पापा को अपनी चूत का तोहफा दिया

Hindi Stories NewStoriesBDnew bangla choti kahini

Papa ne pel diya: हाय फ्रेंड्स! मेरा नाम रागिनी अग्रवाल है। मैं 19 साल की हो चुकी हूँ इस जुलाई में. ये कहानी तब की है जब मैंने पापा से ज़िद की थी कि मुझे बर्थड़े में गोवा जाना थे सोलो ट्रिप पे. पर पापा मुझे अकेले नहीं जाने दे रहे थे क्यूंकि उन्हें मेरी बहुत टेंशन थी. मैं आपको अपने बारे में बता दूँ. मैं 19 साल की हूँ लेकिन मेरी बॉडी देख कर कोई भी बोलेगा की 23 की हूँ. मेरी बॉडी 34C-28-34 है. काफी ज़्यादा कर्वी बॉडी है मेरी. काले घने लंबे बाल है और लिप्स एकदम पिंक है. मुझे देखकर अंकल और बुड्ढे दोनों मेरी जवानी को घूरते है. कुछ अपनी पैन्ट्स को मसलते भी है. मेरी बिल्डिंग में एक अंकल है. राजीव नाम है उनका. वो काफी मुझे घूरते है, बातें करने की कोशिश करते है और जब मैं फ्रेंड्स के साथ रात में पार्टी करने जाती हूँ, मुझे देख कर कॉम्पलिमेंट देते है।

Papa ne beti ko pel diya

“यू आर लुकिंग रियली हॉट टुनाइट मै! ज़्यादा ड्रिंक्स करोगी तो मुझे बुला लेना पिक अप कर लूँगा”.

(मैं भी कभी-कभी उनसे फ़्लर्ट कर लेती हूँ पास खड़े हो कर) मै- हां राजीव अंकल आपको ही याद करुँगी अगर ड्रिंक ज़्यादा की तो.

अब स्टोरी पर आती हूँ. मैं 19 की थी. मेरा बर्थड़े 19 जुलाई को था. मुझे अपने बर्थड़े पे गोवा जाना था. मैंने पापा को रिक्वेस्ट की 19 जुलाई को संडे था तो पापा घर पर बैठे थे रूम में. मेरी माँ एक्सपायर हो गयी थी. तब से पापा काफी अकेले हो गए थे. संडे की शाम को मैंने सोचा आज से ही पापा को सेड्यूस करती हूँ. क्यूंकि मैं भी जवानी में आ गयी थी. तभी मै पापा के रूम में गयी और उन्हें बेड पर बैठा देखा. मैं सोची कुछ डीप नैक टॉप और शॉर्ट्स वियर करके जाऊ. फिर नॉक किया रूम डोर पे और उनके पास आ गयी और बैठ गयी उनके फेस के सामने. Papa ne pel diya

मै: पापा मुझे अपने बर्थड़े पर गोवा जाना है, यहाँ घर पर सेलिब्रेट नहीं करना.

पापा: बेटा गोवा अकेले नहीं जाने दे सकता वहाँ काफी खराब लोग है.

मै: पापा मैं अब बड़ी हो गयी हूँ (और मै थोड़ी सी बेंड हुई ताकि उन्हें क्लीवेज दिखे).

पापा: हां तू बड़ी हो गयी है (ये कहते हुए उनकी नज़र मेरी क्लीवेज पे पड़ी), पर अकेले नहीं.

फिर मुझे कुछ शरारत सूझी और मै पापा की गोद में बैठ गयी. उनका पेट मेरे पेट में टच होने लगा और मैंने प्यार से उनकी गर्दन में अपनी बाहें डाली और कहा-

मै: आप चलो मेरे साथ अगर इतनी ही टेंशन है मेरी.

ये एक्शन देख के पापा की गरम साँसे मेरी क्लीवेज पे पड़ी. उफ्फ्फ! इतनी गर्मी हुई की क्या बताऊ. मेरी पैंटी थोड़ी सी वेट होने लगी और उन्होंने कहा-

पापा: बेटी तुम कितनी जल्दी बड़ी हो गयी हो (ये कहते हुए उन्होंने एक हाथ से मेरे बालों मे कंघी किया).

