडी वगैरा. फिर वो अपने रूम में फ्रेश होने और कपडे चेंज करने चला गया. हां तो दोस्तों मैं अपनी बेटी (रुपाली) के बारे तो आप सब को बताना भूल ही गयी. मेरी बेटी बहुत ही सुन्दर और एक कच्ची कली है. उसका फिगर 32-28-34 है, वो कॉलेज में पढ़ती है. वैसे तो पूरा दिन उसका कॉलेज में निकल जाता है और बाकी का कुछ समय वो अपने कॉलेज फ्रेंड्स के घर स्टडी करने के लिए निकल जाती है. उस दिन जब मेरे बेटा आया था तो दिन के 2 बज रहे थे और मेरी बेटी कॉलेज से शाम को 5 बजे आती है. मेरा बेटा चेंज करने के लिए अपने रूम में गया था और मैं नीचे खाना तैयार कर रही थी. काफी देर हो गयी. मेरा खाना भी बन गया था और मैंने उसको 2-3 आवाज़े भी लगायी. लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया. फिर मैं उसके रूम में गयी उसको देखने. उसके रूम का डोर क्लोज था लेकिन अंदर से लॉक नहीं था. फिर मैंने डोर ओपन किया तो अंदर देखते ही मेरी आँखें खुली की खुली रह गयी.

मैंने देखा मेरा बेटा नंगा अपने बेड पे अपनी आईज क्लोज करके लेता हुआ था. वैसे तो उसने टॉवल डाल रखी थी लेकिन शायद फैन की स्पीड की वजह से उसकी टॉवल ओपन हो गयी होगी. जिसके कारण उसका 8 इंच का लम्बा और मोटा लंड पूरे जोश में खड़ा था. शायद वो एक रोमांटिक सपना देख रहा था. उसका इतना लम्बा और मोटा लंड देख के मेरी आँखें खुली की खुली रह गयी. पहले तो मैं वहाँ से जाने लगी. लेकिन फिर मैंने देखा उसकी आईज क्लोज थी. तो मैं वही खड़ी रही और उसके लंड को घूरने लगी. मेरे मुँह से आह भी निकल गयी और धीरे-धीरे मेरा हाथ मेरी चूत पे पहुँच गया. मैं अपने ही बेटे का लंड देख के पागल सी हो गयी थी, जिसके कारण मैं अपनी चूत को सहलाने लगी थी साड़ी ऊपर करके. मैंने अपने जीवन में इतना लम्बा और मोटा चमकदार लंड नहीं देखा था. और अपने ही घर में अपने ही बेटे का लंड देख के मैं मदहोश हो गयी थी. अपनी चूत में मैं ऊँगली करे जा रही थी. मेरे मुँह से आह आह की आवाज़ भी निकल रही थी, लेकिन कही वो उठ न जाये मेरी आवाज़ सुन कर तो मैंने अपने एक हाथ से अपना मुँह बंद किया और दूसरा हाथ मेरी चूत पर था.

Mom ki chudai ki kahani

क्यूंकि जैसे मैंने पहले भी बताया है की मेरे हस्बैंड ज़्यादातर बाहर ही रहते है और अगर आते भी है तो चोदते तो है लेकिन उनका खुद का जल्दी निकल जाता. तो मैं अधूरी ही रह जाती हूँ और आज अचानक से इतना लम्बा लंड देख के मैं अपने आप को रोक नहीं पायी और धीरे-धीरे मैं झड़ने की कगार पे आ गयी थी. मैं बहुत सालों से प्यासी थी और मेरा तो दिल कर रहा था की सारे रिश्ते भूल जाऊ और अभी अपने बेटे के लंड पे बैठ जाऊ और खूब चुदाई करवाऊँ. वैसे भी एक जवान लंड से चुदाई का मज़ा ही कुछ और है. मैं जानती हूँ दोस्तों कि माँ बेटे का रिश्ता अलग होता है. पर क्या करू आखिरकार हूँ तो एक औरत ही न. जिसको कोई तो चाहिए जो उसको प्यार करे और उसकी चूत की प्यास बुझाये. जोकी मेरा हस्बैंड तो कर नहीं पाया. तो आज मैं अपने बेटे का लंड देख के अपनी भावनाओ को रोक नहीं पायी और वही ऊँगली करने लगी. Mom ki chudai

आह आअह्ह्ह इस्स्सस्स्स्स आआह्ह्ह. थोड़ी देर में ऊँगली करते-करते मैं झड़ने ही वाली थी की तभी डोर बेल बजी (शिट साला कौन आ गया इस समय मेरे मुँह से निकला). मेरी साँसे बहुत तेज़ चल रही थी. मेरे बूब्स बहुत तेज़ ऊपर-नीचे हो रहे थे. फिर मैंने अपने आप को कण्ट्रोल किया और देखा तो क्लॉक में 5 बज रहे थे. मैंने सोचा रुपाली ही आयी होगी कॉलेज से. फिर जल्दी से मैंने अपनी साड़ी नीचे की और अपने आप को संभाला. अपने बेटे के रूम का डोर क्लोज करके मैं डोर ओपन करने गयी तो देखा रुपाली ही थी.

मै: रुपाली तू आ गयी बेटा. आजा-आजा अंदर और तुझे पता है न आज तेरा भाई आने वाला था?

रुपाली: हां माँ आज तो भाई आने वाला था. कहा है वो आ गया क्या?

मै: हां-हां आ गया वो. अभी अपने रूम में रेस्ट कर रहा है थक गया है. तू उसको इवनिंग में मिल लेना.

रुपाली: ठीक है माँ.