मै: कैसे बड़ी हो गयी हूँ बताओ (इनोसेंट बनते हुए)?

पापा: पहले तुम बच्ची थी. अब 19 की होने वाली हो. काफी चेंज हो गयी हो. बॉडी भी लेडी के जैसी होने लगी है तुम्हारी.

Goa trip par papa ka lund liya

ये सुनते ही मेरी आँखें शर्मा गयी और मुझे कुछ एडजस्ट करके बैठना था उनकी लैप में. मुझे अन कम्फ़र्टेबल देखते ही उन्होंने मुझे थाई के पास पकड़ा और मूव किया। अब तो जैसे मैं उनके लंड पे बैठ गयी थी और मेरी चूत उनके लंड से टच हो गयी थी. मुझे डर था कि कहीं मेरी थाइस से वेट एरिया उन्हें पता न चल जाये. फिर मैंने भी अच्छे से चूत को उनके लंड पर एडजस्ट किया. उन्होंने मुझे सपोर्ट किया मेरी वैस्ट पकड़ कर दुसरे हाथ से.

पापा: रुको बेटी वरना गिर जाओगी.

मै: हे हे पापा आप भी न मुझे कभी गिरने नहीं दोगे लगता है.

पापा: कभी नहीं! तू मेरी जान है.

मै: ओ पापा (मैंने ये सुनते ही उन्हें हग किया).

पापा: आह (उन्होंने ने भी हग किया).

मैंने भी थोड़ी सी अपनी क्लीवेज उनकी चेस्ट पर प्रेशर कर दी और व्हिस्पर की-

मै: क्या मैं हां समझू? पापा: एक शर्त पे. मै (हग रिलीज़ करते हुए): क्या पापा? (उनकी आखों में देखने लगी)। पापा: कुछ नहीं. और उन्होंने मुझे साइड में स्लाइड किया और टिकट बुक करनी है ये कहते हुए चले गए. जब वो मुझे साइड बैठा कर जा रहे थे मुझे उनका खड़ा लंड फील हुआ और ये देखकर मेरी चूत में हलचल हुई. मैंने भी सोचा अब कल शॉपिंग पर जाउंगी पापा के साथ और बिकिनीज़ लूंगी. मैं ख़ुशी की वजह से भूल ही गयी की वो मेरे पापा थे और मैं उनकी बेटी थी. मैं अपने रूम में गयी और सो गयी. रात को जल्दी मुझे नींद नहीं आती. पापा मेरे रूम में आये और मेरे पास बैठ गए. फिर उन्होंने प्यार से मेरे हेयर साइड किये. मैं वैसे ही लेटी रही. मेरी क्लीवेज पूरी विज़िबल थी क्यूंकि रात को मैं ब्रा नही पहना करती. शायद वो मेरे पिंक निप्पल्स को भी देख पा रहे थे नाइटी टॉप में से. थोड़ी देर मेरे हेयर्स को साइड करने के बाद वो अपना हाथ धीरे से मेरी नैक पर ले आये. एक सेंसेशन हुई मुझे कुछ हॉट सी पर मैं मोअन करना चाहती थी जो नहीं कर सकती थी. कुछ देर बाद वो उठे और एक किश की मुझे माथे पर और अपने रूम में चले गए. जाते-जाते मेरी ब्रा को जो मैंने खोल के चेयर पे रखी थी वो उठा कर ले गए. मैं शॉक में हो गयी कि पापा को मुझपे इतना हॉट सेंसेशन था.

मैं भी रात भर सो नहीं सकी और सुबह 10 बजे उठी. मैंने ब्रश किया फिर नहाने गयी. तभी सारे एक्शन्स याद आने लगे मुझे पापा के और मैं बाथिंग के टाइम में खुद को ज़ोर से अपनी लेग्स के पास टच करने लगी. मैं अपने थाइस को ज़ोर से रब करने लगी. मुझे सब कुछ याद आने लगा और फिर मुझे होश आया. फिर जल्दी से बाहर आयी और ड्रेस पहनी सेक्सी सी जिसमे मेरी क्लीवेज डीप दिखने लगी और बूब्स की कर्व्स भी. फिर पापा के रूम को नॉक किया मैंने. Papa ne pel diya

Papa ka mota lund meri chut me

मै: पापा आप अंदर हो?

पापा: हां बेटी बाथरूम में हूँ! रेडी हो रहा हूँ! एक काम करो मेरी अंडरवियर दे दो भूल गया हूँ।

और मैं अंडरवियर उठा कर उन्हें देने जा रही थी, पर मुझे कुछ हॉट सा फील हुआ और मेरी पैंटी वेट हो गयी.

फिर पापा को कहा: चलो शॉपिंग पर गोवा के लिए कपडे लेने है.

पापा बाहर आये और वो शॉक हो गए मुझे देख कर. उन्होंने मेरी क्लीवेज और फिगर देखा और वो मना ही नहीं कर पाए और बोले-

पापा: बस गेट के पास वेट करो आता हूँ बेटी.

मैंने खुश हो कर उन्हें हग किया ज़ोर से और गालों पर किश किया. फिर हम दोनों बाहर आ गए. गेट लॉक करने के टाइम मुझसे गेट लोक नही हो रहा था जो मैं इंटेंशनली कर रही थी. इतने में पापा ने पीछे से मेरी वैस्ट को टच करते हुए मेरी हेल्प की. मेरी हिप में उन्होंने पूरा प्रेशर डाला हुआ था अपने लंड का. वो अपने लंड सुपाड़े को मेरी गांड पे रब करने लगे थे. कही न कही मुझे भी अच्छा लग रहा था ये नाटक. दोनों ही लॉक करने में इतना बिजी हुए की बॉडी के साथ क्या हो रहा था भूल गए.

पापा: बेटी थोड़ा सा टाइट हो गया है लॉक वेट करना.

मै: हां पापा आराम से करो (मै हिप को थोड़ा प्रेशर बना कर खड़ी थी).

फाइनली लॉक हो गया और वो पीछे हुए. मेरी ड्रेस हिप के बीच में चली गयी थी और फिर मैंने घूम कर एडजस्ट की और हम दोनों लिफ्ट में चले गए. वहाँ पापा का हाथ पकड़ लिया और वो मुझे कार के पास तक ले गए. फिर उन्होंने जेंटलमैन की तरह कार का गेट ओपन किया और मैं अंदर बैठ गयी थाइस क्रॉस करके. वो ड्राइवर सीट पर बैठे और हम दोनों मॉल चले गए. रास्ते में वो कभी-कभी गियर चेंज करते हुए मेरी थाइस को टच कर देते कभी नीज को. मैं अब इन्नोसेंट्ली एक्ट करते हुए बाहर देखती. मैं भी समझ गयी थी कि पापा अभी भी मुझे छूना चाहते थे. आखिर मैं इतनी हॉट कर्वी जो थी, कोई भी बंदा रेसिस्ट नहीं कर पाता. मॉल जा कर मैंने पापा को व्हिस्पर किया- Papa ne pel diya

Papa ne pel diya seal todi

मै: पापा सब आपको देख रहे है. आप सेलिब्रिटी हो आज के.

पापा: बेटी मेरे साथ मेरी गर्लफ्रेंड जो है ये कहते ही उन्होंने मेरी वैस्ट पे हाथ रखा).

मै: हे हे पापा आप भी न (मैं भी मस्त वैस्ट दायें-बाये करते हुए चल रही थी).

धीरे धीरे मैंने नोटिस किया कि पापा का हाथ मेरी गांड की गोलाई पर था और मुझे काफी हॉट फील हो रहा था. फिर मैं पापा को लिंगरी सेक्शन में ले जाने वाली थी. लेकिन वो शाय हो कर रुक गए और बोले-

पापा: तुम जाओ.

मैं बोली: आप मेरे बॉयफ्रेंड हो, आप आ सकते हो.

ये सुनते ही वो स्माइल किये और ज़ोर से छाती फुला कर चलने लगे. इस बार उनका हाथ मेरी गांड पर था. वहाँ की वर्कर मेरे पापा को देखकर पूछी-

वर्कर: सर मेम का साइज बता दो अभी हनीमून पैक निकाल देती हूँ.

पापा एंड मै दोनों हंसने लगे..