फिर रुपाली भी अपने रूम में चली गयी. और मैं तो जैसे अपने बेटे का लंड देखने के बाद पागल सी हो गयी थी. मैं उसी के बारे में सोचने लगी थी. अपने बेटे के लंड के बारे में सोचते ही मेरी चूत गीली हो जाती थी और मैं सोचती थी की कैसे मैं उसको अपना बनाऊ. क्यूंकि है भी तो माँ-बेटे का रिश्ता और मैं उससे चुदवाना चाहती थी. तो फिर मैंने अपनी सहेली को फ़ोन मिलाया और उसको ये सब बताया अपने बेटे के बारे में. तो उसने मुझे ये वेबसाइट बताई, माँ-बेटा चुदाई सजेस्ट की. फिर मैंने 2-3 दिन लगातार बहुत सी स्टोरीज रीड की जिसके बाद मुझे भी कुछ आईडिया आया कि अब मैं पहले अपने बेटे को अपना बॉयफ्रेंड बनाऊँगी उससे चुदूंगी और फिर उसको अपना पति और मैं उसकी पत्नी बन जाउंगी. तो यही से मेरे मन में मेरे बेटे के लिए भावनाये चेंज हो गयी थी. वो करीब 7 बजे उठा और चेंज करके नीचे आया और माँ-माँ ज़ोर से मुझे बुलाने लगा. इधर इवनिंग हो चुकी थी तो मैंने भी साड़ी चेंज करके एक नाइटी डाल ली थी, डीप नैक वाली, बहुत ही पतली सी. क्यूंकि गर्मियों के दिन थे तो उसमे गर्मी भी नहीं लगती थी. मेरे बूब्स उसमे से बहुत हैवी दिख रहे थे जिससे मैं अपने बेटे को सेड्यूस करना चाहती थी.

Maa beta sex story

मेरी गांड भी एक-दम हैवी और शेप में दिख रही थी. और हां दोस्तों जब मेरा बेटा माँ-माँ चिल्ला रहा था मैं उस टाइम किचन में थी और रात के खाने की तैयारी कर रही थी. तभी मैंने भी बोला: मैं किचन में हूँ.वो आया और मुझे पीछे से हग कर लिया और बोला:

राज- सॉरी मैं थका हुआ था तो मेरी आँख लग गयी. फिर जैसे ही आँख खुली तो मैं आपको ढूंढने लगा. चलो ना माँ बातें करते है. वैसे भी हम कितने दिनों बाद मिल रहे है.

मै: हां-हां बेटा हम खूब बातें करेंगे. लेकिन खाना भी तो ज़रूरी है ना.

इस बीच उसने मुझे पीछे से हग किया हुआ था और मेरी बड़ी गांड उसके लंड से टच हो रही थी. जो मुझे धीरे-धीरे फील होने लगा और मेरी चूत में से पानी आने लगा. शायद उसका भी लंड खड़ा होने लगा था. क्यूंकि दोस्तों इतनी खूबसूरत औरत को टच करके किसका खड़ा नहीं होगा? तो मेरे बेटे का लंड खड़ा होने लगा जो मुझे फील हो रहा था. शायद उसको भी कुछ फील होने लगा था तभी वो मुझे हग किये हुए था.

मै: छोड़ मुझे बेटा मुझे खाना बनाने दे.

राज: नहीं माँ ऐसे नहीं छोड़ूंगा. वैसे भी हम कितने दिनों बाद मिल रहे है. एक अच्छा से हग तो बनता है ना! और माँ आपने तो अपने आप को बहुत फिट रखा हुआ है किसी यंग गर्ल की तरह.

माँमैअच्छा ठीक है करता रह हग मुझे !

(मुझे भी अंदर ही अंदर बहुत अच्छा लग रहा था. क्यूंकि वो दिन वाले इंसिडेंट की वजह से बहुत कुछ चेंज हो गया था). और हां मैं जिम जाती हूँ और पार्लर भी रन करती हूँ तो मुझे अच्छा लगता है अपने आप को मेन्टेन रखना.

राज: हां माँ आप एकदम किसी गर्ल की तरह ही लग रही हो. अगर आप मेरे साथ बाहर चलोगी तो कोई हमें माँ बेटा नहीं बताएगा.

मै: अच्छा बेटा बहुत तारीफ कर रहा है. क्या बात है?

राज: हां माँ इतने दिनों बाद मिल रहा हूँ इतनी तारीफ तो बनती है न क्यों?

मै: हां-हां कर ले और तारीफ मेरी. ऐसे हम दोनों बातें करने लगे और फिर बाद में हम सब ने खाना खाया. मैंने रुपाली को भी बुला लिया था. खाना खाने के बाद हम सब टी.वी देख रह थे और आपस में बातें कर रहे थे. रुपाली अपने भाई से बातें कर रही थी- Mom ki chudai

रुपाली: कैसे हो भाई? कैसा गया कॉलेज टाइम? और आगे का क्या प्लान है? और वो भी उससे बातें कर रहा था.

इधर मेरे दिमाग में तो बस उसका 8 इंच लम्बा मोटा लंड ही घूम रहा था. मैंने नाइटी पहनी हुई थी तो मैं उसको सेड्यूस करने लगी. जैसे की उसके सामने थोड़ा झुकना और ऐसा भी न लगे की मैं ये सब जान-बूझ कर रही थी. 1-2 बार तो उसने नहीं देखा. लेकिन थोड़ी देर बाद उसकी आईज मेरे बूब्स पे पड़ी और फिर वो उन्हें ही देख रहा था. मैं ये जानती थी की वो देख रहा था तो मैं और झुक गयी और उसको अपने बूब्स दिखाने लगी. बीच-बीच में मैं थोड़ा ऊपर हो जाती और अपनी नाइटी अपनी टांगो से थोड़ा ऊपर कर लेती ये बोल के की बहुत गर्मी है. जबकि AC ऑन था. लेकिन मेरी तो चूत में आग लगी हुई थी जिसे मेरा बेटा ही बुझा सकता था. फिर उसके बाद हम सब अपने-अपने रूम में चले गए और गारंटी के साथ मेरा बेटा भी मेरे बारे में सोच रहा होगा. ये बात उसने मुझे बाद में जब हमने चुदाई की तो बताई थी.