पापा बोले: हां 34 सी दे दो.

मैं शॉक हो गयी कि पापा को कैसे पता था मेरा साइज. फिर याद आया की उस रात पापा ने मेरी ब्रा ली थी शायद उस वजह से. मैंने 1 बिकिनी भी ली और पापा को बोली-

मै: आपके लिए एक सरप्राइज है जो गोवा में दूँगी.

फिर हम दोनों जब बाहर जा रहे थे तब काफी क्राउड हो गयी थी. पापा मुझे प्रोटेक्ट करने के लिए पीछे आ गए और इस बार उनकी बगल मेरी गांड पे प्रेस हो रही थी जैसे वो ड्राई हंप कर रहे थे वैस्ट पकड़ कर. मैं भी उन्हें मज़े दे रही थी और उनका हाथ अपने पेट पर रब कर रही थी. ये करते-करते दोनों को फील हुआ कि उनका डिक मेरे बट के बीच में आ चुका था और फिर उन्होंने धीरे धीरे हंप किया और हम दोनों 20 मिनट के बाद बाहर आ गए मॉल से. दोनों एक-दुसरे को फेस नहीं किये और कार में बैठ गए.

रास्ते में पापा ने कहा: रागिनी तुम बड़ी हो गयी हो, तुम समझ सकती हो मॉल में जो हुआ वो भीड़ की वजह से हुआ.

मै: हां पापा कोई बात नहीं, मैं भी अब लेडी हूँ और गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड के बीच में कॉमन है ये.

ये सुनते ही पापा खुश हो गए और बोले-

पापा: अच्छा जी.

मै (थाइस क्रॉस की और ड्रेस एक-दम ऊपर आ गयी) हां जी.

फिर हम दोनों नेक्स्ट डे एयरपोर्ट के लिए निकल गए. मैंने एक ड्रेस पहनी हुई थी और पापा पैंट-शर्ट में थे. मेरी ड्रेस डीप नैक वाली थी. मैंने ये ड्रेस इंटेंशनली वियर की थी ताकि पापा जिन्हे मेरी क्लीवेज देखना पसंद है. वो मेरे मुलायम गोरे बदन में जो 2 सॉफ्ट से मोटे गोल 34 सी साइज बूब्स है उन्हें अच्छे से देख सके. और मैं उनकी इस बेचैनी को एन्जॉय कर सकू (सच बताऊ ये सभी लड़कियां करती है अपने रिलेटिव्स के साथ और एक्ट इनोसेंट होने का करती है). पापा ड्राइव कर रहे थे और मैं मस्त एक थाइस के ऊपर दुसरे थाइस को रख कर बैठी थी. ड्रेस मेरी पैंटी के थोड़ी नीचे तक आ कर रुकी हुई थी. जब-जब पापा गियर चेंज करते तब उनकी फिंगर्स मेरी थाइस को छू लेती. ये 30 मिनट्स से चल रहा था और मैं सांग्स में डूबी हुई आखों को बंद करके ये टच के मज़े ले रही थी. मैं सोच रही थी की काश पापा मेरे बदन के नशे में डूब जाये और कुछ गलत कर दे जिससे मैं गलत नहीं समझूंगी. Papa ne pel diya

Papa ne pela hindi kahani

क्यूंकि मैं भी कही न कही ये चाहने लगी और आखिर अब 18 से 19 साल की होने वाली थी और मैं वर्जिन थी. मैं ये चाहती थी की पापा जो मम्मी के जाने के बाद अकेले हो गए थे वो 10 साल तक मेरे हो जाये. ताकि 29 की उम्र मे मै जब शादी करके जाऊ तो पटाका बन के जाऊ. तभी मेरे मन में एक आईडिया आया. क्या पता गोवा में कुछ हो जाये और मैंने कार में फ़्लर्ट करना शुरू कर दिया.

मै: आप चाहो तो हाथ ऊपर रख सकते हो (नॉटी स्माइल करते हुए आखों को बंद रखते हुए ).

इस बीच मैंने ऊपर वाले थाई को प्रेशर किया जिससे वो और फ़ैल जाये और मेरी गोरी-गोरी लेग्स, पापा को अच्छे से दिखे. पापा धीरे धीरे हाथ मेरे थाइस पे रखते हुए स्माइल करने लगे और प्यार से सहलाने लगे. ये टच उफ्फ्फ… एक लड़की ही बता सकती है जब कोई मर्द थाइस को ऐसे टच करता है उस टाइम पेट में कितनी बटरफ्लाईज़ उड़ने लगती है और पैंटी वेट होने लगती है. ये हाल हो रहा था मेरा. मैं ऐसे बैठी हुई थी जिससे मेरी गांड का कटाव अच्छे से दिखे. पापा का ध्यान रास्ते पे कम और मेरी थाइस मेरी कर्व्स और मेरी क्लीवेज पर ज़्यादा था. इस बीच मैंने एक शरारत की. अपने हेयर्स को क्लीवेज के ऊपर रख दिया ताकि पापा देख न पाए और उन्हें बेचैनी होने लगे. Papa ne pel diya

पापा: डिअर तुम्हारे बाल बहुत सुन्दर है.

मै: उम् क्या सिर्फ हेयर्स ही अच्छे है मेरे डिअर?

पापा: और भी बहुत सारी बातें है पर मैं तुम्हारा पापा हूँ ना सब नहीं बता सकता.

मै: याद है हमने प्रॉमिस किया था इस ट्रिप में आप मेरे बॉयफ्रेंड हो और मैं आपकी गर्लफ्रेंड?

पापा: हां याद है (मेरी थाइस को दबाते हुए).

मै: तो अच्छे बॉयफ्रेंड के जैसे तारीफ करो आप हिहि.

पापा: अच्छा जी थाइस से हाथ हटा कर मेरे हेयर्स को कंधों के पीछे रख दिया ताकि क्लीवेज दिख सके). अब शायद दोनों को समझ आ चुका था कि वो मेरी क्लीवेज को देखना चाहते थे. ये बातें-वाते तो एक बहाना था. फिर हम दोनों एयरपोर्ट पहुँच गए. बोर्डिंग के बाद मुझे नींद आने लगी और पैंटी भी क्लीन करनी थी. तो मैं पापा को बोल कर वाशरूम जाने लगी. मै: मुझे वाशरूम जाना है.

पापा: कुछ वैसी बात है क्या (डर गए कही मुझे पीरियड्स तो नहीं हुए. घबराते हुए वो मेरे पेट पर हाथ रख दिए)?

मै: नहीं बाबा वाशरूम जा रही हूँ बस (नॉटी स्माइल करते हुए और उनके हाथो को अपने पेट से हटाते हुए).

मैं उठी और अपनी ड्रेस एडजस्ट करते हुए पीछे हाथ को अपनी गांड के कटाव पे ब्रश करते हुए निकल गयी. जब मैं वाशरूम में बैठी थी मैंने देखा मेरी पैंटी पूरी वेट हो गयी थी. अंदर ही अंदर मैं खुश हुई और पापा के हाथ के टच को मिस करने लगी जो अभी कुछ देर पहले मेरे पेट पर थे. मैंने ये भी सोचा की पापा मेरी गांड को भी घूर रहे थे, जब मैं वाक करके वाशरूम जा रही थी. ये सारे एक्शन्स मुझमे मेरी जवानी को आग लगाने की पूरी कोशिश कर रहे थे. फिर मैं वापस गयी सीट पे बैठ गयी. Papa ne pel diya

पापा: ज़्यादा टाइम लग गया.

मै: नहीं बिलकुल नहीं, आपको पता है जब मैं जा रही थी सामने सारे अंकल कैसे घूर रहे थे.

पापा: वाउ डिअर मेरी गर्लफ्रेंड इतनी हॉट है किसी का भी दिल फिसल जाये.

मै: हिहि अच्छा जी और आपका?

पापा मेरे माथे पर किश करते हुए बोले:

मैं पहले से ही लट्टू हूँ.

मै: आव डैडी. और उन्हें हग कर ली.

पापा: डैडी नहीं डार्लिंग बोलो.

मै: इस डैडी का मतलब डार्लिंग से भी ज़्यादा है.