Mom son sex story

इधर मैं जब अपने रूम में गयी तो जाते ही मैंने अपनी नाइटी ऊपर की और अपनी चूत को सहलाने लगी अपने बेटे का लंड याद कर करके. मैं भूल नहीं पा रही थी उसका लंड. फिर पहले एक ऊँगली डाली और धीरे-धीरे अंदर-बाहर करने लगी. मेरी साँसे तेज़ हो गयी थी और एक हाथ मेरा मेरे बूब्स पे था. मैं पागल सी हो गयी थी और जैसे भी करके बस अपने बेटे से चुदना चाहती थी. उस रात मैं 2 बार झड़ी अपने बेटे का लंड याद कर-कर के. और फिर मैं सो गयी. हेलो फ्रेंड्स क्या हाल है सब के? आप सब ने मेरे इस रियल इंसिडेंट का पिछले पार्ट रीड किया होगा. उसमे मैंने बताया जब मेरा बेटा कॉलेज की स्टडी कम्पलीट करके घर वापस आया तो मैंने उसके लंड को देख लिया था पूरे तनाव में. फिर मैंने मेरे बेटे के लंड को सोच के 2-3 बार फिंगरिंग करि. तो उस दिन मैं 2 बार झड़ी और फिर सो गयी. अगले दिन जल्दी उठ के मैं किचन में ब्रेकफास्ट बनाने गयी. कुछ देर बाद ब्रेकफास्ट रेडी हो गया तो मैंने अपने बेटे को आवाज़ लगायी. Mom Ki Chudai

मै: राज राज.

लेकिन उसका रिप्लाई नहीं आया. तो मैं उसको उठाने गयी और जैसे ही डोर ओपन किया तो वो केवल अंडरवियर में सो रखा था और उसमे उसका 8 इंच मोटा लंड पूरे जोश में था. लंड देख के मैं और पागल हो गयी और सीधा उसके रूम में चली गयी और उस दिन पहली बार इतना मोटा और लम्बा लंड इतने करीब से देखा. मैं उसके लंड के बिलकुल करीब चली गयी और पता नहीं उस टाइम मेरे अंदर कहा से हिम्मत आ गयी थी. फिर मैंने उसका लंड अंडरवियर के ऊपर से ही देखा और वो उसमे ही बहुत तगड़ा लग रहा था. मन कर रहा था अभी उसका अंडरवियर उतारू और ले लु लंड अपनी चूत में. लेकिन डर भी था की अगर ऐसा कर दिया तो कही वो जो मेरी इज़्ज़त करता है फिर बात भी करना बंद न कर दे. इसलिए जैसे-तैसे मैंने अपने आप पे कण्ट्रोल किया और होश में आयी. लेकिन क्या लंड था मेरे बेटे का आआह्ह्ह्ह. मैंने भी एक सेक्सी सी नाईट पहनी हुई थी जिसमे मेरे बूब्स बहुत मोटे और थोड़े झुकने पर क्लियर दिख रहे थे. तो मैंने अपने बेटे को उठाया.

मै: उठ जाओ राज. राज माय बेबी उठ जाओ चलो नाश्ता रेडी है.

फिर राज उठा और सबसे पहले उसकी भी नज़र मेरे बूब्स पर पड़ती है. और ये सब मैं देख रही होती हूँ. वो भी एक टक से मेरे बूब्स को देखे जा रहा था. इतने में मैंने कहा-

मै: उठ जाओ राज और फ्रेश होके जल्दी नीचे आ जाओ, हम साथ में नाश्ता करेंगे.

Mom ki chudai bete ne ki

और इतना कह के मैं रुपाली के रूम में जाके उसको जगाने लगी. लेकिन वो पहले से ही उठी हुई थी. तो उसको भी मैंने नीचे ब्रेकफास्ट के लिए बोल दिया. फिर मैंने नीचे ब्रेकफास्ट टेबल पर लगा दिया और राज के 8 इंच के मोटे और लम्बे लंड के बारे में सोचने लगी. आह क्या लंड था दोस्तों मेरे बेटे का सही में अब रहा नहीं जा रहा था. थोड़ी देर में ही मेरे दोनों बच्चे आ गए और हमने नास्ता किया और फिर रुपाली कॉलेज चली गयी. मैं और राज बातें कर रहे थे वही बैठ के इधर-उधर की और राज भी बीच-बीच में मेरे बूब्स को देख रहा था. शायद अब वो भी मुझसे अटरेक्ट हो रहा था. फिर हमारी बाते ख़तम हुई तो मैंने राज को बोला-Mom ki chudai

मै: चलो फ्रेश हो जाओ नहा लो मुझे भी पार्लर जाना है.

तो ये सुनते ही उसने कहा: क्या माँ आज पार्लर का ऑफ रख दो. वैसे भी हमने ज़्यादा टाइम स्पेंड किया ही कहा है. प्लीज माँ.

मुझे क्या था, मैं तो बस अपने बेटे को अपना बॉयफ्रेंड बनाना चाहती थी. तो मैं मान गयी और बोली-

मै: चल बेटा कोई नहीं तेरे लिए मैं ऑफ रख लेती हूँ. लेकिन हम करेंगे क्या घर में?

तो उसने बोला: माँ चलो आज बाहर चलते है घूमने. मूवी शॉपिंग सब कर लेंगे.

तो मैं बहुत खुश हो गयी और उसको बोली-

मै: ठीक है बेटा तुम रेडी हो जाओ मैं भी रेडी हो जाती हूँ.

वो बहुत खुश हुआ और रेडी होने चला गया. इधर मैंने भी झट से सारा किचन का काम ख़तम किया और बाथरूम में नहाने चली गयी और वहाँ मैं, मेरे बेटे का लंड जो दिमाग में घूमे जा रहा था उसको इमेजिन करके 2 बार झड़ी. फिर जल्दी से नहा के मैंने बैकलेस टॉप पहनी जिसमे मेरे बूब्स बहुत मोटे और बड़े दिख रहे थे. थोड़ा डीप नैक भी था और एक टाइट जीन्स पहन ली जिसमे मेरी गांड एक-दम शेप में दिख रही थी टाइट और बिग. मैं बाहर आयी रेडी होके तो देखा वहाँ राज आलरेडी मेरी वेट कर रहा था. मैंने उसको बोला: राज कैसी लग रही हूँ मैं. उसने मुझे देखा और देखता ही रह गया. मैंने उसको फिर पुछा-

मै: बताओ ना राज कैसी लग रही हूँ? कहा खो गए? अगर अच्छी नहीं लग रही हूँ तो बता दो (थोड़ा मुँह बना के).

तो वो बोला: अरे-अरे मेरी प्यारी और ब्यूटीफुल माँ आप तो बहुत सुन्दर लग रही हो. किसी यंग लड़की को भी फ़ैल कर रही हो आप, अगर बुरा न मानो तो एक बात कहु आप से माँ? Mom Ki Chudai

मैं बोली: हां-हां बोलो न राज.

उसने कहा: माँ आपका फिगर बहुत अच्छा है. एक-दम परफेक्ट है. और आप एक-दम यंग दिख रही हो. कोई नहीं बता सकता की हम माँ बेटे है.

इतना सुनते ही मैं शर्मा गयी और उसको बोली: धत बदमाश. मैं कहा सुन्दर हूँ मैं तो बूढ़ी हो गयी हूँ.

उसने कहा: नहीं-नहीं माँ सच में आप बहुत सुन्दर लग रही हो. अगर आप मेरी माँ न होती तो मैं आपको अभी प्रोपोज़ कर देता अपनी गर्लफ्रेंड बनाने के लिए.

मैं आप सब को बता दू क्यूंकि हम मॉडर्न विचार के थे और राज और मैंने काफी बातें कर ली थी पहले ही तो हम दोनों एक-दुसरे से ओपन हो गए थे. तो इतना सुनते ही मैं थोड़ा नाटक करते हुए बोली ताकि उसको ये न लगे की मैं एक-दम से रेडी थी.

मैंने बोला: क्या बोल रहे हो राज? मैं तुम्हारी माँ हूँ.

उसने बोला: सॉरी माँ अगर आपको बुरा लगा हो तो. मैं तो बस आपकी तारीफ कर रहा था.

तो मैंने बोला: इट्स ओके बेटा! चलो चलते है अब.

तब तक उसने एक बहुत ही रोमांटिक मूवी की टिकट बुक कर रखी थी जिसे हम दोनों देखने गए कार में. उस मूवी में बहुत से सीन्स थे किसिंग और बहुत ओपन सीन्स थे. उनको देख के मैं सेड्यूस होने लगी और बीच में राज का हाथ पकड़ लिया. राज ने भी कुछ नहीं बोला बस मेरा साथ दे रहा था. हम दोनों थोड़ी देर के लिए भूल गए थे की हम दोनों माँ बेटे थे. एक पूरी मूवी में एक-दुसरे का हाथ पकडे रहे और मैंने उसके शोल्डर पर सर रख दिया और हम किसी यंग गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड की तरह मूवी एन्जॉय करने लगे. लेकिन जब मूवी एन्ड हुई और लाइट्स ओपन हुई तो हम दोनों ने झट से हाथ छोड़ दिया और बाहर चले आये हॉल से. Mom Ki Chudai

राज ने पूछा: कैसी लगी मूवी माँ?

मैंने बोला: बहुत अच्छी और रोमांटिक थी.

मॉम की चुदाई बेटे ने की

फिर हम शॉपिंग करने चले गए बगल वाले मॉल में. वहाँ हम पहले एक लेडीज शॉप पर गए और मैंने बहुत सी शार्ट ड्रेसेस 1 पीस और ट्रांसपेरेंट साड़ी ट्राई करि और एक-एक करे अपने बेटे को दिखाई. मैंने उससे सजेशन लिया की कैसी लग रही थी वो ड्रेसेस मुझपे. पहले मैंने शार्ट ड्रेस ट्राई की जो सिर्फ मेरी जांघों तक आ रही थी मेरे घुटने से ऊपर और उसमे मेरे बूब्स बहुत मोटे और गांड बड़ी नज़र आ रही थी. वो मैंने अपने बेटे को दिखाई. पहले तो वो मुझे ऊपर से नीचे तक देखता रहा और फिर बोला-Mom ki chudai

राज: वाओ माँ आप बहुत सुन्दर लग रही हो. ले लो ये ड्रेस एक-दम सेक्सी लग रही हो यार ले लो.

मैंने वो और सारी ड्रेसेस एक-एक करके उसको दिखाई और मैंने वो सब ले ली. उसने मेरे लिए एक सरप्राइज गिफ्ट ले लिया था जिसके बारे में उसने मुझे बाद में बताया और दिया. उसने मेरे लिए एक बहुत खूबसूरत और ट्रांसपेरेंट सी नाइटी और ब्रा और पैंटी ले ली. वो भी मेरे साइज से एक नंबर स्माल और सब ट्रांसपेरेंट और पैक करवा ली थी. उसके बाद हमने डिनर किया और वहीं हम बातें करने लगे. और हां मैंने रुपाली को टेक्स्ट कर दिया था कि मैं और राज बाहर जा रहे है तो देर हो जाएगी और वो खाना खा ले.

मै: वाओ राज आज तो मज़ा ही आ गया. मैंने बहुत दिनों के बाद ऐसे एन्जॉय किया है. तेरे डैड तो बाहर ही रहते है तो फ़ोन पर भी बहुत कम बात होती है. तो मैं एक-दम अकेली पड़ जाती हूँ.

राज: मुझे भी आपके साथ घूम के मज़ा आ गया. ऐसा लगा ही नहीं हम माँ बेटे है और देखा सब लोग हमें ही देख रहे थे. क्यूंकि आप हो ही इतने सुन्दर और सेक्सी.

मै: चल हट बदमाश मज़ाक मत कर.

राज: सच में माँ आप क़यामत ढा रही हो.

मै: अच्छा चल तू बोल रहा है तो मान लेती हूँ. वैसे तू भी कम स्मार्ट नहीं लग रहा है.

राज: अच्छा माँ?

मै: हां बेटा सच में. अच्छा ये बता वहाँ तेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनी?

राज: नहीं माँ वहाँ ज़्यादातर के तो बॉयफ्रेंड थे और कुछ ओनली फ्रेंड्स थी. तो कोई मिली ही नहीं आपके जैसी खूबसूरत.

मै: अच्छा! मेरे जैसी कोई नहीं मिली सच में.

राज: हां माँ आपके जैसी कोई खूबसूरत लड़की नहीं मिली. आप कमाल हो माँ. विल यू बी माय गर्लफ्रेंड माँ प्लीज?

ये सुनते ही पहले तो मैं मन ही मन बहुत खुश हुई. लेकिन पहले उसको बोली-

मै: क्या बोल रहे हो बेटा? मैं तुम्हारी माँ हूँ. हम दोनों GF और BF कैसे बन सकते है?