Baap beti ki chudai ki kahani

ये सुनते ही पापा के होश उड़ गए और उनकी पैंट में टेंट बन गया जो मेरी एल्बो से टच हुआ. क्यूंकि मैंने उनके ऊपर हाथ रखे हुए थे हग की वजह से. फिर उन्होंने अपना हाथ मेरे पेट में रखा और प्यार से रब करने लगे. मैं ये सोच रही थी थोड़ा और पापा को मज़ा देती हूँ और मैंने अपने बैग से दुपट्टा निकाला और अपने ऊपर डाल लिया. पापा भी समझ गए थे कि मुझे उनका टच अच्छा लग रहा था और वो पूरी जर्नी में अपना हाथ मेरे पेट पर रब करते रहे. कभी-कभी उनका हाथ मेरे बूब्स की गोलाई के नीचे चला जाता. बहुत बार उन्होंने ट्राई किया मेरी ब्रेअस्ट्स को अपने हाथ में कसके पकड़ने का पर शायद वो डर रहे थे. इस बीच मैंने भी अपना एल्बो उनके टेंट मे थोड़ा प्रेस कर दिया. उन्होंने थोड़ी से आहें भरी आहह! मेरी ये सुनते ही नींद टूटी और हम दोनों ठीक हुए और एयरपोर्ट से कैब की, वहाँ से निकलने के बाद. कैब वाला ड्राइवर मुझे ऐसे घूर रहा था जैसे अगर मैं मिल गयी तो मुझे अपने गंदे हाथो से मसल-मसल के चोदेगा. Papa ne pel diya

उफ़ क्या-क्या सोचने लगी हूँ मैं हिहि. कैब ड्राइवर ने मिरर एडजस्टमेंट किया और मेरे ऊपर मिरर सेट किया. वो बुड्ढा था करीब 46 साल का. रास्ते में मैंने भी पापा को जलाने के लिए उनसे बातें करनी शुरू कर दी.

मै: आप यहाँ टूरिस्ट प्लेसेस जानते हो भैया?

ड्राइवर: हां बेटी सब जानता हूँ. यही काम है मेरा चाहो तो आपको पूरा गोवा घुमा दू.

मै: हां ये सही रहेगा. लेकिन फर्स्ट डे रिसोर्ट में रुकूंगी. नेक्स्ट डे आपको बुला लूंगी आप आओगे न?

ड्राइवर: अरे बेटी आप बस याद करो किसी भी टाइम हाज़िर हूँ आपके लिए.

मै: वाह आपके जैसा बंदा हो लाइफ में तो बात ही क्या है।

फिर मै थोड़ा सा आगे हुई ताकि उसे क्लीवेज दिखे. पर आपको कॉल कैसे करुँगी. आप नंबर दे दो.

ड्राइवर: हां मैं अपना फ़ोन नंबर दे देता हूँ.

फिर मैंने अपने फ़ोन में डायलर ओपन करके दिया और उसने मेरे हाथो को टच किया. मेरे हाथो के मज़े लिए उसने. फिर उसने नंबर दिया मुझे और नाम मुझे पता नहीं था. तो फ़ोन वापस देते हुए उसने कॉल भी लगा दिया ताकि मेरा नंबर उसे मिल जाये. Papa ne pel diya

मै: भैया आपका नाम क्या है?

ड्राइवर: ज़फर नाम है मेरा.

मै: ओके ज़फर भाई-जान रख देती हूँ.

ड्राइवर: आप जान ही रखो (धीरे से बोलते हुए और अपने लिप्स को बाईट करते हुए बोला).

पापा ने सुना नहीं और वो कॉल पर होटल में बातें कर रहे थे. पर मेरी बातें करने की वजह से उनका मुँह बन गया था और रिसोर्ट में आते ही मैंने ज़फर को बोला-

मै: आप कल आ जाना.

वो फिर नॉटी स्माइल देते हुए बोला: मैं रात को ही आ जाऊंगा और वेट करूँगा. फिर हम दोनों रूम में चले गए मैं और मेरे पापा. आगे की कहानी नेक्स्ट पार्ट में दूँगी.

Read More Sex Stories –

See also  Sasur Bahu Sex Story - बहू की तड़पती जिस्म को ससुर ने चोद कर

Leave a Comment