उसने बोला: माँ किसी को पता नहीं चलेगा. हम घर में रुपाली या डैड आएंगे तो उनके सामने माँ बेटा ही रहेंगे और वैसे भी डैड तो बाहर ही रहते है और रुपाली पूरा दिन कॉलेज और स्टडी. आप भी अकेली रह जाती है और मैं भी. हम फिर बाहर घूमने जायेंगे तो GF BF रहेंगे. Mom Ki Chudai

फिर ये बात सुन के मैंने थोड़ा सोचा और उसको हां बोल दिया.

मै: यस माय बॉयफ्रेंड आई ऍम रेडी तो बी योर गर्लफ्रेंड माय हैंडसम सन.

और फिर वो बहुत खुश हुआ और उसने मुझे वो सरप्राइज गिफ्ट दिया और बोला-

राज: इसको बाद में घर जाके ओपन करना.

फिर हमने डिनर ख़तम किया और घर जाने लगे और पार्किंग से कार निकाल के घर जाने लगे. फिर घर जाते-जाते वो मुझसे बोला-

राज: थैंक यू माँ तो बी माय गर्लफ्रेंड! आई ऍम वैरी लकी. इतनी सुन्दर औरत मेरी GF है.

फिर मैंने बोला: अकेले में तू मुझे माँ नहीं बोलेगा. या तो मेरा नाम या तो बेबी शोना ये कह कर बोलोगे मुझे तुम. और मैं तुम्हे, तुम कह कर बुलाऊंगी मेरे बॉयफ्रेंड जी.

ये सुनते ही राज बहुत खुश हुआ और बोला:

राज – जैसा तुम कहो मेरी जान सोनिया.

और फिर उसने कार साइड में लगा दी और मेरे करीब आया और सीधा मुझे लिप किस करने लगा. हालांकि मैं भी यही चाहती थी. लेकिन पहले मैंने उसको रोका और बोली-

मै: रुको-रुको मेरे बेबी. अभी टाइम है इन सब में. मैंने तुम्हे अपना बॉयफ्रेंड बनाया है तो सब मिलेगा और पूरा खुल के मिलेगा.

माँ ने बेटे से चुदवाया

लेकिन वो नहीं माना और बोला: प्लीज माय जान एक किश तो कर सकते है ना हम? और फिर मैं मान गयी और उसको हां बोली. फिर इतना सुनते ही उसने मुझे लिप किश किया एक-दम फ्रेंच किश. कभी मेरा नीचे वाला होंठ उसके होठ के अंदर कभी मेरा ऊपर वाला होंठ उसके मुँह के अंदर. हम दोनों सब कुछ भूल गए और पागलों की तरह किश करने लगे. एक-दम वाइल्ड किश जानवरो की तरह और एक हाथ से वो मेरे बूब्स भी दबा रहा था. इधर मैं भी पागल हो रही थी तो मेरा भी हाथ उसके लंड पे चला गया और जीन्स के ऊपर से ही मैं उसके मोटे लंड को सहलाने लगी. हम दोनों सब कुछ भूल गए थे की हम कहा थे क्यूँ थे क्यूंकि मैं भी बहुत दिनों से प्यासी थी और मेरा बेटा तो था ही यंग. तो उसका तो पागल होना बनता था. तो हम सब कुछ भूल गए और करीब 15 मिनट तक हमारी किश चलती रही. उसी बीच वो मेरे बूब्स दबाता रहा और मैं उसका लंड. फिर वो अपना हाथ मेरी चूत में ले जाने लगा और लगा भी दिया जिससे मैं पूरी हिल गयी और उसको वही रोका. फिर उसको रोकते हुए बोली: Mom ki chudai

मै – जान प्लीज अभी यहाँ नहीं, यहाँ सड़क पर नहीं. घर जा कर आराम से करेंगे बेड पर. आज तुम्हे जन्नत की सैर करवाउंगी.

और वो मान गया. फिर उसने जल्दी से एक लास्ट किश की और कार स्टार्ट की और घर की तरफ चल दिया. घर 15-20 मिनट दूर ही था तो उस बीच वो मुझसे बोला-

राज: आज मैं तुम्हे खुल के चोदूँगा और तुम्हे चरम सुख दूंगा.

इधर मैं तो पहले से ही पागल थी उससे चुदवाने के लिए और अब तो और पागल हो रही थी. तो मैंने भी बोला:

मै – मैं भी तुम्हे आज जन्नत की सैर करवाउंगी. तुम्हे भी पता लगे की एक औरत को चोदने में कितना मज़ा है. कितना मज़ा देती है औरत. और तू मेरा ही बेटा है. तुझसे तो आज मैं अच्छे से चुदूंगी मेरे राजा.

राज: आई लव यू मेरी जान सोनिया!

मै: आई लव यू सो मच मेरी जान, मेरे राज.

थोड़ी देर में हम घर पहुँच गए. क्यूंकि रात के 12 बज गए थे तो रुपाली सो गयी थी. तो हमने दूसरी की से गेट ओपन किया और अंदर चले गए. अंदर जाते ही मैंने मैं डोर लॉक किया और राज ने सारा सामान वही हॉल में रखा. फिर मुझे पीछे से पकड़ लिया और मुझे पीछे से ही मेरी नैक पे किश करने लगा. सीइइइइई आह्हः क्या किश थी वो और मुझे पीछे से ही पकड़ के मेरे बूब्स दबाने लगा. मैं भी पागल हो रही थी क्यूंकि एक तो उसकी नैक पर किश और दूसरा उसका मोटा लंड मेरी गांड पर चुभ रहा था जिसको मैं पूरा महसूस कर सकती थी. फिर उसने मुझे वही गोद में उठाया और बोला:

राज – चलो मेरी जान अब और इंतज़ार नहीं होता.

मैंने उसे बोला: मेरी जान मुझे नीचे उतारो और मुझे रुपाली को चेक करके आने दो. तुम मेरे रूम में चलो, मैं वही आती हूँ. यहाँ हॉल में नहीं. यहाँ रिस्क है क्यूंकि रुपाली हमें यहाँ देख लेगी.

लेकिन वो कहाँ सुन रहा था. वो बोला: रुपाली सो गयी होगी माँ.

और मुझे किश करने लगा.

मैं बोली: प्लीज मेरी जान एक बार कन्फर्म करके आने दो और तुम चलो रूम मे. मैं अभी आती हूँ बस.

और मैंने उसे लिप किश दी ज़ोर से. वो मान गया और मुझे नीचे उतारा और मैं भाग के गयी. रुपाली के रूम में देखा वो भी सो रही थी. ये कन्फर्म करने के बाद मैंने उसका गेट क्लोज कर दिया और आज मैं बहुत खुश थी. बिकॉज़ आज मैं अपने बेटे(मेरा बॉयफ्रेंड) से चुदने वाली थी. मैं भाग के अपने रूम में गयी. रूम में मेरा बेटा मेरी वेट कर रहा था वही सरप्राइज गिफ्ट लेके. मैं अंदर गयी और गेट लॉक किया और सीधा उसके पास गयी और बोली-

मैं: लो आ गयी मैं मेरी जान. मेरे बॉयफ्रेंड.

उसने मुझे वो गिफ्ट दिया और बोला: ये मेरी तरफ से है आपके लिए. हम एक-दुसरे के GF और BF बने है उसके लिए.

मैं बहुत खुश हुई ये देख के बिकॉज़ ये सब चीज़ जो हो रही थी लाइक मूवी, शॉपिंग, गिफ्ट या मेरी तारीफ. ये सब तो जैसे मैं भूल ही गयी थी. मेरे बेटे ने ये सब मेरे लिए किया तो उसे भी मैं सब कुछ देना चाहती थी. मैंने गिफ्ट लिया और उसको ओपन करने लगी. गिफ्ट ओपन करते ही देखा तो उसमे एक बहुत छोटी ट्रांसपेरेंट नाइटी और ब्रा और पैंटी थी. वो देख के मैं थोड़ा शर्मायी और उससे बोली-

मैं: ये कब लिया तुमने?

तो मेरा बेटा बोला: ये जब तुम ड्रेस ट्राई कर रही थी तब लिया और सोचा बाद में दूंगा तुम्हे मेरी जान मेरी माँ. चलो ट्राई करो इसको.

फिर ओके जानू कह के मैं उसको लेके बाथरूम में जाने लगी चेंज करने के लिए. तो उसने मुझे रोका और कहा-

राज: मेरी जान यही चेंज कर लो ना मेरे सामने. अब क्या शर्म?

तो मैं बोली: मेरी जान अभी कुछ तो प्राइवेसी होनी चाहिए न. बाद में जब मुझे लगेगा तब मैं सब कुछ करुँगी.

तो वो मान गया और मैं बाथरूम में गयी चेंज करने. फिर मैंने ब्रा पैंटी और नाइटी पहनी जो मेरे साइज से 1 नंबर छोटी थी और मेरे बूब्स तो उसमे से क्लियर दिखाई दे रहे थे और मेरी चूत भी क्लियर शो हो रही थी. मैं शरमाते हुए बाहर आयी और वो बेड पर बैठा था. Mom Ki Chudai

तो मैंने बोला: लो देखो मुझे कैसी लग रही हूँ बताओ?

जैसे ही मेरे बेटे ने मुझे देखा तो वो देखता ही रह गया.

उसने बोला: क्या खूबसूरत बला हो तुम माँ. एक-दम परफेक्ट फिगर है तुम्हारा. एक-दम परी जैसी लग रही हो. मैं कितना लकी हूँ कि तुमने मेरी GF बनने के लिए हां कर दी. अब देखना मैं तुम्हे कैसे खुश करता हूँ. Mom ki chudai

मैं ये सब सुन के शर्मा गयी और बोली: हट बदमाश इतनी भी नहीं हूँ मैं.

तो वो मेरे और पास आया और मुझे हग किया टाइट से और पहले मुझसे बोला-

राज: मेरी प्यारी GF मेरी जान तुम सच में बहुत खूबसूरत लग रही हो. मन कर रहा है सारा दिन तुम्हे ऐसे ही देखता रहु और हमेशा तुम मेरी रहो.

Mom son chudai ki sex kahani new

इतना बोलते ही पहले उसने मेरी नैक पर किश किया. इससससससस आह दोस्तों क्या करंट सा दौड़ गया मेरे पूरे बदन में. और मैंने भी उसको टाइट हग किया हुआ था और उसकी नैक पर किश किया. फिर उसने मेरे लिप्स को चूसा अच्छे से. हम लिप किश करते-करते पागल हो गए थे. हम सब कुछ भूल गए की हम माँ बेटा है. हमने सारी हदें पार कर दी थी और किश करते-करते उसने मेरे बूब्स दबाने स्टार्ट कर दिए और एक हाथ मेरी चूत पर रख दिया और एक ऊँगली चूत में डाल दी. चूत पर हाथ पड़ते ही मैं पूरी कांप गयी. इससससस आह्हः इसससस आह्हः माय बॉय. फिर मेरा हाथ भी उसके 8 इंच मोटे और लम्बे लंड पर चला गया जो अपनी पूरी औकात में खड़ा था. एक-दम टाइट था लंड. इधर हम दोनों किश करे जा रहे थे. फिर उसने पहले मेरी नाइटी उतारी और फिर ब्रा और पैंटी. इधर मैंने भी उसकी टी-शर्ट और जीन्स उतार दी और उसका मोटा और लम्बा लंड कच्चे में से ही इतना हॉट लग रहा था एक-दम गरम लोहे की रोड की तरह. मैंने कच्चे के ऊपर से ही उसके लंड को पकड़ा और बोली:

मै – वाओ राज तुम्हारा तो कितना बड़ा है.

हालांकि मैंने पहले सब देखा हुआ था लेकिन उसके सामने अनजान बन रही थी.

राज बोला: क्यों माँ डैड का इतना नहीं है क्या?

तो मैं थोड़ा उदास हुई और बोली: नहीं बेटा तुम्हारे डैड का इससे काफी छोटा है और जल्दी झड़ भी जाते है. असली सुख तो मुझे आज मिलेगा.

फिर उसने मुझे नीचे बिठाया और मैंने उसके कच्छे के ऊपर से ही उसका लंड को किश किया और उसका कच्छा उतार दिया. फिर उसका लम्बा और मोटा लंड मेरी आँखों के सामने था जो मैं कल तक डोर से देखा करती थी. और आज इतने करीब आ कर मैं बहुत खुश थी. फिर उसने मेरा सर पकड़ा और मेरा मुँह खोला और सीधा लंड मेरे मुँह में दे दिया. इससे मैं थोड़ा अचंभित हुई और बोली-

मैं: वाओ सो हॉट लॉन्ग एंड मोटा है तुम्हारा लंड मेरे बेटे. तुम तो काफी जवान हो गए हो. पहले क्यों नहीं दिखाया तुमने ये मुझे? मैं तुमसे पहले ही चुदवा लेती.

राज: हां तो मुझे पता नहीं था की तुम इतनी जल्दी मान जाओगी. खैर छोड़ो और आओ नीचे बैठो और मेरा लंड चूसो.

मैंने फिर उसका लंड अपने मुँह में लिया और पहले उसके लंड के ऊपर के हिस्से को चूसा. फिर धीरे-धीरे उसका लंड मुँह में लिया और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लग गयी. मैं लंड अंदर-बहार करने लगी. Mom Ki Chudai

वो बोला: सच में माँ ये सपना तो नहीं. की तुम इतनी खूबसूरत औरत मेरा लंड चूस रही हो.

और वो आह आह की आवाज़े निकालने लगा. काफी देर तक मैंने उसका लंड चूसा. उसके बाद उसने मुझे खड़ा किया और पहले तो ज़ोर से लिप किश किया वाइल्ड वाला. फिर एक हाथ मेरे बूब्स पर और एक मेरी चूत पर रख कर सहलाने लगा. मैं भी पागल हो गयी थी. फिर किश के बाद उसने मेरी नैक और फिर बूब्स को चूसा और बोला-

राज: वाओ माँ योर बूब्स आर आल्सो वैरी ब्यूटीफुल बिग एंड सेक्सी. पहली बार देखे है इतने बड़े और खूबसूरत बूब्स माँ.

और फिर सक करने लग गया और एक हाथ से लगातार मेरी चूत को सहलाये जा रहा था. फिर उसने 1 ऊँगली मेरी चूत में डाली और उसकी ऊँगली अंदर जाते ही मैं पूरी हिल गयी और इससससस आह फ़क सससस की आवाज़ मेरी मुँह से निकली. फिर मेरे बेटे ने मेरे निप्पल को सक किया और बीच में वो थोड़ा-थोड़ा निप्पल्स को काट भी रहा था जिससे मैं और सेड्यूस हो रही थी और साथ ही साथ उसने अपनी एक और ऊँगली यानि अब 2 उँगलियाँ मेरी चूत में डाली. मैं तो जैसे अब पागल सी हो रही थी. थोड़ी देर मेरे बूब्स चूसने के बाद उसने मेरी नाभि को सक किया. वाह यार इससससस आअह्ह्ह्ह क्या करंट लगा मुझे. और फिर वो मेरी चूत पर आ गया. अपना मुँह वो मेरी चूत के पास लाया और बोला-

राज: वाओ माँ क्या चूत है तुम्हारी. एक-दम क्लियर और सुन्दर.

तो मैंने कहा: फिर बोला माँ? मैं तेरी माँ सब के सामने हूँ और अकेले में तेरी गर्लफ्रेंड.

तब वो बोला: मेरी जान मेरी गर्लफ्रेंड क्या करू बीच-बीच में भूल जाता हूँ. और आखिर हो तुम मेरी माँ ही न इसलिए निकल जाता है.

फिर मैं बोली: चल कोई नहीं. अब चाट मेरी चूत. देर मत कर और बुझा दे मेरी चूत की आग.

Bete se chudwaya maa ne

फिर उसने पहले मेरी चूत पर धीरे से फूँक मारी जिससे मैं पागल हो रही थी और फिर उसने अपने दोनों हाथो से मेरी चूत को फैलाया और फिर पहले अपनी जीभ को मेरी ऊपर वाले चूत के दाने पर रखा. वो उस दाने को हल्का से चाटने लगा. उसके ये करते ही मैं तो पूरी हिल गयी थी और मेरी पूरी बॉडी में करंट सा दौड़ रहा था.मैं अहह अहह फ़क फ़क करने लगी और वो धीरे से मेरी चूत पर चाट रहा था. वाह यार क्या चूत चाट रहा था मेरा बेटा मेरी. मैं तो जैसे सातवे आसमान में थी. मैंने एक हाथ से बेडशीट पकड़ राखी थी और दूसरा हाथ मेरा उसके सर के ऊपर था जिसको मैं अपनी चूत मे दबा रही थी. Mom ki chudai

मैं: फ़क मी माय बॉय और चाटो मेरी चूत को. चाट-चाट के खा जा मेरी चूत. बहुत दिनों से प्यासी हूँ मैं, मेरे राज. आज मुझे तू वो चरमसुख दे दे.

आह अहह की आवाज़ें मेरे मुँह से निकलने लगी. और चूत चाटते चाटते मैं अब झड़ने की कगार पर थी. मैंने उसका सर और ज़ोर से अपनी चूत में दबा दिया और उसको बोला-

मैं: और ज़ोर से माय बॉय! और तेज़! मैं झड़ने वाली हूँ. रुकना मत अब आह्हः अहह.

और तेज़. फिर आह करते-करते मैं झड़ गयी और उसने मेरा सारा पानी पी लिया. ऐसा सुख मुझे सालों से नहीं मिला था. मैं जैसे अब तो अपने बेटे की दीवानी सी हो गयी थी. क्या चूत चाटता था वो. और अभी तो उसने मुझे चोदा ही नहीं था. फिर मैंने उसको बोला:

मै – राज अब देर मत कर. डाल दे अपना मोटा लंड मेरी चूत में. अब रहा नहीं जा रहा.

ये सुनते ही वो ऊपर आया और पहले तो उसने किश की ज़ोरदार और फिर अपना लंड पकड़ा और मेरी चूत पर रखा पहले तो. फिर ऊपर से ही मेरी चूत पर टच कर रहा था जिससे मैं और पागल हो रही थी. क्या तरीके से सेक्स करता था मेरा बेटा. मैं तो जैसे उसकी दीवानी सी हो गयी थी.तो अब वो मेरी चूत में लंड डालने ही वाला था की तभी मेरे दरवाज़े पर नॉक-नॉक हुई. हम दोनो पहले तो हिल गए और इस टाइम तो हम दोनों ही चरम सीमा पर थे. बस मैं उससे चुदवाने ही वाली थी. फिर हमने एक-दुसरे को देखा और बाहर से आवाज़ आयी- Mom Ki Chudai

माँ माँ गेट खोलो. वो रुपाली थी लेकिन रात के 2 बज रहे थे. वो इस टाइम क्या कर रही थी?

मैंने राज को जल्दी से ऊपर से हटाया और बोली- मैं: तुम गेट के पीछे छुप जाओ. मैं जाके देखती हूँ.

और जल्दी से मैंने बिना ब्रा और पैंटी के बस नाइटी डाल ली. क्यूंकि वो ट्रांसपेरेंट थी तो मेरे बूब्स और बॉडी तो वैसे ही दिख रही थी. फिर मैंने डोर ओपन किया और उसी डोर के पीछे मेरा बेटा बिलकुल नंगा खड़ा था. मैंने डोर आधा ही ओपन किया और थोड़ा नींद में होने का बहाना किया.

फिर मैं बोली: क्या है बेटा? इतनी रात को क्यों चिल्ला रही है बोल?

तो वो बोली: माँ मुझे भूख लग रही है. क्यूंकि आप और भाई बाहर गए थे तो मैंने भी ज़्यादा कुछ नहीं खाया और थके होने के कारण मैं सो गयी. मुझे कुछ दो ना खाने को.

मेरा बेटा तो पीछे खड़ा था. और हम दोनों के ऊपर तो सेक्स का भूत सवार था तो वो पीछे से मेरी गांड को सेहला रहा था और फिर उसने पीछे से ही मेरी गांड पर अपनी जीभ लगा दी और चाटने लगा. इससे मैं तो पूरी हिल गयी और मेरी आँखें बड़ी-बड़ी हो गयी और मेरे मुँह से आह निकल गयी और मैं भूल गयी मेरी बेटी सामने खड़ी थी. फिर मैंने ज़्यादा रियेक्ट नहीं किया और अपने आप को संभाला.

Maa ko choda bete ne

लेकिन वो बोली- बेटी: क्या हुआ माँ आपने ऐसे क्यों किया? कुछ हुआ क्या?

तो मैंने बात पलट दी: कुछ नहीं बेटा बस एक-दम से नींद में उठी हूँ न तो थोड़ा पैर मुड़ गया. चल देती हूँ तुझे मैं कुछ खाने को.

फिर वो आगे चलने लगी. तभी मैंने अपने बेटे को पीछे से इशारा करा और जल्दी से बोली-

मैं: जान अभी आती हूँ 5 मिनट में.

तो वो बोला: ये कहा से आ गयी माँ?

मैं बोली: थोड़ा और रुक जाओ बस. मुझसे भी तो नहीं रहा जा रहा न और मैं भी तो तुम्हारे इस लंड के लिए तड़प रही हूँ. लेकिन है तो वो भी मेरी बेटी ना. आती हूँ उसे देके बस तुम रेडी रहना.

फिर मैंने डोर क्लोज किया और उसी नाइटी में बाहर आ गयी. नीचे किचन में जाके लाइट ओपन की तो मेरी बेटी ने मेरी तरफ ध्यान से देखा और देखती रही. फिर वो बोली:

रूपाली – वाओ माँ ये आपने कब लिया? पहले तो कभी नहीं देखा.

मैं उससे झूठ बोली: पहले का रखा हुआ था लेकिन कभी पहना नहीं. क्यों अच्छा नहीं लग रहा क्या?

तो वो बोली: नहीं-नहीं माँ बहुत अच्छी लग रही हो तुम इसमें. एक-दम हीरोइन जैसी. और माँ आपके तो बूब्स भी और एस भी क्लियर दिख रहे है इसमें जो की बहुत मस्त है.

मैं बोली: थैंक यू बेटा.

और फिर मैंने उसको कुछ खाने को दिया जल्दी से और मैं बस ऊपर जाने का वेट कर रही थी की कब मैं ऊपर जाऊ और अपने बेटे का लंड लू.

फिर मेरी बेटी बोली: थोड़ी देर बैठो न माँ.

शायद उसको भी कुछ हुआ था मुझे ऐसे देख कर. लेकिन मैंने उस टाइम वो इग्नोर किया और बोली-

मैं: बेटा अब तू खा ले और सो जाना जल्दी से. मुझे भी नींद आ रही है बहुत तेज़. कल बात कर लेंगे.

और मैं ये बोल के जाने लगी.

तभी वो बोली: ओके माँ कल करते है.

और मैंने नोटिस किया की वो मेरे बूब्स और एस पर ही देख रही थी. फिर मैंने उसको हग किया तो उस दिन मेरी बेटी का हग मुझे कुछ अलग लगा. उसने मुझे एक ज़ोरदार हुग किया और गुड नाईट किश किया चीक्स पर. पर मुझे तो अपने बेटे का लंड दिख रहा था. तो मैंने वो सब इग्नोर किया और गुड नाईट बेटा बोल के मैं अपने रूम में जाने लगी. बस इस पार्ट में इतना ही. अब नेक्स्ट पार्ट में सीधा आप सब को पता चलेगा की कैसे हम दोनों ने चुदाई की उस रात और कितनी बार और किस-किस पोजीशन में की और घर के हर कोने-कोने में चुदाई करि. और हां दोस्तों जब इस कहानी के पार्ट कम्पलीट हो जायेंगे तो आपको एक और सच्ची घटना के बारे में बताउंगी जो की मेरे मेरे बेटे और मेरी बेटी के बीच की है. की कैसे हम दोनों ने एक बहुत तगड़ा लेस्बियन सेक्स किया और फिर कैसे मेरे बेटे ने हम दोनों को एक साथ चोदा. मतलब कैसे अपनी माँ और बहन की एक साथ चुदाई करि.Mom ki chudai

अगला पार्ट बहुत ही जल्द आएगा.

Leave a Comment